दी आइटीए अवॉर्ड्स में टीवी सितारों की धूम मची

1 min


पिछले उन्नीस सालों से टीवी इंटस्ट्री में हर साल एक जश्न की रात आती है, जिसमें सितारों की वो जगमगाहट होती है कि आँखें चुंधिया जाएँ। ये शाम है, ‘दी आइटीए अवॉर्डस‘… (इंडियन टेलिविजन अकैडमी‘ द्वारा स्थापित ये अवॉर्डस टीवी की बिरादरी में अंतहीन आनंद का एक ऐसा त्योहार लेकर आते हैं, जिसका यहाँ सभी को बड़ी बेसब्री में इंतजार रहता है।

हर साल नवंबर महीने के आते-आते एक तारीख तय होती है और ये खबर पूरी इंडस्ट्री में खुशियों की लहरें ले आती है। फिर उस तयशुदा दिन ‘आइटीए अवॉर्ड्स’ के रेड कार्पेट” पर सितारों और दूसरे खास मेहमानों के रेले पर रेले उमड़ते चले आते हैं। भीतर घुसते ही लगता है, मानो एक स्वप्न-लोक सामने खुल गया हो… वो विशाल- या कहें कि विराट- मंडप, रंग-बिरंगी रौशनियों में नहाया हुआ, ऐसे दमक रहा होता है जैसे कि अचानक दीवाली आ गई हो- और वहाँ कुर्सियों की वो कतारों पर कतारें फैली चली गई हैं और जिधर देखो सर ही सर नजर आते हैं- अब जब पाँच-पाँच हजार की भीड़ इकट्ठा होगी तो ये तो होना ही है।

और उधर सामने लगा होता है एक भव्य ‘सेट‘, जिसे देखनेवाले देखते रह जाते हैं। हर ‘सेट‘ की एक ‘थीम‘ होती है- कभी मिस्र के पिरामिड, कभी इंडिया की वास्तु-कला के वो नमूने, जो आपको हैरत में डाल दें, और कभी गौतम बुद्ध की विराट प्रतिमा- ‘आइटीए अवॉर्ड्स‘ का सेट” एक चमत्कार से कम नहीं होता! और जब इस चमत्कार से सितारों की चकाचैंध हो जाती है, तो वो होश उड़ा देनेवाले पल देखनेवालों की यादों में हमेशा-हमेशा के लिए बस जाते हैं। “आइटीए अवार्ड्स! के पहले ही साल जहाँ मेहमान कलाकार अद्नान समी ने पियानो पर अपनी बिजली से तेज उंगलियाँ चलाते हुए दर्शकों को हैरत में डाल दिया, वहीं शेखर सुमन, मंदिरा बेदी और राकेश बेदी ने अपने ‘स्पूफ‘ से ठहाकों का एक तूफान बरपा कर दिया था। लेकिन सनसनी फैला देनेवाला लम्हा तो तब आया जब उस समय के पच्चीस सबसे बड़े सितारों ने फारा खान के निदेशन में “आइटीए थीम साँग‘ पर नाचते हुए एक ऐसा समाँ बाँधा, जो शायद ही कभी भुलाया जा सके।

वो 2009 का साल था और तबसे अब तक “आइटीए अवार्जज‘ में हुई हर परफार्मन्स एक यादगार बन के रह गई है। अपने-अपने समय के शीर्ष सितारों ने ‘आइटीए अवाॅर्ड्स‘ की स्टेज पर अपने जलवे बिखेरे हैं, फिर चाहे वो रोनित राय, रोहित राय, श्वेता तिवारी और मोना सिंह हों या फिर उनके बाद आते चले गए दीपिका सिंह, मौनी राय, करणवीर वोहरा, आमिर अली-संजीदा शेख, मोहित मलिक, क्रिस्टल डीसूजा, गुरमीत चैधरी, शरद केलकर, सृति झा, धीरज धूपर जैसे सूपर स्टार्ज हों- सबने ही “अवार्दज सेरिमेनी‘ में अपनी कला की धूम मचाई है।

खासकर सुशांत सिंह, जिनकी शुरूआत ‘टीवी‘ में हुई थी और आज जो बड़े पर्दे की एक मानी हुई हस्ती हैं, ने यहाँ जब अपने डांस-स्टेप्स की आँधी लाई थी, तो हर आँख झपकना भूल गई थी।

इन सबके अलावा कभी-कभी अतिथि कलाकारों ने भी अपनी कला से ये चार चाँद लगाए हैं, जैसे कि इंटरनैशनल सेन्सेशन, टाटा यंग”, या फिर डांस-गुरु श्यामक डावर और इन दिनों वेब‘ सीरीज, ‘फितरत” से हंगामा बरपा देनेवाली अनुष्का रंजन! और इस बार ये चाँद लगेंगे इंदौर” में, क्यूँकि इस बार “आइटीए अवार्ड्स‘ को मध्य प्रदेश सरकार प्रस्तुत कर रही है… और यकीन मानिए, अबकी बार वो थमाका होने जा रहा है, जो पहले कभी नहीं हुआ!

इस उन्नीसवें साल में जहाँ “अवॉर्ड सेरेमनी‘ कृष्णा अभिषेक, कीकू शारदा और आदित्य ऐन्कर कर रहे हैं, वहीं झूमते बलखाते हुए टीवी के चोटी के सितारे स्टेज पर अपना जादू जगानेवाले हैं… जैसे कि आशीष शर्मा (रंग रसिया), गौतम रोड़े (सरस्वतीचन्द्र), शिवांगी जोशी (ये रिश्ता क्या कहलाता है), मोहित मलिक (कुल्फी कुमार बाजेवाला), अश्नूर कौर (पटियाला बेब्ज), शुभांगी अत्रे पुरे (भाभीजी घर पर हैं), समीक्षा जैसवाल-अर्जित तनेजा (बहू बेगम), मुदित नायर (इशारों इशारों में) और दूसरे कई दिग्गज कलाकार, जो दर्शकों के दिलों की धड़कन बन चुके हैं। टीवी इंडस्ट्री में बेचेनियाँ और जोश उफान पर हैं… और क्यूँ न हॉ- छोटे पर्दे के सबसे बड़े जश्न की आमद जो होनेवाली है। यकीन मानिए, ये जश्न यादों से कभी मिटाया नहीं जा सकेगा- ये अटल है…!

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज FacebookTwitter और Instagram पर जा सकते हैं.

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये