उस रात मुहम्मद अली रेखा पर फिदा हो गए थे

1 min


पिछले दो दिनों से, लुइसविले हवाई अड्डे का नाम ‘मुहम्मद अली अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा’ होने के बारे में मुझे बेहद खुशी है। पूर्व वल्र्ड बॉक्सिंग चैंपियन मेरे भाई या रिश्तेदार नहीं थे, लेकिन मेरा उनके साथ हमेशा से एक अजीब संबंध रहा है क्योंकि उन्होंने जोए फ्रैजियर और फ्लोयड पैटरसन को नॉकआउट किया और बॉक्सिंग के इतिहास और खेल को बदल दिया। – अली पीटर जॉन

यह 80 के दशक की शुरूआत में था, अली जिसने खुद को इस्लाम में परिवर्तित कर लिया था और खुद को मुहम्मद अली नाम दिया था जो पहले एक ईसाई था और कैसियस क्ले कहलाता था। एक धर्मनिष्ठ ईसाई से, वह शांति के दूत में बदल गए थे।

यह एक संदेशवाहक के रूप में उनकी भूमिका में था कि वह पहली बार भारत आए थे।

मुंबई में उनका वह काफी व्यस्त दिन था और ‘सन एन सैंड’ होटल में उनका यह दिन समाप्त हुआ जहाँ जाने माने फिल्म निर्माता सुल्तान अहमद, जो के. आसिफ के कई सहायकों में से एक थे, ने उनके सम्मान में एक पार्टी की मेजबानी की थी।

पार्टी में सुल्तान अहमद की नई फिल्म ‘दाता’ को भी अनाउंस किया गया था, और इसमें रेखा और मिथुन चक्रवर्ती मुख्य भूमिकाओं में थे। सुल्तान अहमद के शुभचिंतक सुनील दत्त समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद थे।

अली बीस से अधिक कारों के अपने काफिले के साथ होटल में पहुंचे थे और होटल के जुबली हॉल का नेतृत्व किया था जहाँ उन दिनों सभी बड़ी पार्टियों का आयोजन किया जाता था।

अली ने पार्किंसंस के पहले साइन दिखाए और यह उस तरह के सबसे स्ट्रोंग इंसान में से एक को देखने के लिए दयनीय लग रहा था।
रेखा द्वारा फिल्म ‘दत्त’ का मुहूर्त किया गया और सभी की निगाहें उन पर थीं। लेकिन एक व्यक्ति जो रेखा से अपनी आँखें नहीं हटा पा रहा था, वह मुहम्मद अली थे। वह बेचैन हो गए थे और तब तक शांत नहीं हुए थे जब तक उन्होंने सुल्तान अहमद से नहीं पूछा कि वह सुंदर महिला कौन थी और जब अहमद ने अली को बताया कि वह भारत की नंबर वन अभिनेत्री थी। और अली ने कहा, “इन्हें हॉलीवुड भेजों और मैं यह देखूंगा कि वह एक अंतर्राष्ट्रीय स्टार बन जाए। रेखा ने भगवान द्वारा बनाए गए सभी गुलाबी, लाल, पीले अन्य सुंदर रंगों से प्रफुल्लित हो उठी थी, अली ने कुछ साल बाद अपने कई सपनों को अधूरा छोड़ कर इस दुनिया से चले गए और उनका एक सपना जो उनके साथ ही मर गया वह था, रेखा को एक अंतर्राष्ट्रीय स्टार बनाने का उनका अद्भुत सपना।

कैसे कैसे रंग है आपके रेखाजी, आपका जादू तो अल्लाह को भी प्यारा है, मुहम्मद अली को भी और इस नाचीज अली को भी।

अनु- छवि शर्मा

 

SHARE

Mayapuri