INTERVIEW: ‘‘टीवी कलाकार दर्शक के ज्यादा करीब रहते हैं’’ – मोना सिंह

1 min


अपने पंद्रह सोलह के करियर में मोना सिंह ने मुश्किल से आधा दर्जन टीवी शोज किये हैं। इसके अलावा कुछ रियलिटी शो तथा दो तीन फिल्में। इससे उसके चूजी होने का पता चलता है। फिलहाल  वो कलर्स चैनल पर टेलीकास्ट रियलिटी शो ‘इंडिया बनेगा मंच’ कृष्णा अभिषेक के साथ होस्ट करती नजर आ रही है। शो को लेकर मौना से एक बातचीत।

कलर्स के कॉमेडी शो कॉमेडी बचाओ में भी आपकी जोर शोर से एंट्री हुई थी लेकिन जल्द आप शो से निकल गई?

दरअसल मेरी चैनल से पहले ही डील हो चुकी थी। उस वक्त मेरे शो कवच की भी शूटिगं चल रही थी। और ये शो भी मैं कर रही थी, लेकिन मैंने उन्हें बता दिया था कि दिसबंर मेरी फैमिली को दिया गया टाइम है और मैं अपनी बहन के पास विद माई फैमिली ऑस्ट्रेलिया जाने वाली हूं, क्योंकि पिछले साल मैं नॉन स्टॉप शूटिंग कर रही थी इसलिये मैने पहले ही डिसाइड कर लिया था कि दिसबंर का महीना मैं अपने परिवार के साथ अपनी बहन के पास बिताउंगी । जब मुझे ये शो ऑफर किया तो साथ ये भी कह दिया था कि आपको शो के सिर्फ पांच छह एपिसोड ही करने हैं, इसके बाद आप बेशक ऑस्ट्रेलिया चले जाना और वापस आकर एक बार फिर शो ज्वाइन कर लेना, लेकिन मेरे आने तक  शो बंद हो चुका था।

ढेर सारे रियलिटी शोज के बीच एक और शो , लेकिन अलग क्या ?

बेशक आज ढेर सारे चैनल्स, चैनलों के भीतर ढेर सारे चैनल्स, फिर उन पर ढेर सारे धारावाहिक और रीयलिटी शोज। इनके बीच टेलीकास्ट होने वाले रियलिटी शो में अलग क्या होगा। लेकिन इनमें कलर्स ही एक मात्र ऐसा चैनल है जो हमेषा रिस्क लेने को तैयार रहता है। शो चले न चले, लेकिन वो रिस्क लेने से पीछे नहीं हटता। मौजूदा शो ‘इंडिया बनेगा मंच’  जैसा शो अभी तक नहीं आया। इसमें न तो कोई जज है, न ही किसी स्टूडियो में शूट हो रहा है, नहीं कोई स्कोरिंग हो रही हैं और न ही कोई वोट मांगा जा रहा है।

फिर इस शो का स्वरूप क्या है ?

यहां ओपन सेट पर ओपन गेम है यानि आप कितने बंदों को रोक पाते हो। एक बंदा तो एक प्वाइंट, सौ बंदे रूके तो सौ प्वाइंट। इससे पहले ऐसा कभी और कहीं नहीं हुआ है। रही हमारी बात तो हमें सब अपने आप करना है क्योंकि हमारे लिये न तो कोई स्क्रिप्ट है न ही कोई प्रोउंट। हम तो ऑलवेज गार्ड हैं कि अच्छा वो रूक गया, वो अंकल डांस कर रहे हैं या वो बच्चा खाना खा रहा है यानि कुछ न कुछ नया होता रहता है। हम ये सब कंट्रोल रूम में बैठ कर देखते रहते हैं।

ये शो करते हुए कैसा फील कर रही हैं?

बहुत ही सुकून और खुशी फील कर रही हूं क्योंकि जैसे कोई हर काम फर्स्ट करना चाहता है, वैसे ही मैं भी वही काम करना चाहती हूं जो पहली बार हो रहा हो। मेरा पहला सीरियल‘ जस्सी ….भी ऐसा ही था जिसमें काफी कुछ पहली बार हुआ था, झलक दिखला जा पहली डांस विनर, उसके बाद झलक दिखला जा पहली बार होस्ट किया, अब इंडिया बनेगा मंच जैसे शो की पहली होस्ट बनने का मौंका मिल रहा है यानि पहला करने की क्ंटीन्यूटी बनी हुई है।

इतने ज्यादा अरसे तक कुछ ही शोज या फिल्में करने की कोई खास वजह ?

दरअसल मैं पहले से ही बहुत ज्यादा सलेक्टिव रही हूं, मेरे लिये क्वांटिटी नहीं क्वालिटी मायने रखती है।  मैं अपने आपको बहुत लकी मानती हूं क्योंकि में आज इस पॉजिषन पर हूं जहां मैं किसी प्रोजक्ट के लिये हां बोल सकती हूं तो किसी के लिये न।

क्या यही रवैया फिल्मों में भी रहा ?

बिल्कुल। ‘थ्री इडियट्स’ के बाद मुझे लोगों ने उसी तरह के रोल्स आफॅर किये जो मैं नहीं करना चाहती थी, लिहाजा मैंने सभी मना कर दिये क्योंकि मैं अपने आपको दौहराना नहीं चाहती। जस्सी के बाद भी मुझे उसी तरह के रोल्स ऑफर हुए लेकिन मैंने नहीं किये।

फिल्म और टीवी कलाकारों में दर्शक के नजदीक कौन ज्यादा रहता है ?

डेफिनेटली टीवी कलाकार दर्षक के ज्यादा करीब रहते हैं। मैं अपनी बात करूं तो कितनी ही बार जब मैं दर्षकों के बीच होती हूं तो वे मेरी बांह पकड़ कर बड़ी आत्मियता से कहते हैं मोना जरा मेरे साथ एक फोटो, जबकि फिल्म स्टार्स को दूर से ही देखते कहा जाता है, देखो वो फंला स्टार जा रहा है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये