मूवी रिव्यू: फिल्म ‘दौबारा – सी योर इविल’ ‘डराती नहीं सिहरन पैदा करती है’

1 min


अमेरिकन फिल्म ओम्युलस  का रीमेक ‘दौबारा-सी योर इविल’ एक ऐसी हॉरर फिल्म है जो दर्शकों के बीच सिहरन पैदा करने में एक हद तक कामयाब है।

कहानी के अनुसार एलेक्स मर्चेन्ट यानि लिजा रे के दो बच्चे कबीर मर्चेन्ट यानि साकिब सलीम तथा नताशा मर्चेन्ट यानि हुआ- कुरेशी हैं। एलेक्स एक बार एक शीशा खरीद लाता है। लेकिन उसे पता नहीं कि शीशे की भी एक अलग कहानी है जिसकी वजह से उसमें सुपर नैचुरल पॉवर है। जो सामने वाले को सम्मोहित करती रहती है। कबीर और नताशा बड़े हो चुके हैं। लेकिन उनके माता-पिता की मौत हो चुकी है। बहन भाई अपने माता-पिता की मौत का राज जानने का प्रयास करते हैं तो कितनी ही गुथियां सामने आती हैं जिन्हें दोनों भाई-बहन मिलकर सुलझाने की कोशिश करते हैं।

निर्देशक प्रवाल रमन इससे पहले डरना मना है डरना जरूरी हैं 404 तथा में और चार्ल्स आदि फिल्में बना चुके हैं। लेकिन इस बार के हॉलीवुड फिल्म ने रीमेक को भारतीय जामा पहनाने में नाकामयाब रहे हैं

SHARE

Mayapuri