फिल्म के लिए ऑस्कर से ज्यादा महत्वपूर्ण है दर्शकों की सराहना – नसीरुद्दीन शाह

1 min


बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता नसीरूद्दीन शाह ये नहीं समझ पा रहे हैं कि आखिर भारतीय फिल्मकारों में ऑस्कर को लेकर इतनी चाहत क्यों है।

दरअसल नसीरुद्दीन शाह का कहना है कि किसी फिल्म के लिए दर्शकों से मिलने वाली सराहना ही मायने रखनी चाहिए न कि पुरस्कार। यह बातें नसीरुद्दीन ने चैतन्य तम्हाणे की फिल्म कोर्ट को लेकर कही।

बता दें चैतन्य तम्हाणे की पहली निर्देशित बहुभाषी मराठी फिल्म ‘कोर्ट’ को अगले साल के 88वें ऑस्कर पुरस्कार के सर्वश्रेष्ठ विदेशी फिल्म वर्ग में भारत की ओर से आधिकारिक प्रविष्टि मिली है।

‘कोर्ट’ के ऑस्कर मिलने की संभावना के बारे में पूछे जाने पर शाह ने संवाददाताओं से कहा, ‘मैं ऑस्कर की परवाह नहीं करता। मुझे नहीं मालूम कि हम लोगों में ऑस्कर को लेकर इतनी चाहत क्यों है। मैं भी मानता हूं कि ‘कोर्ट’ एक बेहतरीन फिल्म है। यह हाल के दिनों की सर्वश्रेष्ठ फिल्म है।’

शाह ने कहा, ‘मुझे लगता है कि ‘कोर्ट’ के निर्माताओं के लिए इतना ही काफी होना चाहिए कि फिल्म को पसंद किया गया और हमारे देश में अधिक सराहा गया और यही मायने रखता है।’

बता दें कि ये फिल्म राष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुकी है। कोर्ट फिल्म में एक लोअर कोर्ट में वकीलों के दांव पेचों को दिखाया गया है, जहां शहर के लोगों की आशाओं और सपनों से खिलवाड़ किया जाता है।

 

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये