बर्थडे स्पेशल: रोज़ा से साथिया तक, मणि रत्नम की इन फिल्मों ने उन्हें दिलाई खास पहचान

1 min


मणि रत्नम की फिल्म

मणि रत्नम के जन्मदिन पर आप भी जरूर देखें उनकी ये 5 फिल्में

अगर कोई एक फिल्ममेकर ऐसा है, जिसने सिनेमा की रियल ब्यूटी को अपनी फिल्मों में दिखाया है, तो वो फिल्ममेकर कोई और नहीं, सिर्फ एक हैं और वो हैं लिविंग लेजेंड मणि रत्नम। फिर भले ही उनकी फिल्में हिंदी, तमिल या मलयालम में हों, उनकी फिल्मों ने हमेशा लोगों के दिल में एक अलग छाप छोड़ी। डायरेक्टर के तौर पर उन्होंने अपना करियर साल 1983 में कन्नड़ फिल्म पल्लवी अनुपल्लवी से शुरु किया था।

भारतीय सिनेमा के सलमान रुश्दी हैं मणि रत्नम

फिल्म इंडस्ट्री में शामिल होने के पीछे का ख्याल उन्हें तब आया जब वो सब-स्टैंडर्ड तमिल फिल्मों को देखने से तंग आ गए थे। 2 जून, 1955 को, गोपाला रत्नम सुब्रमण्यम के रूप में जन्मे, मणिरत्नम को भारतीय सिनेमा के सलमान रुश्दी के रूप में जाना जाता है, जिन्होंने फिल्मों के सभी पहलुओं को छुआ है। अपने समय के सबसे शानदार और प्रगतिशील फिल्म निर्माताओं में से एक, मणिरत्नम आज अपना 63 वां जन्मदिन मना रहे हैं। इस मौके पर आइए नजर डालते हैं, मणि रत्नम की 5 ऐसी बॉलीवुड फिल्मों पर जिन्होंने हमारे दिलों पर राज किया।

ये हैं मणि रत्नम की 5 फिल्में-

रोजा

अरविंद स्वामी और मधू स्टारर देशभक्ति पर आधारित इस प्रेम कहानी ने मानवीय रिश्तों और आतंकवाद का प्रतिनिधित्व किया। इसी फिल्म से लोकप्रिय संगीतकार एआर रहमान ने अपने करियर की शुरुआत की। जिन्होंने अपनी अद्भुत रचनाओं के लिए कई राष्ट्रीय पुरस्कार जीता।

दिल से

दिल से, शाहरुख खान, मनीषा कोइराला और प्रीति जिंटा स्टारर, मणि रत्नम की तीसरी फिल्म थी,  जो आतंक पर आधारित थी। मणि रत्नम की इस फिल्म को न केवल बहुत सारी तारीफ मिली बल्कि इस फिल्म ने दो राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार और छह फिल्मफेयर पुरस्कार भी जीते।

गुरु

साल 2007 में रिलीज़ हुई मणि रत्नम की फिल्म गुरु में अभिषेक बच्चन-ऐश्वर्या राय बच्चन ने मुख्य भूमिका निभाई थी। ये फिल्म धीरूभाई अंबानी की कहानी पर आधारित थी। ये तमिल और तेलुगु में रिलीज़ हुई और जिसका टाइटल ‘गुरु’ और ‘गुरुकांत’ था।

साथिया

मणि रत्नम की फिल्म साथिया में विवेक ओबेरॉय और रानी मुखर्जी ने मुख्य भूमिका निभाई थी। ये एक साधारण रोमांटिक फिल्म न केवल कहानी के साथ बल्कि संगीत के साथ भी हमारे दिलों को छू गई। आप इस फिल्म को बार-बार देखना चाहेंगे।

युवा

राजनीति में छात्रों पर आधारित 2004 की फिल्म में अभिषेक बच्चन और अजय देवगन थे और इस फिल्म में दिखाया गया है कि उन्होंने भारत के अन्य हिस्सों की तुलना में मुंबई में एक सराहनीय व्यवसाय किया।

ये भी पढ़ेंअस्पताल में बना वाजिद खान का आखिरी वीडियो वायरल, गा रहे थे हुड़-हुड़ दबंग

SHARE

Sangya Singh