INTERVIEW!! “बचपन से ही मेरा पसंदीदा जोनर “रोमांटिक जोनर” रहा है” कैटरीना कैफ

1 min


लिपिका वर्मा

यदि आप लोग सोच रहे हैं कि कैटरीना कैफ को “फितूर का मतलब नहीं पता होगा तो आप गलत हैं दरअसल कैटरीना ने अपनी हिंदी और उर्दू पर इतनी मेहनत की है फिल्म “फितूर” के लिए कि वो अब फर्राटे से हिंदी और उर्दू बोल लेती हैं-

पेश है कैटरीना के साथ लिपिका वर्मा की एक बेहतरीन मुलाकात

आपके हिसाब से “फितूर” का क्या मतलब है ?

किसी चीज़ का जोश और जुनून सर चढ़ कर बोले और यदि कुछ गलत भी हो तो भी आप अपनी उस इच्छा को पूरा करना चाहें तो उसे “फितूर” कहते हैं।

आपका पसंदीदा जोनर कौन सा है ?

बचपन से ही मेरा पसंदीदा जोनर, “रोमांटिक जोनर” रहा है। मैं बचपन से लेकर आज तक, “गॉन विद द विंड” से ही प्रेरित रही हूँ। जब मैं छोटी बच्ची थी तब से ही मैं रोमांटिक किताबें पढ़ती आई हूँ। रोमांस यूनिवर्सल है (सार्वभौमिक) रोमांटिक किताबें पढ़ कर मैं दिन में सपने देखने लगी (डे ड्रीम करने लगी) नाटकीय तौर की रोमांटिक किताबें मेरे मन के बहुत ही करीब हैं। यह किताबें मेरे मन में रोमांस एवं रोमांच भर दिया करती। आज भी जवानी के इस पड़ाव पर मुझे यही किताबें पढ़नी अच्छी लगती हैं। रील पर भी रोमांस करना मुझे बहुत पसंद है। रोमांस जीवन में हमें आगे लेकर चलता है। जिनकी लाइफ में रोमांस ना हो उनके लिए जीवन मीनिंगलेस और नीरस होता है।

Katrina-Kaif-and-Aditya-Roy-Kapur’s-stills-from-Fitoor-740x464

कुछ और सोच कर कैटरीना बोली, ” इस फिल्म में तब्बू मेरी माँ का किरदार निभा रही हैं। मोहब्बत में बुरा अनुभव होने की वजह से वह अपनी बेटी को दूर रखना चाहती हैं इस मोहब्बत के झमेले से। बदला लेने की भावना से हमेशा जलती ही रहती हैं। मेरे हिसाब से प्यार किसी को भी बदल सकता है, प्यार में इतनी ताकत होती है कि वो बदला लेने की भावना को भी खत्म कर सकता है। बदले की भावना रखने से कुछ भी कभी अच्छा नहीं होता है इसलिए आगे बढ़ो, भूल जाओ और सब की गलतियों को माफ़ करने की क्षमता रखो।”

कैटरीना जीवन से बहुत कुछ सिख गयी हैं और दार्शनिक तौर से बोली, ” हम जीवों को कोई हक़ नहीं बनता किसी को जज करने का। क्या सही है और क्या गलत है यह सिर्फ ऊपर जो बैठा है वह देख रहा है और हर इंसान के बारे में उसके कर्मों के बारे में लिख रहा है। समय आने पर सबकी गलती और अच्छाईयों पर उसी का हक है जजमेंट देने का।

1025156-KatrinaKaifcopy-1452437033-315-640x480

सुन्दर दिखने का क्या मन्त्र है आपका ?

बहुत साधारण सा मंत्र है मन में श्रद्धा, आस्था और आशा और वह बच्चे जैसी क्वालिटी हमेशा से अपने अंदर पनपने देती हूँ यही सब मेरे लिए नार्मल रहने में बहुत सहायक साबित होता है। हमें जीवन में परफेक्ट रोमांस नहीं मिल पाता है किन्तु आदर्शवादी रोमांटिक भावनाओं को कभी मरने नहीं देना चाहिए। इन्हीं आशाओं की वजह से हम सब जीवन जी पाते हैं। नफरत और क्रोध और बदले की भावना लेकर कभी भी जीवन सुखमय नहीं हो पाता है। इसलिए फॉरगेट और फॉरगिव मंत्र को लेकर ही हमें आगे बढ़ना चाहिए।

Ca1fjvfWcAE2OWM

प्रियंका ने अपने झंडे हॉलीवुड में गाड़े हैं इस बारे में क्या कहना चाहेंगी और आप वहां से यहाँ बॉलीवुड में पहुँच गई ?

प्रियंका बहुत ही फोकस्ड एक्ट्रेस हैं, यहाँ से लगभग 22 घंटे जहाज में बैठ कर वहां पहुँचना और अपना टैलेंट बिखेर पाना सही मायनों में बहुत ही कठिन बात है। यह आसान बात नहीं है वह बहुत ही बलवान हैं क्योंकि अंग्रेजों के बीच रहकर अपने टैलेंट का करतब दिखाकर उन्हें मंत्रमुग्ध करना कठिन काम है। मेरे हिसाब से उन्हें अपनी इस उपलब्धि का सीक्रेट एक किताब लिखकर सब के बीच पहुंचाना चाहिए, वह सबके लिए प्रेरणास्त्रोत हैं। प्रियंका को यह सम्मान मिला इनक्रेडिबल (अविश्वसनीय) है।

CYGbgGaU0AAV3Xg

कुछ रुक कर अपनी बॉलीवुड जर्नी के बारे में बोली, ” हमेशा से मुझे हिंदी फिल्मों में काम करने की इच्छा थी। मुझे हिंदी फिल्मों के गानों पर नाचना और उन्हें सुनना बहुत पसंद है। आज भी समय मिलने पर मैं म्यूजिक सुनती हूँ। मेरा सपना था बचपन से कि मैं बॉलीवुड में काम कर पाऊँ। मुझे यहाँ पर सबने स्वीकारा यह मेरे लिए बहुत अच्छी बात रही। मैंने भी मेहनत करने में कोई भी कसर नहीं छोड़ी है। मेरा सपना बॉलीवुड में काम करने का कुछ हद तक पूरा हो गया है किन्तु अभी भी कुछ ऐसे जोनर है जैसे कॉमेडी और एक्शन करने की लालसा रखती हूँ मैं। मुझे बॉलीवुड में ही अपना एक मुकाम बनाना था और जो कुछ भी है मैं बहुत खुश हूँ।”


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये