और जब लता ताई का दिल रो पड़ा

1 min


हमारे भारत की रत्न, स्वर की देवी , कोकिला कंठी लता मंगेशकर ने भी अपने देश के जवानों के प्रति अपना सम्मान, प्रेम और उनके परिवारों के लिये अपनी चिंता को जग जाहिर करते हुए बोल ही दिया की उन्हें गिफ्ट देने के बदले उनके फैंस को चाहिये कि हमारे देश के जवानों और उनके परिवार को स्पोर्ट दिया जाये। लता जी ने कहा, “लोग अक्सर मुझे ढेर सारे फूल भेजते है, बौकेट्स भेजते है, मुझे उनके इस तरह खर्च करने का बुरा लगता है, फूल तो मुरझा जाते हैं, तो क्यों नही इस तरह फ़िज़ूल खर्च करने के बदले हम सब मिलकर हमारे आर्मी की मदद करें? रकम कितनी भी छोटी हो, भले ही दो सौ रूपये ही क्यों ना हो, वो भी देश के जवानों और अपने देश के प्रति हमारे प्रेम को जाहिर कर सकता है। अगर हमारे पास हमारे जवान ना हो, हमारी आर्मी ना हो तो हमारा देश का क्या होगा? हमारे देश के जवान इतनी छोटी सी उम्र में जो कर रहें है, अपने माता पिता, भाई, बहन, पत्नी, बच्चे, घर सब छोड़ छाड़ कर देश की रक्षा के लिये अपने जान पर खेल जाते हैं, उनके इस जांबाजी को नमन करना चाहिये, कैसे उनके कर्मों पर कोई शक कर सकता है? मैंने एक वृद्ध महिला को देखा, जो अपने शहीद बेटे की अंतिम दर्शन के लिये आयी थी, वे ठीक से चल भी नहीं पा रही थी। मेरा दिल रो पड़ा।” लता जी की देश भक्ति और जवानों के प्रति प्रेम से कुछ सीख लें हमारे पॉलिटिशियन।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये