“मेरे लिए मुंबई से बाहर सिलवासा में शूटिंग करना सुखद अहसास से भरा रहा”- तसनीम शेख

1 min


अप्रैल माह में कोरोना की दूसरी लहर के बढ़ते प्रकोप के चलते मुंबई व उसके आस पास फिल्म व टीवी सीरियल की शूटिंग पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी गयी थी। पर इस बार मनोरंजक टीवी चैनलों के सामने ज्यादा दिक्कत नहीं आयी. क्योंकि इस बार इन दो माह में निमार्ताओ ने अपनी पूरी युनिट के साथ महाराष्ट्र से बाहर गुजरात के प्राकृतिक सौंदर्य वाले इलाकों में डेरा डालकर अपने सीरियल की कहानी में एक नया ट्विस्ट देते हुए लगातार शूटिंग करते रहे और दर्शकों का मनोरंजन करते रहें। इसी दौरान राजन शाही अपने सीरियल “अनुपमां” की पूरी टीम को लेकर गुजरात में सिलवासा के सुंदर रिसॉर्ट में लेकर चले गए, जहां वह दो माह तक शूटिंग करते रहे और अब जबकि मुंबई में सीमित समय में शूटिंग करने की इजाजत मिल गयी है, तो पूरी टीम वापस मुंबई आकर मुंबई में शूटिंग कर रही है।

सीरियल ‘अनुपमाँ’ की सिलवासा में शूटिंग दो माह तक चली, मगर अभिनेत्री तसनीम शेख को सिर्फ पंद्रह दिन के लिए ही सिलवासा जाना पड़ा और अब वह भी पूरी टीम के साथ वापस मुंबई आ गयी है। ‘अनुपमां’ की शूटिंग के लिए सिलवासा जाना तो तसनीम के लिए छुट्टी मनाने जैसा रहा। जी हॉ! खुद तसनीम बताती हैं- “मेरे लिए तो यह एक तरह का सुखद ब्रेक भी था, क्योंकि मैं लंबे समय से घर के अंदर कैद थी। ऐसे में शूटिंग के सिलवासा जाना और वहां चारों ओर हरियाली के साथ एक रिसॉर्ट में शूटिंग करना मेरे लिए एक अलग अनुभव रहा। मैंने वहां पर आराम भी किया। कुछ ताजी हवा में सांस ले सकी।

मैंने इसे एक ब्रेक के रूप में लिया और मेरा परिवार भी चाहता था कि मैं शूटिंग पर जाऊं, आराम करूं और तनाव मुक्त होकर वापस आऊं। मुझे आउटडोर शूटिंग में बहुत मजा आया। प्रकृति की गोद में होना अद्भुत था। कभी-कभी ख्याल आता था कि काश मेरा परिवार मेरे साथ होता। मैं सिर्फ 15 दिन के लिए ही सिलवासा गयी थी। पूरे 15 दिन गर्मी की उमस व चंुभन से दूर रही। तो सिलवासा में 15 दिन तक ‘अनुपमाँ’ की शूटिंग करना मेरे लिए काफी यादगार अनुभव रहा। लेकिन अब वापस अपने घर आकर खुश हूँ। क्योंकि मैं घर के माहौल को मिस कर रही थी। अपने प्रिय कुत्ते को मिस कर रही थी। अब मेरे प्रियजनों के साथ रहना अच्छा लग रहा है।”

पिछले दो दशक से अभिनय जगत में सक्रिय तसनीम शेख के लिए सिलवासा में शूटिंग करना सुखद रहा। तसनीम शेख के लिए अपने सह कलाकारों के साथ बातचीत करने व घुलने मिलने का भी सुनहरा अवसर रहा। वह बताती हैं- “सच कहूं तो इस बार आउट डोर यानी कि सिलवासा में शूटिंग करना मेरे लिए काफी फायदेमंद रहा। हमें अपने सह-कलाकारों को बेहतर तरीके से जानने में मदद मिली। अभिनेताओं और यूनिट के पास एक-दूसरे के साथ अधिक समय था और यह निश्चित रूप से अद्भुत था। वहाँ बहुत अच्छा माहौल था, हमने बहुत मजा किया। परिणामतः हमारे बीच इंसानित का बंधन मजबूत होता गया।”

तसनीम आगे कहती हैं- “देखिए, लोकेशन बदलने के साथ ही कहानी में भी हल्का सा बदलाव किया गया, जो कि दर्शकों को अपने साथ जोड़़ने में सहायक हुआ। मुझे खुशी है कि दर्शकों ने इस बदलाव को पसंद किया है और वह अभी भी सीरियल देखने का आनंद ले रहे हैं। अनुपमा एक अलग तरह का सीरियल है। एक कारण से इसने दर्शकों के साथ एक मजबूत बंधन विकसित किया है। हम, एक टीम के रूप में, अपने दर्शकों का मनोरंजन करने के लिए हमेशा तैयार हैं और उनके प्यार और समर्थन के लिए ऋणी हैं।”

सीरियल ‘अनुपमाँ’ की कहानी में आए बदलाव की चर्चा करते हुए तसनीम कहती हैं- “इसमें दिखाया गया है कि काव्या और अनुपमा एक ही घर में रह रहे हैं। जब वह एक साथ होती हैं तो समस्याएँ होती हैं। तो ट्रैक बहुत यथार्थवादी है। संवाद और प्रदर्शन भी अच्छे हैं। फिलहाल राखी दवे किसी भी मां की तरह अपनी बेटी की खुशी, करियर और सेहत को लेकर तनाव में हैं। मुझे यह ट्रैक काफी भरोसेमंद लगता है।”

तसनीम शेख निर्माता को धन्यवाद देते हुए कहती हैं- “उन्होंने अपने अभिनेताओं को बाहरी शूटिंग में सहज बनाने की पूरी कोशिश की। उन्होंने हमें बेहतरीन सुविधाएं, कमरा, खाना दिया, हम एक बड़े परिवार की तरह थे और इस एकता की वजह से मेरा मानना है कि सीरियल इतनी अच्छी टीआरपी पा रहा है वैसे भी ‘डायरेक्टर्स कट प्रोडक्शन की पूरी टीम ही कमाल की है।”


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये