फिल्म‘ आई’ टेक्नीक्ली हाई फाई, बाकी सब बाई बाई

1 min


जीन्स,नायक,रोबोट तथा शिवाजी आदि फिल्मों के निर्देशक बिग बजट बनाने के लिये मशहूर हैं । उनकी हालिया फिल्म‘आई’ का बजट करीब एक सो अस्सी करोड़ का है । यानि ये उनकी अभी तक की सबसे बिग बजट फिल्म है। फिल्म में स्पेशल इफेक्टस जितने कमाल के हैं फिल्म उतनी लिंगेसन यानि विक्रम एक बॉडी बिल्डर है उसका सपना मिस्टर इंडिया बनने का है। वो मॉडल दिया यानि एमी जैक्शन का दीवाना है । जॉन यानि उपेन पटेल एक अय्याश किस्म का टॉप मॉडल है वो दिया को भी तंग करता रहता है ।

 

????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????

और जब वो उसकी बात नहीं मानती तो वो उसकी जगह किसी दूसरी मॉडल को ले आता है । जब दिया के हाथ से जॉन की वजह से एक बड़ा असाइन मेन्ट निकता हुआ दिखाई देता है तो वो लिंगेसन से गुजारिश करती है कि वो चाइना वाले बड़े विज्ञापन मे जॉन की जगह उसका मॉडल बने । और निर्धारित समय तक वो जॉन की जगह लिंगेसन को ली बना कर चाइना ले जाती है। वहां वे दोनों एक दूसरे से प्यार करने लगते हैं । इसके बाद जॉन दोनों का दुश्मन बन जाता है बाद में वो अपने साथ कुछ ऐसे लोगों को भी ले लेता है जो पहले से ही ली के दुश्मन हैं और फिर होती है लिंगेसन के खिलाफ एक षडयंत्र की शुरूआत जिसमें उसके दुश्मन कामयाब हो जाते हैं वे उसके शरीर में ऐसा वायरस प्रविष्ट करवा देते हैं इसके बाद लिंगेसन कुरूप बन जाता है। लेकिन जब उसे पता चलता हे कि उसे कोई बीमारी नहीं बल्कि वो एक साजिश का शिकार हुआ है तो वो एक एक करके अपने दुश्मनों से बदला लेता है ।

आई में अगर यूज किये गये जबरदस्त स्पेशल इफेक्टस को नजरअंदाज कर दिया जाये तो ये एक आम सी बदले की कहानी वाली फिल्म बन कर रह जाती है। ऐ तो फिल्म तीन धंटे से भी लंबी दूसरे फिल्म में सीन इतने लंबे लंबे उन्हें देखते हुये दर्शक उबासियां लेना शुरू कर देता है। एक वक्त ऐसा भी आता है जब बौर कर देने वाले विशय से उकताया हुआ दर्शक फिल्म में यूज किये गये बेमिसाल स्पेशल इफेक्टस और स्पेशल मेकअप को भी नजर अंदाज कर फिल्म खत्म होने का इंतजार करने लगता है और फिल्म खत्म होने के बाद चैन की सांस लेने लगता है। अगर अभिनय की बात की जाये तो पूरी फिल्म विक्रम अपने कंधों पर ढोता रहता है । क्योंकि वो एक्टर कमाल का है इसलिये यहां भी उसके अभिनय के कई रंग देखने को मिलते हैं । मॉडल के रूप में एमी जैक्शन ने भी अच्छा काम किया है वो बहुत ही ग्लैमरस दिखाई दी है । उपेन पटेल खलनायक के तौर पर ध्यान खींचते हैं । इनके अलावा सुरेश गोपी तथा मोहन कपूर आदि कलाकारों ने भी अच्छा काम किया है। ए आर रहमान का म्यूजिक है और फिल्म में ढेर सारे गाने हैं जिनका फिल्मांकन बडे पैमाने पर लैविश तरीके से किया गया है ।चाइना और साउथ की अविस्मरणी लोकेशंस हैं । इन सारी खूबियों के बावजूद फिल्म को देखने के बाद एक दर्शक सिनेमा हाल से ये कहता हुआ निकला कि टेक्नीक्ली हाई फाई, बाकी सब बाई बाई ।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये