मूवी रिव्यू: दर्शकों की कसौटी पर खरी नहीं उतर पाती ‘मेरी प्यार बिंदू’

1 min


रेटिंग**

ये बिलकुल समझ से बाहर की बात है कि आज के कुछ फिल्मकार क्यों प्रेम या दोस्ती के मायने बदलने पर लगे हुये हैं, वे क्यों लव स्टोरी को एक पहेली की तरह दिखाने की कोशिश कर रहे हैं। यशराज बैनर की फिल्म ‘मेरी प्यार बिंदू’ जिसे निर्देशक अक्षय रॉय ने इतनी जटिल और उलझी हुई बना दिया जिसे देखते हुये एक समय दर्शक बुरी तरह से झुंझला उठता है। अभिमन्यु रॉय यानि आयुष्मान खुराना कोलकाता में अपनी पड़ोसन बिंदू यानि परिणीति चोपड़ा को बचपन से ही प्यार करता है लेकिन बिंदू एक पूरी तरह से दिशाहीन लड़की है, किसी भी काम को वो बीच में अधूरा छोड़ एक नये काम के साथ आगे बढ़ जाती है । वैसे वो गायिका बनना चाहती है, बिंदू अपनी मां के मरने का दोषी अपने पिता को मानती है इसलिये वो उन्हें पनिशमेंट देने के लिये हमेशा उनसे दूर दूर बनी रहती है। इस बार वो गायिका बनने मबंई आ गई । उधर अभिमन्यु अब हॉरर उपन्यासों का कामयाब लेखक बन चुका है लेकिन बिंदू आज भी उसके दिल में बैठी हुई है । हर बार वो आती है तो उसे लगता है कि इस बार तो उसके प्यार को समझ लेगी, लेकिन हर बार बिंदू लास्ट मूवमेंट पर उसे धत्ता बताती रहती है। लेकिन अभिमन्यु उसे दिल में रखे हुये है, उसके शादी शुदा होने के बाद भी वो बिंदू से अटैच्ड है।

फिल्म का वातावरण बंगाली है जिसे निर्देशक ने माहौल, लोगों और उनके आचार व्यावहार से बंगाल दिखाने का अच्छा प्रयास किया है। लेकिन उसका हीरो कहीं से बंगाली नहीं लगता और न ही हीरोइन साउथ इंडियन। जबकि दोनाें के पेरेन्ट्स अपना परिचय अपनी बोलचाल से देते रहते हैं। फिल्म एक लव स्टोरी होने के बावजूद इतनी उलझी हुई है कि कई बार तो निर्देशक भी कन्फयूज होता दिखाइ्‍​र्र देने लगता है । दूसरे आज युवा वर्ग  और आधुनिकता के नाम पर सेक्सी बोल्ड चीजें दिखाई जाने लगी हैं जो बुरी तरह खटकती है। अपने टाइटल से ही म्युजिकल फिल्म लगने वाली इस फिल्म में कुछ पुराने गातों को बहुत अच्छी तरह से पिरोया गया है।

फिल्म का क्या होना है इस बात को नजर अंदाज करते हुये ये जरूर कहना होगा कि आयुष्मान खुराना और परिणीति चोपड़ा ने इस बार अपने बेहतरीन अदाकार होने का पुख्ता सुबूत दिया है। पहले की अपेक्षा दोनो का आत्मविश्वास देखते बनता है। सबसे बड़ी बात कि परिणीति इस बार गजब की खूबसूरत लगी है। अपने जटिल विषय के सदके दर्शकों की कसोटी पर खरी नहीं उतर पाती मेरी प्यार बिंदू।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये