मनोज कुमार गायब हो गये

1 min


who-is-Manoj-Kumar-is-star-or-no-star-Harikrishna-Giri-Goswami-celebrity-vote

 

 

मायापुरी अंक 10.1974

‘रोटी कपड़ा और मकान’ के प्रीमियर से पहले मनोज कुमार ओबेरॉय होटल में आ गये थे। हम ओबेरॉय गये तो पता चला कि बड़े साहब इम्पीरियल होटल में शिफ्ट कर गये है। बम्बई से फिल्म की यूनिट आ रही थी. यूनिट को इम्पीरियल होटल में ही ठहराया गया क्यों भला ? हम तो इतना ही कह सकते है कि इम्पीरियल में कमरे का किराया ओबेरॉय से कम है। आप मनोज कुमार को कंजूस समझने लगे है क्या?

कुछ दिनों बाद हम इम्पीरियल में जा धमके। इस बार खबर मिली कि साहब पंजाब चले गये है सिनेमा हाल से कुछ अच्छी सूचनाएं नही मिल रही थी इसलिए मनोज जी का वितरकों को धैर्य बंधाना आवश्यक था। मनोज को पहले ही मालूम था कि उसकी फिल्मं ‘नाम बड़े दर्शन छोटे है। इसलिए भाईजान ने दिल्ली में प्रैस-कान्फ्रैस भी नही की। व्यर्थ में पत्रकार भाइयों के हाथों अपनी छीछालेदर कराने का क्या फायदा ? फिल्म शुरू शुरू में तो रश खींच गई, बाद में रेंगने लगी। ‘रोटी कपड़ा और मकान’ न तो ‘मेरा नाम जोकर’ जैसी पिटेगी न ‘बॉबी’ जैसी चलेगी। त्रिंशुक की तरह बीच में ही लटक जाएगी।

हम कुछ दिनों बाद फिर से दर्शन की आस लगाये इम्पीरियल पंहुचे खबर मिली कि साहब बहादुर वापस ओबरॉय में चले गये है। हमने ठंडी आह भरी। हमारे दिल में बैठे मुर्गे ने बांग दी, साहब ओबेरॉय में भी नही मिलेंगे तो कहां मिलेंगे, बंधु ? इस पर दिल के अंदर बैठा मुर्गा फिल्म ‘यादगार’ के गीत की पंक्ति गाने लगा

वह न ननिहाल में मिलेगा, वह न ससुराल में मिलेगा, मनोज तो ऐ बंदे, मंत्रियों की घुड़साल में मिलेगा।

हो सकता है, वजन और मात्रा के लिहाज से इस गीत में कोई गलती हो पर है जोरदार। भारत कुमार मनोज की भारत सरकार से गहरी छनती है। पहले ही सरकार ने ‘रोटी कपड़ा और मकान’ पर ढाई लाख की लेवी छोड़ दी थी। इस बार मनोज जी ने अपना पुराना प्रार्थना-पत्र (सेवा में निवेदन है कि मैं मनोज कुमार हूं और देशभक्ति पर फिल्में बनाता हूं हाल ही में मेरी फिल्म ‘रोटी कपड़ा और मकान’ रिलीज हुई है। आपसे हाथ जोड़ कर प्रार्थना है कि मेरी फिल्म जनता का मनोंरंजन करने में असमर्थ है इसलिए इस पर से मनोरंजन कर हटा लिया जाए.) सूचना एंव प्रसारण मंत्रालय के अधिकारियों ने अत्यंत विनम्रता से प्रार्थना पत्र रद्द कर दिया। मनोज जी ने कहा इतनी दूर से आया हू, कुछ तो मिले। अधिकारियों ने कहा हम आपको पद्मश्री दे सकते है। मनोज साहब ने क्या उत्तर दिया, इसका पता छब्बीस जनवरी को चल जाएगा।

SHARE

Mayapuri