मीडिया के खिलाफ घायल बाॅलीवुड की लड़ाई

1 min


bollywood

एक ऐसे व्यक्ति के रूप में जिसने अपने जीवन के 50 से अधिक वर्षों को बॉलीवुड में बिताये हैं, एक ऐसा शब्द, मैं जिसका तिरस्कार करता हूं, और जिसने इस सो-कॉल्ड बॉलीवुड को अपनी महिमा में देखा है, मुझे यह देखने के लिए पीड़ा हुई कि यह विभिन्न चैैनलों पर और आम तौर पर मीडिया में अपमानित, उपहास, पंचर और यहां तक कि कैसे नष्ट हो रहा है, और कैसे यह सब चुपचाप मौन के साथ हो रहा है और खुद का बचाव करने के लिए कोई प्रयास नहीं कर रहा है।

युवा अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत द्वारा अपने अपार्टमेंट में फांसी के बाद दूसरे दिन शुरू होने वाले ये शातिर और दुर्भावनापूर्ण हमले शुरू हो गए और उन्होंने अब तक जारी रखा हुआ है।

लेकिन कल (या यह आज है?) इन साइलेंट मेन और वुमेन को लगता है कि उनके साहस और आत्मसम्मान को एक तरह से मैं देख नहीं पा रहा था, जिसे देखने के बाद मैं उन्हें मीडिया का एक तबका धज्जियां उड़ाता हुआ नहीं देख सकता था, जो उन्हें ‘बदबू’, ‘ड्रगिज’ और ‘देश का सबसे गंदा उद्योग’ कहने में एक विकराल खुशी देता था। एक एंकर था जो देश की अन्य सभी बिमारियों को भूल गया और अपनी सारी ऊर्जा और अपनी चीख और चिल्लाहट पर ध्यान केंद्रित करते हुए उद्योग को बदनाम करने के लिए उसने पत्रकारिता के सभी कोड और सिद्धांतों की धज्जियां उड़ाने की कीमत पर भी बदनाम किया।

सलमान खान

उसने न केवल इंडस्ट्री को सभी प्रकार के बुरे नाम दिए, बल्कि उछल-उछलकर की तरह अपनी एंकरिंग सीट से खड़े होकर अमिताभ बच्चन और सलमान खान जैसे सितारों को एक डाकू की तरह चुनौती दे रहा था, अपनी आस्तीन को ऊपर चढ़ा रहा था, और वह जितना चिल्ला सकता था उससे ज्यादा चिल्ला रहा था। अन्य एंकर दोनों पुरुष और महिलाएं थी, जिन्होंने अपने कथित पापों, अतीत और वर्तमान के लिए फिल्म उद्योग में कदम रखने का अवसर नहीं गंवाया जिनमें से अधिकांश सत्य की कसौटी पर खरे नहीं उतर सके।

मुझे तब और भी ज्यादा गुस्सा आया जब कुछ दो पैसां के एंकरों ने अमिताभ बच्चन, करण जौहर, सलमान खान, आदित्य चोपड़ा और एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, सारा अली खान, रकुल प्रीत सिंह जैसे नाम लिए, और यह आरोप और भी बढ़ गया कि देश भर में सनसनी पैदा करने वाले सितारों के ड्रग्स ने सुर्खियाँ बटोरीं। एक व्यापक डर ने इंडस्ट्री को ढ़क दिया जो पुरुषों और महिलाओं के एक बड़ा परिवार था और अभी भी है, जिनके घर में डर था, कि उनके नाम अगले हमले में सामने आयेगे।

फरहान अख्तर

अब, आखिरकार, प्रमुख फिल्म निर्माण कंपनियों में से 34 बाॅलीवुड से जुड़ी हस्तियों ने दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है, जिसमें दो प्रमुख चैनलों, रिपब्लिक और टाइम्स नाउ द्वारा गैर-जिम्मेदार रिपोर्टिंग पर प्रतिबंध लगाने की मांग की गई है। इनमें ज्यादातर आमिर खान, शाहरुख खान, सलमान खान, अनिल कपूर, फरहान अख्तर और उनकी बहन जोया, यशराज फिल्म्स, आशुतोष गोवारिकर प्रोडक्शंस, नाडियाडवाला ग्रैंडसन प्रोडक्शंस, विशाल भारद्वाज, रिलायंस और धर्मा प्रोडक्शन जैसे हाऊस हैं।

मैं फिल्मों की इस दुनिया से अपने दोस्तों को बधाई देता हूं कि उन्हें हिम्मत मिली और एहसास हुआ कि वे भी किसी अन्य प्रमुख इंडस्ट्री की तरह हैं, यह भी कि उन्होंने देश के सबसे बड़े कर भुगतान उद्योग के रूप में, और देश के भीतर और यहां तक कि विदेशों से भी, करोड़ों के निवेश के पैसे पैदा करने के मामले में देश के खजाने में अपना योगदान दिया है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये