INTERVIEW: मैं क्रिमिनल लाॅयर होती – यामी गौतम

1 min


लिपिका वर्मा

धीरे धीरे ही सही यामी का फ़िल्मी सफर सफल हुआ। फिल्म, ‘विक्की डोनर’ से शोहरत की बुलन्दियों पर पहुंची यामी और अब राकेश रोशन के बैनर तले बन रही फिल्म,‘काबिल’ जो इस 25 जनवरी को रिलीज़ हो रही है जिस में रितिक रोशन के साथ काम करते हुये नजर आयेंगी यामी,यह अपने लिए एक बहुत बड़ी उपलब्धि मान रही है खुद यामी।
पेश है यामी के साथ लिपिका वर्मा की बातचीत –

अपना करियर टेलीविजन से शुरू कर अब फिल्मों में भी बहुत बेहतरीन कर रही क्या कहना चाहेंगी ?
जी हाँ, मैंने टेलीविजन पर बहुत की कम काम किया था। मैंने कुछ दिनों बाद ही यह तय कर लिया था कि, मैं कुछ दिनों के लिए घर रहूंगी , क्योंकि मुझे टी वी शोज में काम कर के मजा नहीं आ रहा था। करीब एक महीने के गेप के बाद मुझे कुछ कर्मशियल में काम करने का मौका मिला। मैंने भी ढ़ेर सारे आॅडिशन्स दिए है। माॅडलिंग भी की है और रैंप वाॅक में भी हिस्सा लिया है मैंने। बस इतना कहना था मेरे माता पिता की बेहतरीन शिक्षा ने मुझे, ‘नो’ कहने की क्षमता दी। और ऐसा नहीं है कि मुझे यह आभास था कि मैं यहाँ सफल ही रहूंगी?

Kaabil Movie Images - Hrithik Roshan & Yami Gautam

ऐसी कौन सी फिल्म है जो दोनों एक साथ मिली-आपने उनमें से एक चुनी हो और दूसरी छोड़ी हो कुछ बतलायें?
देखिये जिस वक़्त मैं कर्मशियल करने में व्यस्त थी मुझे दो फिल्मों के आॅफर थे। जिनमें से मैंने एक फिल्म,‘विक्की डोनर’ की। जबकि मेरे दोस्तों ने मुझे दूसरी फिल्म करने की सलाह दी थी (उसका नाम नहीं बताना चाहूँगीवह मुझे ज्यादा पसन्द नहीं आयी। विक्की डोनर का सब्जेक्ट बहुत अलग था सो मुझे चैलेंजिंग लगा और मैंने हामी भर दी। इतेफ़ाक़ से दूसरी फिल्म आज तक नहीं बनी है।जबकि ‘विक्की डोनर’ हिट फिल्मों की श्रेणी में शुमार हो गई है। तो मैं यही कहना चाहती हूँ कि देखिये, किस्मत किसे क्या देती है यह भी एक बहुत बड़ी बात है। आज तक जो कुछ भी मिला है मुझे और जो नहीं मिला। ..मैं संतुष्ट हूँ।मैं जो भी मन को अच्छा लगे उसे कर लेती हूँ।

आप भगवान और माता पिता में कितना विश्वास रखती है ?
यदि मेरे लिए मेरे कोई भगवान है तो वह मेरे माता पिता ही है। उनकी इज्जत करती हूँ और यही मानती हूँ कि -भगवान की इज्जत भी हो रही है साथ साथ। दरअसल में, मैं बहुत ही साधारण परिवार की लड़की हूँ और जो कुछ भी शिक्षा उनसे मिली है उसे सर आँखों पर रख कर आगे बढ़ती जाती हूँ। मेरी माताजी काफी धार्मिक है, सो मुझमें भी धर्म के प्रति प्रेमभाव है। किन्तु हम लोग यही मानते है कि सही काम करो और आगे बढ़ो।

Sweet-Yami-Gautam

क्या आप फिल्मों में शुरू से ही प्रवेश चाहती थी ? यहाँ नहीं होती तो क्या काम करती ?
मैंने बी. ए. पास कर ली। किन्तु मैंने शुरआती दौर में एल. एल. बी. की पढ़ाई भी की है। मैं क्रिमिनल लाॅ पढ़ रही थी। मुझे क्राइम की गुत्थी सुलझाने में कुछ मजा आने लगा था। होता यही था – कोई भी जब केस हमारे पास आता तो उसे सुलझाने के लिए जो कुछ क्लूक मिलते जाते तो ऐसा लगता की आगे क्या है ? बस कुछ कारणवश मैं-एल एल बी की पढ़ाई पूर्ण नहीं कर पाई वरना आज मैं एक क्रिमिनल लाॅयर होती। बस काॅलेज नहीं जा पायी क्योंकि बी. ए. की पढ़ाई काॅरेस्पोंडेंस कोर्स कर पूरी की थी।

526788-kaabil-collage

फिल्म ‘काबिल’ क्यों साइन की आपने ?
काबिल फिल्म राकेश जी के बैनर तले एक बहुत ही दिलचस्प फिल्म है। और ऊपर से रितिक के साथ काम करना था। देखिये, जब तक फिल्म नहीं मिली तो मैं इस बात को लेकर उत्सुक रही कि – फिल्म मिलेगी या नहीं ? लेकिन जैसे ही फिल्म साइन की-तो इस बात को लेकर उत्सुक थी की -रितिक के साथ काम करना है तो थोड़ी नर्वस भी थी। लेकिन जैसे ही मैं सेट पर गयी। रितिक ने मुझे बहुत सपोर्ट किया और मेरी झिझक बिकुल ही मिट गयी। यही कहना चाहूंगी -रितिक बहुत ही हम्बल व्यक्तित्व के मालिक है। डांस भी अच्छा करते है तो उनके कदम से कदम मिलाने के लिए दिन में दो बारी रिर्हसल्स किया करती थी मैं। ऐसा मैंने अपनी पसंद हेतु किया।डांस के लिए भी रितिक ने मुझे बहुत सपोर्ट किया बाकि आप फिल्म देख कर समझ जायेंगे। सो फिल्म साइन करने का एक नहीं बल्कि अनेक कारण थे मेरे लिए।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये