90वें जन्मदिन पर 12 करोड़ की संपत्ति दान की प्रसिद्ध संगीतकार खय्याम ने

1 min


हिंदी सिनेमा के जाने माने और प्रसिद्ध संगीतकार खय्याम ने अपने 90वें जन्मदिन पर 12 करोड़ की संपत्ति दान करने की घोषणा की है। इस ट्रस्ट का नाम “खय्याम प्रदीप जगजीत चैरिटेबल ट्रस्ट” होगा

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो खय्याम और उनकी पत्नी जगजीत कौर ने एक ट्रस्ट बनाने की घोषणा की है इस ट्रस्ट के लिए जरिए ट्रस्ट जरूरतमंद और उभरते संगीतकारों की मदद की जाएगी। इस ट्रस्ट के मुख्य ट्रस्टी तलत अजीज और उनकी पत्नी होंगी। रिपोर्ट्स की मानें तो संगीत के बेताज बादशाह खय्याम एक्टर बनना चाहते थे, लेकिन किस्मत ने उन्हें संगीतकार बना दिया।

जालंधर में पैदा हुए खय्याम संगीत सीखने के लिए दिल्ली आये थे दिल्ली में उन्होंने पंडित अमरनाथ से संगीत की शिक्षा ली। खय्याम मन में एक्टिंग का शौक पाले लाहौर चले गये। वहीं से संगीत की बारिकियां सीखने के बाद वो मायानगरी मुंबई पहुंचे। कभी कभी और उमराव जान जैसी फिल्मों के लिए फिल्मफेयर अवॉर्ड पा चुके ख़य्याम ने अपने करियर की शुरुआत 1947 में फिल्म हीर – रांझा से की।

चार दशकों से हिंदी सिनेजगत में राज कर रहे खय्याम के लोकप्रिय गानों में “वो सुबह कभी तो आएगी”, “तुम अपना रंजो गम अपनी परेशानी मुझे दे दो”, “आजा रे ओ मेरे दिलबर आजा” “दिखाई दिये बेखुदी के आग में ” “ये क्या जगह है दोस्त” जैसे सुपरहिट गाने शामिल है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये