‘मुझे पैसों का हिसाब रखना नहीं आता’

1 min


अति सिंपल, सुंदर सहनशील एवं सजक – जूही चावला ने दुनिया में  50 वर्ष तो पूर्ण कर ही लिए है किन्तु साथ ही फिल्मी दुनिया में भी  लगभग 26/27  वर्ष पूरे कर लिए है। जूही ने फिल्म,”सल्तनत” से सन  1982 में अपना फ़िल्मी  सफर शुरु किया था.फिल्म “क़यामत से क़यामत” आमिर खान के साथ इनकी जोड़ी को खूब सराहा गया था, इस फिल्म ने  बॉक्स ऑफिस पर धुआँधार सफलता देखी  थी बस जूही का बॉलीवुड  से बहुत ही अच्छा रिश्ता रहा है। सही समय पर एक बहुत ही मिलिनियार गुजराती बिज़नेसमेन  से शादी कर आज वह दो बच्चो की मां है। बेटी जाहन्वी और बेटा अर्जुन दोनों ही इस समय  अपनी अपनी शिक्षा पूर्ण कर रहे है। …साथ-साथ सोशल काम भी बहुत कर रही है जूही।

हाल ही में एक एपिक चैनल के लिए वॉयस ओवर देने में व्यस्त जूही से  जब हम मिलने पहुंचे तो अपनी व्यस्तता के बावजूद डबिंग स्टूडियो से बाहर निकल कर आयी और सरलता से बोली -,”मुझे तो अभी लगभग एक घंटा  लगेगा ही !” हमने भी कह दिया। ….आपका और हमारा  समय  ठीक 6 बजे (निर्धारित)  समय पर ही शुरू  होगा।” कुछ एक 2 घंटे के बाद  जैसे ही जूही  बाहर आई  बहुत ख़ुशी से हमें अपनी गाड़ी में बैठा कर  बातचीत करना  शुरू कर  दिया। बस वही फ्री समय था उनके पास, क्योंकि घर पर भी एक बहुत जाने-माने निर्माता से भेंट का समय निर्धारित किया गया था।

पेश है जूही चावला से लिपिका वर्मा की एक अन्य भेंटवार्ता –

एपिक  चैनल, में आप  केवल वॉयस ओवर ही दे रही है ऐसा क्यों?

देखिए, यह सब मंदिरों से जुड़ा हुआ  एक ट्रेवल शो है। हंस कर बोली मुझे तो सारे मंदिरों में  जाकर और कमरे के सामने भी काम करने की मांशा थी, किन्तु इनके पास बजट ही नहीं था। खेर मैं बहुत खुश हूँ, इन  सारे मंदिरों के बारे में  मुझे वॉयस ओवर द्वारा ढेर सारी जानकारी देनी है। इससे मेरा खुद का भी बड़ा फ़ायदा हुआ है। मुझे इन सब मंदिरों के बारे में थोड़ी बहुत तो जानकारी थी ही, किन्तु और बहुत जानकारी मिल गयी है।

आज भी आप बहुत काम कर रही  है। कितनी सन्तुष्टि मिलती है आपको?

आज, जीवन के इस पढ़ाव पर भी मैं व्यस्त हूँ यह मेरे लिए अच्छी बात है। हाल ही मैं मैंने अपनी कंपनी में बतौर बोर्ड मेम्बर ज्वाइन किया है। वहां जब भी में जाती हूँ तो सारे पेपरों की बराबर से जाँच पड़ताल करती  हूँ। मुझे पैसों का हिसाब रखना नहीं आता है। क्योंकि में क्रिएटिव हूँ और नंबर की गिनती भूल जाती हूँ। नंबर मुझे बराबर याद  भी नहीं रहते है।

सोशल फ्रंट पर भी आप बहुत कुछ कर रही है कुछ शेयर इस बारे में कुछ बताए ?

ईशवर की शुक्रगुजार हूँ की उन्होंने मुझे इतना कुछ दे दिया है इस जीवन में। सो में कही भी उनसे कुछ भी नहीं मांगती। इस बात से ख़ुशी मिलती है कि ईश्वर ने मुझे मानव जाति  के लिए कुछ करने के लिए प्रेरित किया है। और तो और में अपनी इच्छानुसार वही काम चुनती हूँ जो मुझे करने में आनंद देता है। जबसे मुझे  प्लास्टिक से जुड़े हानिकारक केमिकल्स के बारे में पता चला है तब से मुझे कही भी लेक्चर देने का मौका मिले तो इस बारे  में लोगों को जरूर अवगत करवाती हूँ। अब देखिये न प्लास्टिक मच्छलियों के बेट में  जाता है। नादियों  में बह कर सादियों  तक मानवजाति के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। सो इस प्लास्टिक का सेवन हमें  बिलकुल बंद कर देना चाहिए। पोरबंदर में  ,”आर्य कन्या गुरुकुल” है जिसमें में काफी वर्षों से  हूँ। यह हमारा ही गुरुगुल है।

इसमें लगभग 2000 कन्याएं पढ़ती है। पहले यह केवल गुजराती माध्यम ही था। किन्तु अब इसे हमने हिंदी एवं इंग्लिश माध्यम भी कर दिया है। इसके लिए हम कुछ बदलाव ला रहे है सो अपने जन्मदिन के बाद कुछ दिनों के लिए गुजरात जाउंगी। और वहां पर जो हमारी कंपनी है उससे जुड़ी चंगेस भी देखने एवम वहां के करम कहरियों को बधाई देना होगा – उन्होंने 5000 पेड़ लगा दिए है। यह मैंने उन्हें पिछली बार कहा था और सबने बहुत मेहनत  भी की है। इन्ही सब चीज़ में इतना व्यस्त रह जाती हूँ की दिनचर्या में यदि 6 काम पूर्ण करने का वादा लिए हो तो मुश्किल से 3/4 काम ही पूरे हो पाते  है। पर मुझे यह सब करने का मौका दिया है ईश्वर ने सो अत्यंत  प्रसन्ता मिलती है मुझे यह सब काम करके। हमारे गुरुकुल में (स्कूल) पुराने ज़माने  की तरह ही प्रातः एवं संध्याकल, “हवन” से  होता है।

आपकी कन्नड़ फिल्म टेन ऑन  टेन कब रिलीज होगी ?

टेन ऑन टेन  एक बहुत ही बेहतरीन बच्चों पर आधारित फिल्म है। हाल ही में हैदराबाद में एक फिल्म फेस्टिवल में दिखायी गई। इसमें मेरा एक कैमिया रोल है।

इस वर्ष हाल ही में अपना जन्मदिन मनाया आपने  अपने। बच्चों से और पति से क्या गिफ्ट (भेंट) मिलें है आपको?

देखिये बच्चे जब छोटे-छोटे होते है  तो कार्ड्स इत्यादि बनाकर मुझे सरप्राइज देते थे किन्तु अब तो कुछ ही देते है। पर हाँ, प्यार तो करते ही है.मैंने इस वर्ष एक पैक्ट बने है। हम चारो फैमिली मेम्बर्स में जय (पति) और बच्चे दिसंबर माह में गोल्डन टेम्पल जाएंगे। और हर वर्ष जब भी मेरा जन्मदिन होगा हम सब किसी न किसी मंदिर के दर्शन करने जाएंगे।

हिंदी फ़िल्में भी कर रहे होंगी आप। कौन कौन सी है ?

बहरहाल में आज ही एक प्रोड्यूसर  के साथ  एक फिल्म फाइनल करने जा रही हूँ। अभी वह घर पर बैठे है। इसमें मेरा अच्छा किरदार है। फिल्म की स्क्रिप्ट पढ़ी तो बेहद पसंद आयी अत हामी भर दी। मेरे साथ अनिल कपूर जी है यह एक मजेदार फिल्म है और किरदार भी लवली एवं फनी है।

सुना है हाल फ़िलहाल में शाहरुख़ की फिल्म भी शूट की है आपने ? डिटेल्स बताएंगी हमें?

जी हाँ! इसी बहाने मेरी शाहरुख से भेंट भी हो गई। यह  आनंद एल राय की फिल्म है। शाहरुख़ खान  जब भी मेरे  घर आने का वादा  करते है, तो वह चार घंटे लेट ही पहुँचते है। वह बस यूं ही मेरी हंसी उड़ाते है कि में जल्दी सो जाती हूँ.  अरे भाई ! यदि तुम समय से चार घंटे लेट आओगे वह भी रात में – 2 बजे….  तो में सो ही जाउंगी न? सो वह जय (मेरे पति) से भेंट करके और डिस्कशंस करके चले जाते है।

हाँ तो यह फिल्म में शाहरुख़ ने कहा कि, “तुम भी आ जाओ, एक दो दिन  का ही शूट है। ” सो में शूटिंग पर चली गयी। इसमें कुछ और भी अभिनेता है। अब आप मुझसे सारी  डिटेल्स न मांगे। शाहरुख़ गुस्सा हो जायेगे (हंस कर बात काट दी)


Like it? Share with your friends!

Lipika Varma

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये