Kangana Ranaut ने Nikhil Dwivedi को दिया मुँह तोड़ जवाब।

1 min


बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने अकेले ही कई लोगों को हिलाकर रख दिया है, बल्कि लोग ही नही कंगना ने तो सरकार तक को नही छोड़ा।कंगना अपनी बेबाकी के लिए मशहूर हैं, यही कारण है कि उनके फैंस भी उन्हें खूब पसंद करते हैं।

कंगना ने हाल ही में दावा किया है कि बॉलीवुड इंडस्ट्री में होने वाली पार्टीज़ में कोकेन सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला ड्रग है।कंगना ने ट्वीट कर बताया कि इन पार्टीज़ में पानी मे MDMA मिलाकर दिया जाता है वो भी बिना आपकी जानकारी के।कंगना ने एक और ट्वीट किया जिसमें उन्होंने करण जौहर को निशाना बनाया।इनके उस ट्वीट पर निखिल द्विवेदी भी कंगना के खिलाफ मैदान में उतर गए।

कगंना रनौत ने निखिल द्विवेदी को जवाब देते हुए कहा, ‘इस तर्क से फिल्म जगत के भी एक एक व्यक्ति ने सारे भारतवर्ष का निर्माण किया है. हर चीज में हमारा भी उसी तरह योगदान है. आपको बनाने में भी. आपकी फिल्मों कि टिकट भी हम ने खरीदी हैं, मगर कल को आप कुछ गलत करें या सही तो हम सम्पूर्ण फिल्म जगत को ना तो दोषी ठहरा सकते हैं ना दाद दे सकते हैं.’

कंगना रनौत ने फिर से निखिल द्विवेदी को जवाब देते हुए लिखा , ‘क्या निर्माण किया? आइटम नम्बर्स का? अधिकतर वाहियात फिल्मों का? ड्रग्स कल्चर का? देशद्रोह और टेररिजम का? बॉलिवुड पर दुनिया हंसती है, देश का हर जगह मखौल बनाया जाता है, पैसे और नाम तो दाऊद ने भी कमाया है मगर इज्जत चाहिए तो उसे कमाने की कोशिश करो काली करतूतें छुपाने की नहीं.’

कंगना के जवाब के बाद निखिल शांत नही बैठे, उन्होंने ट्वीट में लिखा, ‘अगर यह इतनी ही वाहियात जगह थी तो आपको यहां किस चीज ने आकर्षित किया कि आप इतना सब छोड़ के इतनी मुसीबतें सहने के बाद भी यहां डटी रहीं? कुछ तो सही देखा होगा न आपने भी? वही सही हमें भी दिखता है. काली करतूतों को जरूर उजागर कीजि ए जैसे कि हर उद्योग की होनी चाहिए. हम आपका समर्थन करेंगे.’

निखिल द्विवेदी ने एक बार फिर ट्वीट कर लिखा, ‘आप जानती हैं यह सत्य नहीं है. आप यहां उन्हीं अच्छी चीजों से आकर्षित हुईं जिनसे हम सब होते हैं. मैं भी आप ही की तरह बाहर से आया था मगर आप जितनी सफलता नहीं मिली. आप में टैलेंट और मेहनत का जज्बा मुझसे ज्यादा था/है. मगर न मुझे सफल होने से किसी ने रोका था न आपको. तभी आप इतनी हुईं.’

कंगना रनौत ने आखिर में बात को और ना खींचते हुए लिखा, ‘आप सच कह रहे हैं, हम सब अपने लिए ही जीते हैं जो भी करते हैं अपने लिए ही करते हैं मगर कभी कभी हम में से कुछ एक को जिंदगी इतना सताती है की वह हर खौफ से आजाद हो जाते हैं, जिंदगी के मायने बदल जाते हैं मकसद बदल जाते हैं, ऐसा भी होता है, यह भी एक सच है.’


Like it? Share with your friends!

Niharika jain

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये