लाडूबाई से पेश्विन बाई तक! ज़ी टीवी सुना रहा है नाज़ों से पली एक नन्हीं राजकुमारी की कहानी- काशीबाई बाजीराव बल्लाळ

1 min


बीते कुछ वर्षों में ज़ी टीवी ने अपने दर्शकों को भारत के सबसे कुशल शासकों और शाही हस्तियों की प्रेरणादायक कहानियां दिखाईं, जिनका हमारी ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत पर गहरा प्रभाव रहा है। अपने दर्शकों को जोधा अकबर और झांसी की रानी की यात्राओं से रूबरू कराने के बाद अब ज़ी टीवी साल 2021 का सबसे बड़ा ऐतिहासिक महाधारावाहिक लेकर आ रहा है, जिसमें मराठा साम्राज्य की सबसे प्रतिष्ठित महिलाओं में से एक, पेशवा बाजीराव बल्लाळ की पत्नी काशीबाई बाजीराव बल्लाळ की अनकही कहानी प्रस्तुत की जाएगी। सोबो फिल्म्स द्वारा प्रोड्यूस किए गए इस शो का प्रीमियर 15 नवंबर 2021 को हुआ है और इसका प्रसारण हर सोमवार से शुक्रवार रात 8 बजे सिर्फ ज़ी टीवी पर हो रहा हैं।

18वीं सदी में मुगल काल की समाप्ति के बाद के समय पर आधारित यह शो लाड़-प्यार में पली एक नन्हीं लड़की का सफर दर्शाता है, जो आगे चलकर एक कुशल एवं उत्कृष्ट शासक बनीं और पेश्विन बाई कहलाईं। वो उस वक्त किले की रक्षा करती थीं, जब बाजीराव मराठा साम्राज्य का विस्तार कर रहे थे। दूसरे शब्दों में कहें तो वो हैं इतिहास के माथे पर सौभाग्य का टीका। इस शो में 9 साल की प्यारी आरोही पटेल नन्हीं काशीबाई का रोल निभा रही हैं, जिन्होंने अपनी मौजूदगी से टीवी स्क्रीन को रोशन कर दिया है। उन्होंने अपने पहले लुक टेस्ट में ही मेकर्स का दिल जीत लिया था। दूसरी ओर, मराठा योद्धा पेशवा बाजीराव का रोल निभा रहे हैं आकर्षक यंग बॉय वेंकटेश पांडे, जो ज़ी टीवी के डीआईडी लिटिल मास्टर्स में पहले ही अपनी एक खास पहचान बना चुके हैं। काशीबाई और बाजीराव के हजारों रंग समेटता यह शो दिखाएगा कि कैसे भाग्य इन दोनों शासकों को उनकी शुरुआती उम्र में मिलवाता है, उनके बीच का अनोखा तालमेल कैसा था और कैसे उन दोनों के मिलन ने मराठा साम्राज्य को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया।

ज़ी टीवी की बिजनेस हेड अपर्णा भोसले ने कहा, ‘‘हम काशीबाई बाजीराव बल्लाळ की अनकही कहानी दिखाने जा रहे हैं, जो एक ऐसी जबर्दस्त ताकत थीं, जिनका महान मराठा साम्राज्य पर गहरा प्रभाव था। वो न सिर्फ एक कुशल शासक थीं, बल्कि एक संवेदनशील इंसान भी थीं, जिनके लिए लोगों की भलाई सबसे ऊपर थी। हमारा उद्देश्य है कि हम काशीबाई के परोपकार और भारत की सांस्कृतिक विरासत एवं इतिहास में उनके अमूल्य योगदान की कहानी देश की सबसे नई पीढ़ी तक पहुंचाएं और लाखों लोगों को प्रेरित करते रहें। हमें खुशी है कि इसके लिए हमें चास्कर परिवार का आशीर्वाद मिला, जो काशीबाई के वंशज हैं और शो के लॉन्च पर हमारे बीच मौजूद हैं”

इस मौके पर ज़ी टीवी ने कर्जत स्थित एनडीज़ फिल्म वर्ल्ड में शो के प्रमुख किरदारों और काशीबाई एवं बाजीराव के परिवारों की भूमिका निभा रहे कलाकारों को बड़े भव्य अंदाज में प्रस्तुत किया। शो के लॉन्च पर पालकी से लेकर घुड़सवारी करते हुए एंट्री करने तक, हर प्रस्तुति देखने लायक थी, जो सभी को 18वीं सदी के मराठा साम्राज्य के दौर में ले गई। इस दौरान काशीबाई की अष्टमी प्रस्तुति और बाजीराव के तलवारबाजी प्रदर्शन के अलावा पुणे से आए काशीबाई के वंशज चास्कर परिवार को भी सम्मानित किया गया।

आरोही पटेल ने कहा, ‘‘जब मुझे यह बताया गया कि मैं काशीबाई बाजीराव बल्लाळ में काशीबाई का लीड रोल निभाऊंगी, तो मैं बहुत उत्साहित भी थी और काफी नर्वस भी! यह मेरा अब तक का पहला शो है और मैं हमारे देश के गौरवशाली इतिहास का इतना प्रतिष्ठित किरदार निभाने को लेकर बेहद रोमांचित हूं। मेरी टीम ने काशीबाई के किरदार में उतरने में मेरी काफी मदद की और बहुत अच्छी तरह मेरा ख्याल रखा। मैंने इस शो के एक सीक्वेंस के लिए घुड़सवारी भी सीखी। अब मुझे अपने आपको इस किरदार में टीवी पर देखने का इंतजार है”

वेंकटेश पांडे ने कहा, ‘‘मैं महान मराठा शासक बाजीराव का रोल निभाने को लेकर बेहद उत्साहित हूं। मुझे गर्व है कि मुझे इतना महत्वपूर्ण किरदार निभाने का मौका मिला। बाजीराव का सख्त एवं उत्साही व्यक्तित्व और उनकी गंभीरता, उन्हें उनकी उम्र के बाकी लोगों से अलग बनाती है और इसी तरह आगे चलकर वो एक महान शासक बने। मैं पहली बार किसी शो में लीड रोल निभाने जा रहा हूं, तो मेरे लिए यह एक बड़ी चुनौती है।”

सोबो फिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड की प्रोड्यूसर स्मृति शिंदे ने कहा, ‘‘मराठा साम्राज्य के इतिहास में हमें जो नहीं बताया गया, वो है एक प्रभावशाली महिला काशीबाई की कहानी, जिन्होंने मराठा साम्राज्य को एकजुट रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वो जंग लड़ने युद्ध के मैदान में नहीं गईं, लेकिन उनके अटूट समर्थन के साथ मराठा ध्वज हमेशा ऊंचा रहा। हमें उनका सफर भी बड़ा दिलचस्प लगा, जिसमें वो लाड़-प्यार में पलीं एक बच्ची से आगे चलकर एक बेमिसाल शासक के रूप मेें उभरीं। उन्होंने उस वक्त किले की कमान संभाली, जब बाजीराव युद्ध के मैदान में अपना जौहर दिखाते थे। हमें विश्वास है कि उन्होंने जिस अच्छाई और परोपकार के साथ अपने लोगों का नेतृत्व किया, वो दर्शकों से जुड़ जाएंगे और उन्हें प्रेरित करेंगे।”

आइए चलते हैं एक साधारण लड़की के सफर पर, जिसने अपने साम्राज्य की जिम्मेदारी संभाली और अपनी अद्भुत निर्णय क्षमता एवं कुशल नेतृत्व से सभी को प्रभावित कर दिया।

ज्यादा जानने के लिए देखिए काशीबाई बाजीराव बल्लाळ, जो 15 नवंबर से शुरू हुआ है, हर सोमवार से शुक्रवार रात 8 बजे, सिर्फ ज़ी टीवी पर।

SHARE

Mayapuri