विनोद मेहरा और मेरा देवर भाभी का रिश्ता है –मौसमी चटर्जी

1 min


vlcsnap-2012-09-25-13h08m21s77

 

मायापुरी अंक 13.1974

मौसमी का साट न होने के कारण वह खाली बैठी थी और हमें खाली समय का ही उपयोग करना खूब आता है। बस जा घेरा मौसमी को और उनसे कहा। सुना है निर्माताओं को परेशान करने की आपकी नीति अब भी चल रही है क्या इससे आपके करियर पर असर नही पड़ेगा ?

“यह गलत है कि मैं निर्माताओं को परेशान करती हूं निर्माता तो बस अपनी मजबूरी को मजबूरी समझते हैं। दूसरों को अगर मजबूरन जरा सी भी देर हो जाए तो नाक भी चढ़ाने लगते है हालांकि 6 बजे की शिफ्ट में खुद निर्माता साढ़े दस ग्यारह बजे सैट पर आता है। आर्टिस्ट अगर वक्त पर पहुंच भी जाते है तो तीन घंटे मेकअप रूम में ही काटने पड़ते है। “मौसमी ने बताया” और जहां तक करियर को बनाने बिगाड़ने की बात है, लोग किसी का कुछ नही करते। यहां तो बस फिल्म चलनी चाहिए। यहां चढ़ते सूरज को ही सलाम किया जाता है। वरना फ्लॉप होने वाली कोई कितनी ही बड़ी हस्ती क्यों न हो कोई आंख उठाकर नही देखता। हमने कहा.

“आपके और आपके पति रितेश के बीच सुना है विनोद मेहरा को लेकर कुछ मनमुटाव चल रहा है क्या यह सही है ? हमने पूछा।

“यह गलत और बिल्कुल गलत है। विनोद बाबू (रितेश) का कॉलेज के जमाने का दोस्त है। दोनों में सगे भाईयों जैसा प्रेम पाया जाता है। इसीलिए विनोद का मेरा देवर-भावज का रिश्ता है। अगर कोई गलत ढंग से इस रिश्ते को लेता है तो लिया करे मुझे उसकी परवाह नही है। हम पति पत्नी मे जब तक अंडरस्टैडिंग है कोई मनमुटाव की बात पैदा होने का सवाल ही पैदा नही होता। दरअसल यहां के लोगों के सोचने का ढंग बड़ा ही गंदा है। भगवान करे बाबू की फिल्म ‘मजाक’ हिट हो जाए तो मैं फिल्मों में काम करना ही छोड़ दूंगी मौसमी ने बताया।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये