महात्मा गांधी के नाम का पुरस्कार मिलना गौरव की बात –प्रदीप सरदाना

1 min


पत्रकारिता क्षेत्र में किए गए अपना असाधारण योगदान के लिए वरिष्ठ पत्रकार और प्रसिद्ध फिल्म समीक्षक प्रदीप सरदाना को, ‘महात्मा गांधी राष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया। विगत लगभग 45 वर्षों से लेखन, पत्रकारिता और काव्य की दुनिया में सक्रिय प्रदीप सरदाना जहां ‘पुनर्वास’ के संपादक हैं। वहाँ वह देश के कई प्रमुख और प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों के साथ प्रिंट, इलेक्ट्रोनिक और ऑनलाइन जैसे पत्रकारिता के तीनों माध्यमों से भी प्रमुखता से जुड़े हैं। साथ ही सिर्फ 17 वर्ष की आयु में देश के सबसे कम उम्र के संपादक होने और उसके बाद देश में टेलीविज़न पर सबसे पहले नियमित पत्रकारिता शुरू करने का गौरव भी प्रदीप सरदाना को प्राप्त है।

‘इंटेरनेशनल चैंबर ऑफ मीडिया एंड इलेक्ट्रोनिक’ द्वारा ‘वैश्विक पत्रकारिता उत्सव’ के दौरान, इस प्रतिष्ठित सम्मान को ऑनलाइन प्राप्त करने के बाद श्री सरदाना ने कहा- “महात्मा गांधी राष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार’ पाना मेरे लिए निश्चय ही गौरव की बात है। गांधी जी ने देश को स्वतंत्र कराने में तो अहम भूमिका निभाई ही साथ ही ‘यंग इंडिया’ और ‘हरिजन’ जैसे समाचार पत्रों का सम्पादन करके, पत्रकार और पत्रकारिता को भी गौरव दिलाने में उनकी विशिष्ट भूमिका रही” 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये