“मैं एक स्त्री हूँ” – आरती मिश्रा

1 min


Aarti Mishra

“मैं एक स्त्री हूँ” नाम की कविता लिखने वाली आरती मिश्रा ने अपने कुछ जज़्बात कविता के रूप मैं सबसे साझा करी है।

मुझे एक स्त्री ने जनम दिया है, मगर धीरे धीरे पता चला की स्त्री एक लिंग नहीं है बल्कि एक वजूद है, एक पहचान है जो हासिल करना होता है।

इस दुनिया को बगावत करने वाले बहुत चुब्ते हैं, यह दुनिया उन्हें एक काँटे की तरह निकाल के बहार फ़ेंक देती है, मगर एक स्त्री गुलाब के फूल सा रहना का हुनर जानती है, काँटों को छुपा कर रखने का हुनर जानती है।

कोई ज़बरदस्ती अगर इस फूल को छुऐगा तोह काँटों का सामना करना होगा उससे, कुछ इस तरह से

Aarti Mishra

जिस्म ढका तो है
इससे मेरी शर्म ना समझना तू
मेरे  ज़ख्म देखने की तेरी अभी औकात नहीं है बस

आखें झुकी तो हैं
इससे मेरी शराफत ना समझना तू
ऐसे जानलेवा हथियार से हलक होने की तेरी औकात नही है बस

बाल बांधे तो हैं
इससे मेरी सरलता ना समझना तू
इनकीआँधियों में टिके रहने का तेरा जिगर नही है बस

ज़ुबां खामोश तोह है
इससे फ़ितरत ना समझना तू
इसके सामने हारने की अभी तेरी आदत नहीं है बस

रूह शीतल तो है
इससे आदत ना समझना तू
इसके आग में जल जाने की अभी तुझ में ताक़त नही है बस

ऐ बन्दे
एक स्त्री हूँ
इससे लाचारी ना समझना तू
इसकी अहमीयत जान ने के लिये तेरी मर्दानगी काफ़ी नही है बस

स्त्री एक वजूद है, एक पहचान है, वही हासिल करने में लगी हूँ

हाँ मैं एक स्त्री हूँ


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये