जावेद अख्तर ने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के दावे पर उठाया सवाल

1 min


जाने माने लेखक और गीतकार जावेद अख्तर ने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उस दावे पर सवाल उठाया है की जिसमे कहा गया है कि मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक से मसले पर निकाहनामे के वक़्त ही अपनी राय जाहिर करने की अनुमति दी जाएगी। बोर्ड ने उच्चतम न्यायालय के समक्ष लाक पेश अपनी दलील में कहा था की वह निकाहनामे में ऐसा प्रावधान जोड़ेंगा जिसमे मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक पर न कहने की इजाजत मिल सकेगी। श्री जावेद ने कहा कि यह दावा बेतुका है की निकाहनामे के समय काजी वधु से तीन तलाक पर उनकी राय लेगा। उन्होंने कहा की यह भी अच्छी तरह से पता है कि ऐसे अवसर पर वधु खुलकर अपनी राय नहीं दे पायेगी। जावेद अख्तर इससे पहले भी मुस्लिम लॉ बोर्ड के उस बयान पर भड़के थे जिसमे कहा गया था की तीन बार तलाक कहकर अपनी पत्नियों को छोड़ने वालों का मुस्लिम समाज में बहिष्कार किया जान चाहिए।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये