एन एस डी की रेपट्री ने नाटक विभाग से बाहर किया-एक्टर मेनुअल सिंह को

1 min


‘‘ओमपुरी ने तारीफ की लेकिन एन एस डी की रेपट्री ने नाटक विभाग से बाहर किया’’
-फिल्म ‘ जय हो डेमोक्रेसी के प्रतिभावान एक्टर मेनुअल सिंह को-

menual singh

निर्देशक रंजीत कपूर की फिल्म‘ जय हो डेमोके्रसी’ में जिस नये लेकिन थियेटर कलाकार मेनुअल सिंह के अभिनय की  वरिष्ट अदाकार ओम पुरी ने खुलकर तारीफ करते हुये कहा कि फिल्म में आर्मी कुक रणबीर सिंह चीमा के किरदार में मुनअल सिंह जैसे कलाकार ने बड़े बड़े कलाकारों के सामने जिस आत्म विश्वास  से अभिनय किया है उसे देखकर आंखे नम हुए बिना नहीं रहती । लेकिन एन एस डी की रेपट्री ने मेनुअल को इस फिल्म में काम करने की सजा के तौर पर रेपट्रीके ड्रामा सक्शन से निकाल बाहर किया । वो इसलिये क्योंकि उनके यहां कानून है कि रेपट्री के ड्रामा सक्शन में काम करने वाला एक्टर फिल्मों में काम नहीं कर सकता । एक तरह से देखा जाये तो ये एक उभरते हुये एक्टर का कितना बड़ा शोषण है ।annu kapur, menual sigh
मेनुअल सिंह ने एक बात चीत में बताया कि वो इससे पहले अमुतसर थियेटर में काम करता रहा है । उसने चंडीगढ़ ड्रामा डिपार्टमेंन्ट (डिपार्टमेन्ट आॅफ इंडियन थियेटर)से एम. ए. किया है । एक पंजाबी फिल्म करने के बाद, पिछले साढ़े तीन साल से मेनुअल सिंह एन एस डी की रेपट्री में नाटक कर रहा था । एन एस डी के वरिष्ट नाटककार और हिन्दी रंगमंच के प्रख्यात नाटककार रंजीत कपूर ने मेनुअल की प्रतिभा को देखते हुये अपनी फिल्म ‘ जय हो डेमोक्रेसी’ में एक महत्वपूर्ण किरदार दिया । फिल्म में मेनुअल का अभिनय देख ओम पुरी जैसा बड़ा कलाकार भी प्रभावित हुये बिना नही रह पाया। उन्होंने फिल्म के म्युजिक रिलीज पर स्टेज पर बुलाकार मेनुअल सिंह की तारीफ करते हुये उसकी पीठ ठोकी, लेकिन उन्हें क्या पता था कि इस तारीफ के बदले मेनुअल रेपट्री का काम गंवा चुका है ।

menual singh, seema bishwas
यंहा मेरा ओमपुरी, रंजीत कपूर और उन जैसे वरिश्ठ अभिनेताओं से कहना है कि क्या वह इस बारे में अपनी आवाज बुलंद नहीं कर सकते । कि एक तो आर्टिस्ट नाटक के नशे में अपना सब कुछ दांव पर लगा कर इस विधा से जुड़ता है । खासकर थियेटर या एन एस डी की रेपट्री आदि में काम करने के लिये उसे कुछ भी नहीं मिलता, और अगर उसकी प्रतिभा को देखते हुये उसे किसी  टीवी सीरियलया फिल्म में काम मिलता है जंहा उसे थोड़ी सी आमदनी हो जाती है तो उससे रेपट्री को इतना भारी एतराज, कि आर्टिस्ट को  बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है । ऐसा करके कम से कम मेनुअल सिंह जैसे पढ़े लिखे और टेलेंटिड  एक्टर का षोशण करना ही माना जायेगा।  आगे ऐसा न हो इसके लिये बेषक रेपट्री को अपने रूल्स बदल लेने चाहिये । वैसे इन दिनों मनुअल सिंह एक बार फिर अमुतसर थियेटर से जुड़ते हुये वहां नाटक कर रहे हैं ।

SHARE

Mayapuri