क्या सोनम गुप्ता बेवफा है?-सुरभि ज्योति

1 min


सुरभि ज्योति ने टी वी सीरियल ,“क़ुबूल है “ नागिन 3 से बहुत नाम कमा रही है। अब ज़ी 5 पर उनकी फिल्म,“ क्या मेरी सोनम गुप्ता बेवफा है? “ बेहद सुर्खियां बटोर रहा है। यह फिल्म एक छोटे गांव की कहानी है। सौरभ त्यागी द्वारा निर्देशित फिल्म 10 सितम्बर को रिलीज़ हुई है सभी को फिल्म  पसंद भी आ रही है। जस्सी गिल और सुरभि ज्योति लीड रोल  में नजर आ रहे है।

तो बताओ कबूल है फेम वाली सोनम पैसे उड़ा रही है कितनी बेवफा है?

वो वास्तव में पैसे उड़ाने जा रही हैं। या वो बेवफा है या नई है उस फिल्म के लिए मुझ पर भरोसा करें आपको कुछ अलग देखने को मिलेगा  क्योंकि फिल्म का शीर्षक है “क्या मेरी सोनम बेवफा है“।इसलिए उन्हें यकीन नहीं हो रहा है कि सोनम बेवफा है या बेवफा नहीं है। इसलिए वे दर्शकों से पूछ रहे हैं।

आपके लिए यह शब्द बेवफा क्या है?

मेरे लिए बेवफा कुछ और है। यानी बेवफाई। मुझे लगता है कि मुझे  झूठ नहीं बोलना है। मुझे लगता है कि किसी से झूठ बोलना बेवफाई है।

ट्रेलर बेहद शानदार और बेहतरीन  लग रहा है। और जसी गिल और तुम दोनों बहुत अच्छा कर रहे हो। कैसा रहा रेपो?

मुझे लगता है कि यह पेशेवर था। वह बहुत सहज व्यक्ति हैं। वह बहुत मेहनती है। और वो बात थोड़ा कम करते हैं इसलिए ज्यादा बातचीत नहीं हुई लेकिन कुल मिलाकर वह ठीक है।

कैसी थी केमिस्ट्री। केमिस्ट्री बहुत अच्छी लग रही है?

हाँ फिर से मैं यही कहूँगी कि वह बहुत मेहनती व्यक्ति है और बहुत ईमानदारी और शिद्दत के साथ ये चरित्र किया है। हमारी कोशिश यही थी कि जो कैरेक्टर की मांग है वो हम अच्छे प्ले कर पाए, अच्छे से कर पाए। और हमने वही किया। और इसलिए जो केमिस्ट्री है लोगों को अच्छी लग रही है यह ख़ुशी की बात है हमारे लिये।

ऐसा नहीं लगता है फिल्म,बरेली “की बर्फी बनी तो उसके बाद अब सभी  (निर्माता/निर्देशक) छोटे गांव  के विषय लेकर अमूमन कहानियां बना रहे है अब?

मुझे ऐसा लगता है कि अगर किसी कहानी की मांग है तो लंदन में होना चाहिए तो एक फिल्म ऐसे बने या 10 फिल्म यह सब आपकी फिल्म की मांग पर निर्भर है। तो अगर कोई बरेली की कहानी हो तो बरेली में बनेगा। उसके बाद

फिल्म,“बधाई हो फिल्म आई थी वह भी फिर से वही परिसर यानी कंटेंट पर थी। एक छोटे शहर की कहानी। अभी छोटे शहर की कहानी है क्योंकि हमारे लिए हर गली में हर घर में एक कहानी है। तो जितनी चाहिए हम उतनी ही फिल्मे बनाना संभव है। और वही कोशिश हमारे डायरेक्टर की भी रही। और बहुत खूबसूरती से हमने इसे शूट किया है और मुझे यकीन है कि आप सबको ये फिल्म अच्छी लगी होगी।

आपको लगता है कि ये छोटे शहर  की कहानी रेलटेब्ल होती है हमारी ओडिन्स के लिए?

जी बिल्कुल, मुझे ऐसा लगता है कि हम कोई क्राइम ड्रामा देखते हैं या कोई आउट एंड आउट हीरो की फिल्म देखते है। जिसमें मनोरंजन बहुत होता है। ये जो छोटी शहर की कहानियां होती है ये सब के दिल के करीब होती है क्यूंकि हर कोई किसी ना किसी कैरेक्टर से या उस चरित्र के किसी ना किसी बात से जुड़ाव महसूस कर पाता है वो मुझे लगता है कि इनका सबसे बड़ा यूएसपी है कि लोग फिल्म से जुड़ेंगे, लोग सोनम से जरूर जुड़ेंगे।

SHARE

Mayapuri