मुंबई के वर्सोवा कब्रिस्तान में इरफान खान सुपुर्द-ए-खाक

1 min


र्सोवा कब्रिस्तान इरफान खान

मुंबई के वर्सोवा कब्रिस्तान में किया गया इरफान खान सुपुर्द-ए-खाक ,परिवार और करीबी रिश्तेदार ही कर पाए दीदार

बॉलीवुड अभिनेता इरफान के निधन की खबर ने न केवल उनके परिवार बल्कि प्रशंसकों और फिल्म इंडस्ट्री को हिला कर रख दिया है। हर कोई इस अभिनेता के जाने की खबर से शोक में हैं। इरफान खान का बुधवार को मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में निधन हो गया। मंगलवार शाम जब यह खबर फैली कि इरफान को कोकिलाबेन अस्पताल ले जाया गया है तो दरअसल उन्हें अस्पताल के ही कैंसर पेशेंट वार्ड से आईसीयू ले जाया गया था। वह उस वक्त कोमा में थे। लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका।

दोपहर 3 बजे दफनाया गया

वर्सोवा कब्रिस्तान इरफान खान
इरफान के पार्थिव शरीर को मुंबई में वर्सोवा कब्रिस्तान में आज दोपहर 3 बजे दफनाया गया। इस दौरान उनके परिवार के अलावा करीबी रिश्तेदार और दोस्त ही मौजूद रहे। लॉकडाउन की वजह से फैंस को उनके अंतिम दीदार की इजाजत भी नहीं मिल पाई। किसी बॉलीवुड सेलेब्स की भी उनके जनाज़े में पहुंचने की खबर नहीं मिली है।

वर्सोवा कब्रिस्तान में मौजूद उनके करीबियों ने उन्हें अंतिम श्रद्धांजलि दी और उनके निधन पर शोक व्यक्त किया। इरफान के पार्थिव शरीर की तस्वीरें भी उनके फैंस नहीं देख पाए। मौजूदा जानकारी के अनुसार इरफान खान के पार्थिव शरीर को सारी फॉर्मेलिटी पूरी करने के बाद सीधे वर्सोवा कब्रिस्तान ले जाया गया।

अपनी माँ को भी अंतिम समय में नहीं देख पाए

वर्सोवा कब्रिस्तान इरफान खान

Source – Indiatv

इरफान खान का पूरा नाम साहबजादे इरफान अली खान है। उनका जन्म राजस्थान के टोंक जिले में हुआ था। अभी चार दिन पहले ही इरफान की मां का भी निधन हुआ। लॉकडाउन की वजह से वह अपनी मां की अंतिम यात्रा में शरीक नहीं हो पाए थे। इरफान के पिता यासीन खान का काफी पहले ही निधन हो चुका है।

पिछले साल इरफान खान लंदन से न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर का इलाज करवाकर लौटे थे। उन्होने अंग्रेजी मीडियम से दोबारा फिल्मों में एंट्री की थी लेकिन यह फिल्म उनके करियर की आखिरी फिल्म साबित हुई।

अपनी पत्नी के लिया दोबारा जीना चाहूंगा

वर्सोवा कब्रिस्तान इरफान खान

Source – Earnthenecklace

इरफान अपनी पत्नी सुतापा सिकदर से बेहद प्यार करते थे। इरफान और सुतापा की शादी 1995 में हुई थी। इरफान की पत्नी सुतापा सिकदर भी स्क्रीन प्ले राइटर हैं। एक इंटरव्यू में इरफान ने अपनी पत्नी के बारे में बात करते हुए बताया था- वो मेरे लिए सातों दिन 24 घंटे खड़ी रही। मेरी देखभाल की और उनके कारण मुझे बहुत मदद मिली। मैं अभी तक हूं, इसकी वो एक बड़ी वजह है और अगर मुझे जीने का मौका मिलेगा, मैं उसके लिए दोबारा जीना चाहूंगा।

इरफान खान ने अपने लंबे फिल्मी करियर में सलाम बॉम्बे, स्लमडॉग मिलेनियर, द लंच बॉक्स, तलवार, लाइफ़ ऑफ़ पाई, हिंदी मीडियम, ब्लैकमेल, अंग्रेजी मीडियम, पान सिंह तोमर, मकबूल जैसी शानदार फिल्में की हैं।

और पढ़ेंः इरफान खान की ये 5 हॉलीवुड फिल्में साबित करती हैं कि वो बॉलीवुड के लिए एक ‘खजाना’ थे


Like it? Share with your friends!

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये