‘‘मीका सिंह की कज़न सिस्टर पिंकी पारस का एलबम कलाबाती कुर्रररर’’

1 min


मीका सिंह और दिलेर मेहंदी के खानदान से एक और सिगंर का संगीत क्षेत्र में पर्दापण हुआ है। ये हैं मीका सिंह और दिलेर मेंहदी की कज़न सिस्टर पिंकी पारस। पिंकी मीका और दिलेर की बूआ की बेटी हैं और वो अमेरिका में सैटल है। पिंकी के पिता भूपिन्दर सिंह पारस पटना साहिब गुरूद्वारे में कीर्तन गाने वाले रागी रहे हैं उन दिनों वे मीका के पिता के साथ कीर्तन किया करते थे ।

पिंकी चूंकि ऐसे खानदान से हैं जंहा सभी गाते हैं लिहाजा वो खुद भी बहुत अच्छा गाती थी। एक बार किसी ने उसे मीका के गीत का रीमेक गाने के लिये प्रोत्साहित किया तो उसने मीका के सुपर हिट गीत ‘सावन में लग गई आग’ का रीमेक करते हुये सिंगल अलबम रिलीज किया, जिसका काफी अच्छा रिजल्ट हासिल हुआ। उसके बाद उसने ‘मेंहदी’ नामक सिंगल एलबम किया उसे भी अच्छा रिस्पांस मिला। उसके तीसरे सिंगल अलबम का नाम हैं ‘कलाबाती कुर्रररर’ । इस अलबम के वीडियो की डायरेक्टर पिंकी के बेटी रनजोत महक सिंह हैं। इससे पहले रनजोत ने अपनी मम्मी के मेंहदी का वीडियो भी डायरेक्ट किया था। वीडियो की कहानी के अनुसार एक शादी हो रही है उसी दौरान वहां कुछ एलीयन आ जाते है। एक एलीयन को हीरे जवाहरात जमा करने का शौंक है। वो एलीयन शादी में आदमी बन कर आती है और दुल्हन की अंगूठी चोरी कर लेती है । पिंकी का कहना हैं कि उस्ताद गुलाम अली हमारे खानदानी उस्ताद हैं। जंहा तक मेरे गाने की बात हैं तो हम तो वैसे ही खानदानी रागी हैं इसलिये देर सवेर मैने भी इस लाइन में आना ही था लेकिन मैं काफी देर से आई। पिंकी के पति डॉक्टर हैं और दोनों बेटियां गिटारिस्ट हैं और बेटा भी मीका सिंह की तरह सारे वाद्य बजाने में प्रवीण हैं ।

IMG_9180

‘मेहंदी’ और ‘कलाबाती कुर्रररर’ के गीतों को कंपोज किया हैं विक्रम ने। विक्रम से मेरी मुलाकात फेसबुक पर हुई थी। इसके बाद मुलाकात हुई उनका काम इतना अच्छा था कि अब तो उनसे घर के रिलेशन हो चुके हैं। इस अलबम का टाइटल विक्रम ने दिया है। दरअसल ये हरियाणवी भाषा का शब्द है जिसे बच्चे के कान मे फूंका जाता है। यह शब्द एक खेल का हिस्सा है जो कान में कलाबाती कुर्ररर कहते हुये खेला जाता है। इस अलबम में पहली बार जयपुर के साबरी ने भी मेरे साथ गाया है। आप यकीन करें साबरी से भी मैं पहली दफा फेसबुक पर ही मिली थी (दरअसल  पिंकी को उसके दोस्तों और घरवालों के बीच फेसबुक क्वीन कहा जाता है)।

IMG_9179

इसके बाद हम मिले और अब इस एलबम में हमने एक गीत डूएट जो पंजाबी टप्पे था, गाया है । साबरी अजमेर के करीब रहने वाले कव्वाल के खानदान से हैं उनके खानदान में पैदा हुये गवईये पिछले ढाई तीन सौ सालों से कव्वाली ही गाते आ रहे हैं। इस एलबम को क्रिसेंडो म्यूजिक ने रिलीज किया है । हाईलाईट ये हैं कि मीका के द्वारा गाया ओरीजनल एलबम भी इसी कंपनी ने ही रिलीज किया था ।  जब उन्होंने ये गीत सुना तो उनका कहना था मीका की एलबम भी हम ही ने रिलीज की थी। ये भी इतना गाया हुआ है इसलिये इसे भी हम ही रिलीज कर देते हैं । इससे पहले अलबम ‘मेहंदी’ ब्राइट म्यूजिक कंपनी ने रिलीज किया था ।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये