मेरे कोई लिंकअप्स नही- जिम्मी शेरगिल

1 min


जिम्मी शेरगिल  का करियर 1996 में गुलज़ार साहेब की फिल्म, ‘माचिस’ फिल्म से शुरू हुआ। यह पंजाब के टेररिज़्म पर बनी बहुत बढ़िया फिल्म थी रही। क्रिटिक ने भी इस फिल्म की ढेर सारी तारीफ की थी। जिम्मी आदित्य चोपड़ा की  फिल्म, ‘मोहब्बतें’ से  प्रसिद्धि भी हासिल की । किन्तु इनका करियर कुछ खास परवान नहीं  चढ़ पाया। खेर आज जिम्मी कुछ अलग अलग किरदारों में नजर आ रहे है। अभिनेता तो बहुत ही बेहतरीन है जिम्मी, अब  बॉलीवुड और पंजाबी फिल्मों में अपनी सही धाक बनाये बैठे है। जिम्मी  की फिल्म, ‘तनु वेड्स  मन्नु’ से इनकी छवि कुछ अलग हुई। इस फिल्म को हालांकि कंगना की फिल्म माना  जाता  है। किन्तु जिम्मी का दमदार अभिनय भी सभी को बहुत पसंद आया। अब जिम्मी के पास पंजाबी ,हिंदी फिल्में  और कई सीक्वल फिल्मों में काम कर बहुत ही बिजी है जिम्मी। जहाँ  वह ‘मुक्केबाज़’ में नजर  आये  तो वही ‘वीरे की वेडिंग ‘में भी अच्छा खासा किरदार करते  हुए नजर आएंगे है। आगे उनकी फिल्म संजय दत्त के साथ तीसरी सीक्वल, ‘साहिब बीवी’ और ‘गुलाम’ में नजर आने वाले है।

जिम्मी शेरगिल के  साथ  लिपिका वर्मा की पेशकश

 क्या आप अपनी इस सेकंड इनिंग्स में आयी फिल्म, ‘तनु  वेड्स मन्नू’ को टर्निंग पॉइंट मानते है ?

नहीं जी नहीं ! मेरी अभी पहली ही इनिंग्स चल रही है मैडमजी। अभी दूसरी कहाँ शुरू हुई। पहली खत्म होगी तभी न दूसरी भी शुरू होगी।  अरे! भई हम लोग तो मजदूर लोग है। काम करते रहना ही हमें रास आता  ही। हाँ, कुछ 8 महीनो  के लिए मैं बिस्तर से लग गया था, पर अब ईश्वर की कृपा से ठीक हूँ और काफी फ़िल्में कर रहा हूँ। जहाँ मेरी ‘मुक्केबाज़’ हाल ही में रिलीज़ हुई वही ‘वीरे की वेडिंग’ रिलीज पर है। ‘साहेब बीवी और गैंगस्टर’ भी संजू के साथ कर रहा हूँ। पंजाबी फिल्म, ‘दाना पानी’ की शूटिंग हाल ही में  कर के वापस आया हूँ। दरअसल मैं बहुत अतरंगी किरदार करता रहता हूँ। जहाँ कुछ नयी फिल्मों के लिए समय निकलना  मुझे अपनी सेक्वेलस के लिए ही समय देना होता है। सो समय ही नहीं बचता है। 

दत्त के साथ, ‘साहेब बीवी गैंगस्टर’ के साथ काम किया कुछ बतलाएं इस फिल्म के बारे में ?

पहली सीरीज में गैंगस्टर का किरदार रणदीप हूडा ने निभाया था। दूसरी में गैंगस्टर का किरदार -इरफ़ान खान ने निभाया था । और अब तीसरी सीक्वल में संजू बाबा गैंगस्टर बने है। अपनी फिल्म ,”वास्तव” में भी  संजू  ने गैंगस्टर का रोल किया था। लेकिन  मैं आप को बदला दूँ इस फिल्म में वह बहुत ही बेहतरीन गैंगस्टर का किरदार निभा रहे है। लोगों को उनकी छवि बहुत अलग दिखलाई देगी। निर्देशक तिग्मांशु धूलिया उन्हें बहुत ही अलग किस्म से पेश कर रहे है। और बाकि माही गिल और साहिब दोनों है फिल्म की कहानी वहीं से शुरू होगी जहाँ से खत्म हुई थी दूसरे सीरीज में। बीवी पावरफुल बन चुकी है राज पाठ  संभाल रही है। और साहिब अपनी जेल के चक्र में लगा है।  जेल में उसका अपना  अलग अजेंडा है । इस में संजय का किरदार सबको अलग और अच्छा लगेगा। फिल्म बड़ी बनी है पिछली दो सीरीज से।

संजय दत्त के साथ सेट पर बिताये पल  हमसे शेयर कीजिए ?

संजय दत्त से मिलना का मौका  कई सालों बाद मिला है। मुन्ना भाई और लगे रहो मुन्ना भाई में काम करने के बाद मैंने उनके साथ फिल्म, ‘एकलव्य’ में भी काम किया। हम अपने  पागलपन के पल हमने इन फिल्मों में बिताये थे उन्हें याद कर बहुत हँसे। संजय दत्त बेहतरीन कलाकर के साथ-साथ एक अच्छे आदमी भी है। वह सबको सेट पर बहुत हेल्प भी करते है। खासकर अपने कर्मचारियों से उनका बहुत ही सहनशील व्यहवार रहता है। 

जिम्मी का व्यक्तित्व चॉकलेटी है, ‘मोहब्बतें’ में भी ऐसा  किया, किन्तु अब विलन का किरदार कर रहे है कुछ कहना चाहेंगे ?

मैंने कभी ऐसा सोचा नहीं है। बस अच्छे किरदार और अच्छी फिल्म होनी चाहिए। बतौर अभिनेता मैंने कभी कैमिया भी स्वीकार नही किया है। खासकर  अपने मित्रों  की फिल्मों में ज्यादा कैमियो किये है। इन किरदारों  मै भी यही  कोशिश करता   हूँ कि कुछ ऐसा कर जाऊँ  जो लोगों को पसंद आये। सो यदि रोमांटिक किरदार मिले या फिर विलन टाइप हो पर कुछ करने के लिए हो तो उसे जरूर करने के लिए हामी भर देता  हूँ।

आपको फिल्म इंडस्ट्री ने इतना कुछ दिया है, आप क्या देना चाहेंगे ?

हम एक्टर है क्या दे पाएंगे? बस हम ईमानदारी से अपना काम करते है यही  हमारी पूंजी है। लोग इसे ही याद करते है। यह फ़िल्मी दुनिया तो इतनी बड़ी है हम अपनी एक्टिंग द्वारा ही  लोगों के दिल में अपनी छाप छोड़ सकते है। और इसके इलावा हमारा कुछ ही देना सागर में बूँद की तरह नजर आएगा। 

आपके कभी लिंकअप्स नहीं सुनने में आये ?

देखिये मुझे जब भी समय मिलता है अपने परिवार  के साथ  ही समय बिताना पसंद करता हूँ जब में घर से बाहर झांकता ही नहीं हूँ और घर से बाहर ज्यादा जाता भी नहीं हूँ तो लिंकअप्स कैसे होगा। और किसी  भी रिश्ते में हम यदि दोस्त की तरह ज्यादा समय बिताये तो हमे कुछ भी बोलने के लिए तीसरे आदमी की जरूरत भी नहीं होती है। मेरा एक 14 वर्षीय  बेटा भी है और जब भी समय मिलता है वो लोग भी मेरे साथ शूटिंग पर चले आते है। इसी वजह से हम साथ साथ समय बिता पाते है।

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज Facebook, Twitter और Instagram परa जा सकते हैं.

SHARE

Lipika Varma