‘‘के सी बोकाडि़या अति अनुभवी निर्देशक हैं’’ – मल्लिका शेरावत

1 min


लगभग 12 साल पहले ‘ख्वाहिश ’जैसी ‘सी’ग्रेड फिल्म में 17 चुंबन दृश्य देकर अपने अभिनय करियर की शुरूआत करने वाली मल्लिका शेरावत अब अपनी नई इमेज गढ़ने को आतुर हैं.जी हाॅ! कभी अपने आपको बोल्ड अभिनेत्री कहलवाने वाली मल्लिका शेरावत अब एक संजीदा अदाकारा के रूप में अपनी पहचान बनाना चाहती हैं. बहरहाल, अब वह निर्माता निर्देशक के सी बोकाडि़या की फिल्म‘‘द डर्टी पाॅलीटिक्स’’में साड़ी पहने हुए नजर आने वाली हैं. पर इसका यह मतलब नहीं है कि‘डर्टी पॉलीटिक्स’में मल्लिका शेरावत ने इंटीमेट सीन नहीं किए हैं.mallika

‘‘डर्टी पाॅलीटिक्स’’का अॉफर मिलने पर आपके दिमाग में सबसे पहले क्या आया था?

-मुझे शौक लगा था. क्योंकि मेेरे पास इस तरह के परफार्मेंस ओरिएंटेड किरदारो के आफर आते ही नहीं हैं. लोग मुझे सिर्फ ग्लैमरस किरदारों के ही आफर देते हैं. लेकिन के सी बोकाडि़या जी को मेरी प्रतिभा पर यकीन था. उन्होंने खुद इस फिल्म को करने के लिए मेरा हौसला बढ़ाया. इसके अलावा इस फिल्म में जिन कलाकारों के साथ काम करना था, उसने मुझे उत्साहित किया. नसीरूद्दीन शाह, ओम पुरी, गोविंद नामदेव, अनुपम खेर इन सभी के साथ मुझे पहली बार अपने करियर में काम करने का मौका मिला. ऐसे में मैं मना नहीं कर पायी.

फिल्म के अपने किरदार को लेकर क्या कहेंगी?

-मैने इसमें राजस्थान के एक गाॅंव से शहर ही नहीं बल्कि राजनीति में अहम मुकाम पर पहुॅचने वाली नारी अनोखी देवी का किरदार निभाया है.जो कि लालची है. अतिमहत्वाकांक्षी है. अपनी महत्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए वह कुछ भी कर सकती है. वह गरीब घर की है, उसे पैसे की बहुत जरुरत है. वह भी अच्छी वैभवशाली जिंदगी जीना चाहती है. जब कुछ पॉलीटिशियनों की नजर उस पर पड़ती है, तो वह मौका नहीं चूकती. क्योंकि वह कुछ पाना चाहती है. इसलिए वह पॉलीटिशियन को डोमीनेट करने के लिए अपनी सेक्स अपील का उपयोग करती है. और वह उस मुकाम तक पहुॅचती भी है, पर फिर उसके साथ पॉलीटिशियन क्या करते हैं, वह फिल्म का अलग रोमांचक हिस्सा है.

‘‘डर्टी पाॅलीटिक्स’’तो भंवरी देवी कांड पर है. पर इसे स्वीकार क्यों नहीं किया जा रहा है?

देखिए,फिल्म की कहानी भंवरी देवी की कहानी नहीं है. पर उस कांड से प्रेरित है. हमारे देश में इस तरह के कई कांड हुए हैं. उन सभी पर रिसर्च करने केे साथ कुछ काल्पनिक घटनाक्रम और कुछ राजनीतिक स्थितियों को जोड़कर इस फिल्म की पटकथा तैयार की गयी है. पर हम सभी इस बात को स्वीकार करते हैं कि हमारी फिल्म ‘‘भंवरी देवी कांड’’ से प्रेरित है.

अनोखी देवी का किरदार निभाने के लिए आपने क्या तैयारी की?

सबसे पहले मुझे राजस्थानी भाषा का एसेंट पकड़ने के लिए मेहनत करनी पड़ी. मैं हरियाणवी हूं. जबकि फिल्म में राजस्थानी भाषा का टच है. राजस्थान में बोलने का लहजा बहुत अलग है. तो मुझे वह सीखना पड़ा. छोटे शहरों में लड़कियों के चलने, कपडे़ पहनने का जो नखरा होता है, वह सीखना पड़ा.

फिल्म में किस बात को ज्यादा महत्व दिया गया हैं?

यह फिल्म राजस्थानी भोजन की थाली की तरह है, जिसमें समाज की हर चीज को पिरोया गया है. इसमें राजनीति, सेक्स, पैसा, पावर सभी का समावेश है.

के सी बोकाडि़या संग काम करने के अनुभव?

बहुत अच्छे अनुभव रहे. बहुत अच्छे निर्देशक हैं. अनुभवी है. पचास फिल्में निर्देशित कर चुके हैं. उन्होेंने अमिताभ बच्चन, रजनीकांत सहित तमाम दिग्गज कलाकारों के साथ काम किया है.

फिल्म‘‘मर्डर’’तथा फिल्म‘‘डर्टी पॉलीटिक्स’’में से किस फिल्म में इंटीेमेट सीन निभाना आपके लिए ज्यादा सहज रहा?

मैने फिल्म‘‘मर्डर’’में युवा कलाकार के साथ इंटीमेट सीन किए थे. पर इस फिल्म में ओम पुरी जैसे वरिष्ठ और अनुभवी कलाकार के साथ इंटीमसी के सीन करने को लेकर मैं बहुत ही ज्यादा नर्वस थी. इस बात को ओमपुरी जी ने भाॅंपा और उन्होंने मुझे एक कलाकार के प्रोफेशनल इथिक्स तथा एटीट्यूड की बात को समझाते हुए मुझे सीन करने के लिए सहज किया. हमने शूटिंग से पहले संवादो को लेकर रिहर्सल भी किया. आखिर हम सब प्रोफेशनल कलाकार हैं. ओम पुरी जी काफी सीनियर हैं. तो उन्होंने मुझे एक कलाकार के तौर पर कम्फर्ट करने में मदद की. हमारी लगभग 12 साल पहले ‘ख्वाहिश’जैसी ‘सी’ग्रेड फिल्म में 17 चुंबन दृश्य देकर अपने अभिनय करियर की शुरूआत करने वाली मल्लिका शेरावत अब अपनी नई इमेज गढ़ने को आतुर हैं. जी हां! कभी अपने आपको बोल्ड अभिनेत्री कहलवाने वाली मल्लिका शेरावत अब एक संजीदा अदाकारा के रूप में अपनी पहचान बनाना चाहती हैं. बहरहाल, अब वह निर्माता निर्देशक के सी बोकाडिया की फिल्म‘‘द डर्टी पाॅलीटिक्स’’में साड़ी पहने हुए नजर आने वाली हैं. पर इसके यह मायने नहीं है कि‘डर्टी पॉलीटिक्स’में मल्लिका शेरावत ने इंटीमेट सीन नहीं किए हैं.

इस फिल्म में तो कई दिग्गज कलाकार हैं?

जी हां! इस फिल्म में नसीरूद्दीन शाह के साथ एक सीन के दस रीटेक हो गए. मैं इतनी नर्वस थी कि मेरे मुंह से संवाद ही नहीं निकल रहे थे. फिर नसीरूद्दीन शाह ने मुझे समझाया और फिर मैं सहज हो पायी.

फिल्म ‘‘डर्टी पाॅलीटिक्स’’ में तो अनोखी देवी करप्ट हैं. अनोखी देवी का किरदार तो आपने ही निभाया है?

अनोखी देवी करप्ट नहीं है. अनोखी देवी को देश की राजनीति करप्ट बनाती है. अनोखी देवी गांव की एक गरीब औरत है. जो कि एक खुशहाल जिंदगी जीना चाहती है. जब उसका सामना कुछ राजनीतिक नेताओं से पड़ता है, तो धीरे धीरे उसके सामने यह नेता करोडो़ं रूपए लाकर रखने लगते हैं. तब वह भ्रष्ट हो जाती है. आप फिल्म देखेंगे, तो आप इस बात पर यकीन करेंगे कि देश की भ्रष्ट राजनीति ही लोगों को भ्रष्ट करती है.

जब आपने काॅमेडी फिल्म ‘डबल धमाल’ की थी,  उससे आपकी ईमेज पर असर नहीं हुआ?

पर उसमें भी मेरा किरदार ग्लैमरस ही था. जलेबीबाई ..गाना था, जो कि काफी लोकप्रिय हुआ था.गंभीर किस्म के निर्देशकों ने इस फिल्म में मुझे नोटिस ही नहीं किया. जबकि ‘डर्टी पाॅलीटिक्स’ के ट्रेलर आने के बाद से लोगों का ध्यान मेरी तरफ जा रहा है. पाॅजीटिव रिस्पाॅस मिल रहा है. फिल्म के आॅन लाइन ट्रेलर को डेढ़ मिलियन लोगोें ने पसंद किया है.


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये