हर तीज त्योहार पर संदेश का आदान प्रदान होता था

1 min


– ग्रुशा कपूर

 2007 में पापा की फ़िल्म Chintu जी में Rishi जी के साथ काम करने का सौभाग्य मिला था ,Rishi जी के साथ इसमें सभी कलाकार NSD और theatre से थे,जैसे costumes Dolly aunty की थीं,actors में Dr अनिल रस्तोगी ,पंकज त्रिपाठी,सौरभ शुक्ला,महेंद्र मेवाती,अनु कपूर,अतमजीत सिंह,बंधु जी, हेमंत महौर जैसे मंजे हुए दिग्गज कलाकार थे,
Rishi जी pack up के बाद शाम को सबके साथ बैठ गप्पे लगाते,अपने क़िस्से सुनाते,पापा से हमेशा कहते ‘रंजीत बाबू मैं आप सब की तरह trained actor नहीं हूँ पर आप मुझे और पंकज कपूर को लेकर फ़िल्म बनाइये ,मैं बराबर की टक्कर दूँगा’ , हम सब Rishi जी से सम्मोहित होकर उनकी बातें सुनते,वो कभी सेट पर खुद ही crowd manage करने लगते,एक शाम देर तक शूटिंग चलती रही ,October की बात है,Rishi जी रात को शूट नहीं करते थे लेकिन परिस्थिति को समझते हुए कहा ‘anything for you Ranjit बाबू’, पापा आत्मग्लानि से विवशथे,Rishi जी से कहा की यदि वो चाहें तो थोड़ी सी drink लेलें क्योंकि ठंड बहुत है ,इसपर तपाक से Rishi जी बोले ‘जब तक आप pack up नहीं बोलेंगे मैं शराब को हाथ भी नहीं लगाऊँगा ,आप सुबह तक निश्चिंत होकर शूटिंग कीजिये,मुझे कहते Grusha तुम बहुत चुप रहती हो set पर ,मैंने कहा Sir मेरी बिसात नहीं की आपके सामने मुँह खोलूँ,मैं तो बस मंत्र मुग्ध होकर आपको observe करती रहती हूँ,ये सुनकर मुस्कुरा दिये,Chintu जी फ़िल्म जब बन कर तैय्यार हो गयी तब trial पर फ़िल्म देखने के बाद Rishi जी भाव्विभोर हो गये,बोले रंजीत बाबू ये फ़िल्म इतनी ख़ूबसूरत बनी है की मैं इसे अपनी पिता की स्मृति में dedicate करना चाहता हूँ,इसलिये फ़िल्म की शुरुआत में super आता है की ये फ़िल्म ‘मेरे पिता श्री राज कपूर को समर्पित है’ ,ये एकमात्र फ़िल्म है जो उन्होंने अपने पिता श्री राज कपूर को समर्पित की.इस फ़िल्म को आगे चलकर उस साल का best actor और best director Stardust award भी मिला.
फिर कुछ साल पहले अचानक पापा को उनका फ़ोन आया,बोले रंजीत बाबू आप नयी फ़िल्म बना रहे हैं और मुझे ख़बर तक नहीं,पापा ने झेंपते हुए सच्चाई बतायी की इस फ़िल्म में आपके caliber का role नहीं है,तपाक से बोले ‘आप अगर एक scene के लिये भी मुझे बुलाऐंगे तो भी मैं आऊँगा और वो भी बिना किसी फ़ीस के,बोले आप जानते नहीं रंजीत बाबू पर मैं आपसे बहुत मोहब्बत करता हूँ’,Rishi जी मेरे पति Bikram से बहुत मुतास्सिर थे,Bikram Chintu जी की script का हिस्सा थे और पहली बार पापा के साथ RK office में जाकर Bikram और पापा ने उन्हें साझा narration दिया था,Rishi जी मुझसे हमेशा Bikram की ख़ैरियत पूछते, जब उन्हें पता चला की हमारा बेटा भी 28 September ko पैदा हुआ है तो तुरंत मुबारकबाद भेजी और साथ ही ये भी बताया की रणबीर का birthday भी उसी दिन होता है, हर तीज त्योहार पर संदेश का आदान प्रदान होता था हमारा,आज हिमाचल में बिताये वो 40 दिन मुझे बहुत याद आरहे हैं ,Rishi जी एक बहुत ही ईमानदार कलाकार थे,एक बहुत ही प्यारे इंसान,professional to the core और अत्यंत सहज ,बस इस बार खुद pack up announce कर के चल दिये,ईश्वर उनकी पुण्य आत्मा को शांति प्रदान करें

ग्रुशा कपूर की फेशबुक वाल से साभार

Mayapuri