‘‘अपनी फिल्म ‘लाइफ इज गुड’ देख कर रो पड़े जैकी श्राफ’’

1 min


pro, anand shukla, ravi vasvani, jacki shroff

हाल ही में जैकी श्राफ अपनी फिल्म‘ लाइफ इज गुड’ देखने के बाद इस कदर इमोशनल हो गये कि उनसे बात तक नहीं की जा रही थी । इसलिये वे फिल्म देखकर ज्यादा बात न करते हुये थियेटर से जल्दी चले गये । दरअसल निर्माता आनंद शुक्ला ने अपनी फिल्म ‘ लाइफ इज गुड’ का एक फर्स्ट ट्रायल शो वर्ली स्थित नेहरू सेंटर में फिल्म की  कास्ट एंड क्रू के लिये रखा । फिल्म देखते हुये जैकी इतने इमोशनल हो गये कि उन्हें फिल्म में इस कदर इन्वाल्व देख फिल्म का मध्यातंर भी नही किया।  फिल्म खत्म होने के बाद कितनी ही देर जैकी गुमसुम खड़े रहे । उसके बाद उनके मुंह से निकला क्या फिल्म बनाई है बाप । यकीन नहीं होता ।

ravi vasvani,jacki shroff, dir. anant mahadevan or,,,,,
इस फिल्म के निर्देशक हैं अंनत महादेवन । लेखक  सुजीत सेन द्वारा लिखित कहानी जो एक हद उनकी अपनी कहानी है  पर बनी ये फिल्म एक अधेड़ शख्स और छे साल की बच्ची की दोस्ती से शुरू होती है । अगर कहानी को वन लाइन में कहा जाये तो एक शख्स अपनी मां से इतना प्यार करता है कि इस डर से वो शादी तक नहीं करता कि कहीं कोई उसकी मां से उसे अलग ने कर दे ।एक दिन मां मर जाती है तो मां के वियोग में वो भी आत्म हत्या करना  चाहता है । लेकिन उसे एक छे साल की बच्ची मरने से तो बचाती ही  है साथ उसे जिन्दगी जीने के मायने भी सिखाती है । उस अधेड़ शख्स की भूमिका जैकी श्राफ ने निभाई है । तथा छे साल से बीस साल तक भूमिकायें क्रमश: सानिया और अंकिता ने निभाई है । फिल्म में मोसी की भूमिका में सुनीता है तथा छोटी छोटी भूमिकाओं में मोहन कपूर तथा दर्शन जरीवाला ने बहुत ही प्रभावशाली काम किया है । जंहा तक जैकी की बात की जाये तो उनके कॅरियर की ये बेस्ट फिल्म साबित होने वाली है  शायद इसीलिये जैकी अपना ही काम देखकर स्तब्ध थे । फिल्म के पहले ही ट्रायल में आर्टिस्टों और फिल्म देखने आये महमानो के जबरदस्त रिस्पांस को  देखकर निर्माता आनंद शुक्ला गदगद है । वैसे भी आनंद तथा अनंत महादेवन यथार्थवादी सिनेमा को बढ़ावा देने के लिये ऐसी फिल्म बनाने के लिये प्रषंसा के पात्र है ।  ‘लाइफ इज गुड’ जल्दी ही सिनेमाघरों में दिखाई देगी ।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये