मूवी रिव्यू: एक अनोखी लव स्टोरी ‘जैकलिन आई एम कमिंग’

1 min


रेटिंग***

हम अपनी फिल्मों में अक्सर लव स्टोरीज देखते रहते है, लेकिन कभी कभी एक अलग लव स्टोरी सामने आती है जो हमें एक नये अनुभव की अनुभूति के साथ ही इमोशनल भी कर देती है। निर्देशक बंटी दूबे की फिल्म ‘जैकलिन आई एम कमिंग’ एक ऐसे अधेड़ पति पत्नि की लव स्टोरी है जो पत्नि के लिये क्या कुछ करता है।

कहानी

अधेड़ चालीस वर्षीय सरकारी कर्मचारी काशी तिवारी (रघुवीर यादव) एक अनाथ शख्स है, उसे एक ईसाई लड़की जैकलिन (दीवा धनोवा) से प्यार हो जाता है। ढेर सारी विपदाओं के बाद आखिर वो अपने प्यार को पाने में कामयाब हो जाता है। एक दिन उसे पता चलता है कि उसकी पत्नि को कोई ऐसी मानसिक बीमारी  है, जिसके लिये उसे मेंटल हॉस्पीटल जाना पड़ता है। बाद में क्या काशी अपनी बीवी को हॉस्पीटल से वापिस ला पाता है ?

अवलोकन

किसी फिल्म में महज दो या तीन किरदार हो बावजूद इसके फिल्म में दर्शक शुरू से अंत तक खोया रहता है। ये अच्छे कान्टेंट का कमाल है। निर्देशक ने एक अधेड़ शख्स की प्यार सी लव स्टोरी है जो बाद में रिटायर हो जाता है तो उसकी अपनी पत्नि के लिये और ज्यादा बेचैनी बढ़ती चली जाती है। य सब इतनी बढ़िया तरीके से फिल्माया है कि दर्शक किरदारो से पूरी तरह जुड़ जाता है।

अभिनय

रघुवीर यादव जैसे गुणी अभिनेता को देख कर दुख होता है कि ऐसे हरफानमौला एक्टर को बॉलीवुड में ज्यादा मौके नहीं मिल पाये। हर बार की तरह यहां भी उन्होंने काशी की भूमिका में अपने उत्कृष्ट अभिनय के रंग भरे हैं। रघुवीर के साथ दीवा धनावा की जोड़ी अटपटी लगती है लेकिन रघुवीर ने उस कमी अपने अभिनय ढक दिया।

क्यों देखें

एक अनोखी लव स्टोरी में रघुवीर यादव के सुंदर अभिनय के लिये फिल्म देखी जा सकती है।

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज FacebookTwitter और Instagram पर जा सकते हैं.


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये