जितेन्द्र हेमा – शादी की खुश्बू

1 min


hqdefault

 

मायापुरी अंक 11.1974

जितेन्द्र की शादी से कुछ दिन पहले की घटना है। हम फिल्मिस्तान स्टूडियो गये। ‘खुश्बू’ की शूटिंग चल रही थी। सेट पर हेमा मालिनी और जितेन्द्र दोनों उपस्थित थे। हमने जितेन्द्र से पूछा, “अब हेमा के साथ काम करना आपको कैसा लगता है? मेरा मतलब है…उस शादी-कांड के बाद आप हेमा के साथ काम करते समय कुछ हीन-सा महसूस नही करते ? जितेन्द्र हेमा (मतलब हंसने का अभिनय किया) और बोला, शादी की खुश्बू तो उड़ उड़ा गई, अब तो गुलजार की ‘खुश्बू’ बाकी है इतना कह कर जितेन्द्र ने हमारी नकल उतारी, मेरा मतलब है, शादी-कांड की खुश्बू-खुश्बू का मतलब निकालने की कोशिश ही कर रहा था कि जितेन्द्र ने शोभा-सिप्पी से शादी कर और भी खुश्बू उड़ा दी।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये