‘‘भूत बनना मुश्किल था..’’- बिपाशा बसु

1 min


बोल्ड, ‘हाॅट, ‘सेक्सी’ अदाकारा बिपाशा बसु के साथ अब ‘हाॅरर क्वीन’ का भी तमगा लग गया है. इस तमगे से वह काफी खुश हैं. इन दिनों वह भूषण पटेल निर्देशित और कुमार मंगत पाठक निर्मित हाॅरर फिल्म ‘‘अलोन’’ को लेकर चर्चा में है, जो कि एक थाई फिल्म का हिंदी रीमेक है.

bipasha_basu_2014-wide-690x431

आप कितनी अलोन हैं?

-मैं अलोन नहीं हूं. मुझे अकेले रहना पसंद भी नहीं है. मैं हमेशा चाहती हूं कि बहुत सारे लोग मेरे साथ रहें. लेकिन मैं अपनी फिल्म ‘अलोन’ को लेकर बहुत उत्साहित हूं. अब तक इसके ट्रेलर को पांच करोड़ हिट मिल चुके हैं. लोग गाने भी पसंद कर रहे हैं. फिल्म का ‘कतरा..’गीत सबसे ज्यादा पसंद किया गया. उसके बाद ‘आवारा..’ गीत लोगों का पसंदीदा रोमांटिक गीत बनता जा रहा है. मुझे ख़ुशी है कि लोगों को फिल्म का ट्रेलर और इसके गाने बहुत पसंद आ रहे हैं.

फिल्म‘‘अलोन’’क्या है?

-यह एक काॅम्पलेक्स/अतिजटिल पे्रम कहानी है. यह संजना और अंजना इन दो जुड़वां बहनों की कहानी हैं, जो कि एक दूसरे से शारीरिक रूप से जुड़ी हुई है. बाद में इन्हे अलग किया जाता है. दोनों एक दूसरे से अलग होते हुए भी एक ही लड़के से प्यार करती हैं. पर कुछ समय बाद एक की मौत हो जाती है. पर वह दूसरे की जिंदगी में मौजूद रहती है. इस तरह दूसरे के जिंदगी में यानी कि पति पत्नी के बीच कहीं न कहीं वह आती रहती है. इस तरह से यह एक जटिल रिश्ते वाली कहानी बन जाती है. निर्देशक ने कहानी बहुत बेहतरीन तरीके से सुनायी है. पति पत्नी के बीच जो रिश्ता होता है, उसको भी बहुत बेहतरीन तरीके से दिखाया गया है. सात साल की वैवाहिक जिंदगी के बाद दांपत्य जीवन आसान नहीं होता है.उसमें कई उतार चढ़ाव आते हैं. इस बात को बहुत अच्छे तरीके से फिल्म में चित्रित किया गया है. कहानी बहुत तेजी से आगे बढ़ती है. इसमें लव, पैशन, लगाव व ड्रामा सब कुछ है.

फिल्म‘‘अलोन’’करने की क्या वजह रही?

-फिल्म की कहानी बहुत रोचक है. एक लंबे समय के बाद मैंने कोई प्रेम कहानी वाली फिल्म की है. पर यह टिपिकल लव स्टोरी वाली फिल्म नहीं है. मैं भी टिपिकल लव स्टोरी वाली फिल्में नहीं करना चाहती. मुझे एजी लव स्टोरी बहुत पसंद है. इसके अलावा इस फिल्म में मुझे दो लड़कियों का किरदार निभाने का मौका मिला, जो कि जुड़वा है. कहानी दो लड़कियों की है. पर एक जिंदा है और एक मरी हुई है. अब तक मैं फिल्मों में भूतों का मुकाबला किया करती थी. पर पहली बार मैं भूत भी बनी हूं. तो यह भी एक चुनौती है. क्योंकि भूत बनना बहुत मुश्किल होता है. दर्शकों को कंविंस करना इतना आसान नहीं होता. इसके अलावा मैंने बिना किसी खास तरह के पहनावे के इस फिल्म को किया है. पर इस फिल्म में मैंने बहुत भयानक अभिनय किया है. मैं खुद इसका ट्रायल देखते हुए डर रही थी.

करण सिंह ग्रोवर के साथ आपने पहली बार अभिनय किया है. उनके साथ केमिस्ट्री बनाना आपके लिए कैसे संभव हुआ?

-देखिए, मैंने बहुत सारे नए कलाकारों के साथ काम किया है. मैं भी कभी नयी थी. मेरे दिमाग में यह बात साफ है कि आप जिस कलाकार के साथ अभिनय कर रहे हैं, उसके साथ पहले दिन से दोस्ती हो जाती चाहिए. तभी परदे पर केमिस्ट्री नजर आएगी. जब आप दोस्त बन जाते हैं, तो शूटिंग के दौरान आने वाली तमाम अनकम्फर्टेबल सिच्युएशन से उभर सकते हैं. हम आपस में हंसते थे. एक दूसरे को जोक्स सुनाते थे. करण बहुत बडा जोकर है. करण भी रणबीर कपूर की तरह हैं. आपको बता दूं कि फिल्म‘बचना ए हसीना’में रणबीर कपूर के साथ मेरा एक किसिंग सीन था और मैं यह सीन नहीं करना चाहती थी. पूरे एक माह तक मैं निर्देशक से इस सीन को हटाने के लिए कहती रही. जबकि रणबीर कहता था कि उसने महज इसी सीन के लिए फिल्म साइन की है. उसने इस तरह के मजाक कर करके इस सीन को फिल्माने से पहले बहुत कुछ आसान कर दिया था.

फिल्म‘‘अलोन’’के निर्देशक भूषण पटेल को लेकर क्या कहेंगी?

-भूषण पटेल उन निर्देशकों में से हैं, जो कि कहानी, पात्र और कलाकार की प्रतिभा का बेहतरीन सामंजस्य बनाकर चलते हैं.

कहा जा रहा है कि ‘अलोन’ आपके कैरियर की सबसे बड़ी बोल्ड फिल्म है?

-‘अलोन’की कहानी एक प्रेम कहानी है. लड़का, लड़की के बीच भूत भी है. मैं भी इसे अब तक की सबसे बोल्ड फिल्म मानती हूँ.

आपने कई हाॅरर फिल्में कर ली. तो अब आपको भूत प्रेत से भी प्यार हो गया होगा?

-जी नहीं!मुझे तो निजी जिंदगी में भूत प्रेत से बहुत डर लगता है. मैं घर की सभी लाइटे जलाकर सोती हूँ. मगर जब लोग मुझे ‘हाॅरर क्वीन’बुलाते हैं, तो मुझे अच्छा लगता है.

इन दिनों आपकी समकालीन अभिनेत्रियां सौ या दो सौ करोड़ क्लब वाली फिल्मों का हिस्सा बन रही हैं और अप उनसे अलग ..?

-मैने हमेशा लीक से हटकर काम किया है. मैं कभी किसी चूहा दौड़ का हिस्सा नहीं बनी. मैं पहली अदाकारा हॅूं, जिसने फिल्म‘अजनबी’में नगेटिब किरदार निभाया तथा मुझे एक नयी पहचान मिली. इसके बाद दूसरों ने भी नगेटिब किरदार निभाना शुरू किया. मैंने एडल्ट प्रेम कहानी प्रधान फिल्म ‘जिस्म’में अभिनय कर एडल्ट प्रेम कहानी वाली फिल्म में अभिनय का सिलसिला शुरू किया. मैंने मैंनस्ट्रीम में काम कर रही अभिनेत्रियों को बताया कि सेक्सी अभिनेत्री का टैग फायदेमंद होता है.

लिंक अप की खबरों पर कैसे रिएक्ट करती है? करण सिंह ग्रोवर के साथ भी…?

-लिंक अप की खबरें कहां कहां से आती है,यह बात मुझे समझ में ही नहीं आती.मगर लोग क्या कहते हैं, मैं इसकी परवाह नहीं करती. करण सिंह ग्रोवर व भूषण पटेल मेरे अच्छे दोस्त हैं. हम तीनों की दोस्ती फिल्म ‘अलोन’की शूटिंग शुरू होने के दूसरे दिन से ही पक्की हो गयी थी. हम साथ में खाना खाते थे. शूटिंग पैकअप होेने के बाद साथ में ही वर्कआउट करते थे. इतना ही नहीं डिनर के लिए पूरी युनिट एक साथ इकट्ठा होती थी. भूषण पटेल और करण सिंह ग्रोवर की सबसे बड़ी खासियत यह है कि वह सामने वाले को प्रभावित करने के लिए कोई काम नहीं करते. दोनों बहुत ईमानदार हैं. उनकी बातों में या कार्यशैली में कही कोई बनावट नजर नहीं आती. मुझे भी ईमानदार लोग बहुत पसंद हैं. अब इसे लोग लिंक अप की खबर की तरह प्रचारित करें, तो मैं क्या कह सकती हूं.

आप बडे़ स्टारों के साथ कोई फिल्म क्यों नहीं करती हैं?

-मैंने बडे़ स्टारों के साथ एक फिल्म ‘हमशकल्स’की थी, जो कि मेरी जिंदगी की सबसे बड़ी हाॅरर फिल्म बन गयी. फिल्म फ्लाॅप भी हो गयी. इस फिल्म को लेकर निर्देशक के साथ मेरी कुछ अनबन भी हुई थी. क्योंकि उसने जिस ढंग से कहानी सुनायी उस ढंग से बनाया नहीं था. मैं अपने आपको एक बुद्धिमान लड़की मानती हूं. और अपनी गलतियों से हमेशा सीखती हूं.

अपने कैरियर को किस दिशा में ले जाना चाहती है?

-मैं एक भूखी कलकार हूं. मेरे अंदर हर फिल्म में कुछ नया और अनूठा तथा अति बेहतरीन किरदार निभाने की चाह रहती है. में उन फिल्मों का हिस्सा कभी नहीं बनना चाहती, जिन्हे दर्शक नहीं मिलते. मुझे सिर्फ कलात्मक संतुष्टि नही चाहिए. मेरे लिए कलात्मक संतुष्टि वह है, जो लोगों को भी पसंद आए.

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये