मीना कुमारी

1 min


मीना कुमारी का जन्म 1 अगस्त, 1932 को मुंबई में हुआ। वह भारत की एक मशहूर अभिनेत्री थीं। इन्हें खासकर दुखांत फ़िल्म में उनकी यादगार भूमिकाओं के लिये याद किया जाता है। 1952 में प्रदर्शित हुई फिल्म बैजू बावरा से वे काफी वे काफी मशहूर हुईं।

28meena-kumari1

मीना कुमारी का असली नाम माहजबीं बानो था और उनके पिता अली बक्श भी फिल्मों में और पारसी रंगमंच के एक मँजे हुये कलाकार थे और उन्होंने कुछ फिल्मों में संगीतकार का भी काम किया था। उनकी माँ प्रभावती देवी (बाद में इकबाल बानो), भी एक मशहूर नृत्यांगना और अदाकारा थी जिनका ताल्लुक टैगोर परिवार से था। माहजबीं ने पहली बार किसी फिल्म के लिये छह साल की उम्र में काम किया था। उनका नाम मीना कुमारी विजय भट्ट की खासी लोकप्रिय फिल्म बैजू बावरा पड़ा। मीना कुमारी की प्रारंभिक फिल्में ज्यादातर पौराणिक कथाओं पर आधारित थे। मीना कुमारी के आने के साथ भारतीय सिनेमा में नयी अभिनेत्रियों का एक खास दौर शुरु हुआ था जिसमें नरगिस, निम्मी, सुचित्रा सेन और नूतन शामिल थीं।

1953 तक मीना कुमारी की तीन सफल फिल्में आ चुकी थीं जिनमें ‘दायरा’, ‘दो बीघा ज़मीन’ और ‘परिणीता’ शामिल थीं। परिणीता से मीना कुमारी के लिये एक नया युग शुरु हुआ। परिणीता में उनकी भूमिका ने भारतीय महिलाओं को खास प्रभावित किया था चूकि इस फिल्म में भारतीय नारियों के आम जिदगी की तकलीफ़ों का चित्रण करने की कोशिश की गयी थी। लेकिन इसी फिल्म की वजह से उनकी छवि सिर्फ़ दुखांत भूमिकाएँ करने वाले की होकर सीमित हो गयी। लेकिन ऐसा होने के बावज़ूद उनके अभिनय की खास शैली और मोहक आवाज़ का जादू भारतीय दर्शकों पर हमेशा छाया रहा।

मीना कुमारी की शादी मशहूर फिल्मकार कमाल अमरोही के साथ हुई जिन्होंने मीना कुमारी की कुछ मशहूर फिल्मों का निर्देशन किया था। लेकिन स्वछंद प्रवृति की मीना अमरोही से 1964 में अलग हो गयीं। उनकी फ़िल्म ‘पाक़ीज़ा’ को और उसमें उनके रोल को आज भी सराहा जाता है। शर्मीली मीना के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं कि वे कवियित्री भी थीं लेकिन कभी भी उन्होंने अपनी कवितायें छपवाने की कोशिश नहीं की। उनकी लिखी कुछ उर्दू की कवितायें नाज़ के नाम से बाद में छपी। काम के प्रति समर्पित मीना कुमारी अपने काम में कमाल अमरोही की बेवजह दख़ल को बर्दाश्त नहीं कर सकीं। वर्ष 1964 के बाद मीना कुमारी और कमाल अमरोही अलग-अलग रहने लगे और उन्होंने अपने आप को शराब के नशे में डूबो लिया।

मीना कुमारी के सिनेमा कॅरियर में उनकी जोड़ी फ़िल्म अभिनेता अशोक कुमार के साथ काफ़ी प्रसिद्ध रही। मीना कुमारी और अशोक कुमार की जोड़ी वाली फ़िल्मों में ‘तमाशा’, ‘परिणीता’, ‘बादबान’, ‘बंदिश’, ‘भीगी रात’, ‘शतरंज’, ‘एक ही रास्ता’, ‘सवेरा’, ‘फरिश्ता’, ‘आरती’, ‘चित्रलेखा’, ‘बेनज़ीर’, ‘बहू बेग़म’, ‘जवाब’ और ‘पाकीज़ा’ जैसी फ़िल्में शामिल हैं। हिन्दी फ़िल्म जगत में ‘ट्रेजेडी क्वीन’ कही जानी वाली मीना कुमारी की जोड़ी ‘ट्रेजेडी किंग’ दिलीप कुमार के साथ भी काफ़ी पसंद की गई। मीना कुमारी और दिलीप कुमार की जोड़ी ने ‘फुटपाथ’, ‘आज़ाद’, ‘कोहिनूर’ और ‘यहूदी’ जैसी फ़िल्मों में एक साथ काम किया।

अभिनय में आई एकरुपता से बचने और स्वंय को चरित्र अभिनेत्री के रूप में स्थापित करने के लिए मीना कुमारी ने खुद को विभिन्न भूमिकाओं में पेश किया। इसके बाद मीना कुमारी ने चरित्र भूमिका वाली ‘जवाब’ और ‘दुश्मन’ जैसी कई सुपरहिट फ़िल्मों के जरिए भी दर्शकों के दिल पर राज किया।

meena-kumari-wallpaper

वर्ष 1962 मीना कुमारी के सिनेमा करियर का अहम पड़ाव साबित हुआ। इस वर्ष उनकी ‘आरती’, ‘मैं चुप रहूंगी’ जैसी फ़िल्में प्रदर्शित हुईं। इसके साथ ही इन फ़िल्मों के लिए वे सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के ‘फ़िल्मफेयर’ पुरस्कार के लिए नामित की गईं। यह ‘फ़िल्मफेयर’ के इतिहास में पहला ऐसा मौक़ा था, जहाँ एक अभिनेत्री को ‘फ़िल्मफेयर’ के तीन वर्गों में नामित किया गया था।

मीना कुमारी को मिले सम्मानों की चर्चा की जाए तो उन्हें अपने अभिनय के लिए चार बार ‘फ़िल्मफेयर’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। मीना कुमारी को सबसे पहले वर्ष 1953 में प्रदर्शित फ़िल्म ‘परिणीता’ के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का ‘फ़िल्मफेयर’ पुरस्कार दिया गया। इसके बाद वर्ष 1954 में भी फ़िल्म ‘बैजू बावरा’ के लिए उन्हें ‘फ़िल्मफेयर’ के सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इसके बाद मीना कुमारी को ‘फ़िल्मफेयर’ पुरस्कार के लिए लगभग 8 वर्षों तक इंतज़ार करना पड़ा और वर्ष 1963 में प्रदर्शित फ़िल्म ‘साहिब बीबी और ग़ुलाम’ के लिए उन्हें ‘फ़िल्मफेयर’ मिला। इसके बाद वर्ष 1966 में फ़िल्म ‘काजल’ के लिए भी मीना कुमारी सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के ‘फ़िल्मफेयर’ पुरस्कार से सम्मानित की गईं।

लगभग तीन दशक तक अपने संजीदा अभिनय से दर्शकों के दिलों पर राज करने वाली हिन्दी सिनेमा जगत की महान अभिनेत्री मीना कुमारी, 31 मार्च 1972 को इस दुनिया से विदा हो गईं।

ट्रेजेडी क्वीन मीना कुमारी की मशहूर फिल्मों को लोगों आज भी देखना पसंद करते है और उन्हें हमेशा एक अच्छी अभिनेत्री के तौर पर याद किया जाता रहेगा।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये