फिलहाल मुझे नेगेटिव भूमिकाएँ नहीं करनी हैं – नायरा बनर्जी

1 min


‘‘दिव्य दृष्टि’’ व ‘‘एक्सक्यूज मी मैडम’’ सहित कई टीवी सीरियलों तथा कई हिंदी, तेलगू व कन्नड़ फिल्मों में अपने अभिनय का जलवा बिखेर चुकी अदाकारा नायरा बनर्जी इन दिनों ‘आल्ट बालाजी’ की वेब सीरीज ‘हैलो जी’ को लेकर काफी शोहरत बटोर रही है। इसमें वह पहली सेक्स आपरेटर अनुशीला तेंडुलकर उर्फ एंजीलीना के किरदार में नजर आ रही हैं। – शांतिस्वरूप त्रिपाठी

प्रस्तुत है नायरा बनर्जी से हुई बातचीत के अंश 

आपने 2009 में तेलगू फिल्म ‘आ ओकाड़ू’ से कैरियर की शुरुआत की थी। उसके बाद ‘दिव्य दृष्टि’ और ‘एक्सक्यूज मी मैडम’ जैसी टीवी सीरियल की। टीवी पर काम करने के अनुभव कैसे रहे?

देखिए, मैंने सिर्फ अभिनय नहीं किया, बल्कि मैंने बतौर सहायक निर्देषक टोनी डिसूजा के साथ फिल्म ‘अजहर’ भी की है। मैंने तेलगू के अलावा कन्नड़, मलयालम, तमिल फिल्मों में भी अभिनय किया है। वहीं मैंने ‘‘कमाल धमाल मालामाल’’,‘‘इश्क ने क्रेजी किया रे’’, ‘‘वन नाइट स्टैंड’’ और ‘‘आपरेशन कोबरा’’ जैसी हिंदी फिल्मों में भी अभिनय किया। उसके बाद मैने टीवी सीरियल‘‘दिव्य दृष्टि ’’किया। यह 2019 की बात है। 2020 में सीरिसल ‘‘एक्सक्यूज मी मैडम’’ किया। ‘दिव्य दृष्टि’ से मुझे बहुत प्यार और लोकप्रियता मिली। इसी के चलते मुझे ‘एक्सक्यूज मी मैडम’ से जुड़ने का अवसर मिला था।फिर इसे देखकर एकता कपूर ने बुलाकर मुझे वेब सीरीज ‘हैलो जी’ करने का अवसर दिया, जो कि काफी लोकप्रियता बटोर रही है। लोग इसे पसंद कर रहे हैं कि अब सभी को इसके दूसरे सीजन का बेसब्री से इंतजार है।

15 घंटे के लंबे शेड्यूल को छोड़कर मेरे टीवी के अनुभव भी अद्भुत रहे हैं। टीवी हर व्यक्ति तक पहुंचता है और हर कोई आपका चेहरा देख रहा है। आपको तुरंत लोकप्रियता मिलती है और पैसा भी। जोे लोग हर दिन कमाने पर बहुत अधिक ध्यान केंद्रित करते हैं,उनके लिए टीवी एकदम सही माध्यम है। ऐसे कलाकार ओटीटी फिल्म या वेब सीरीज या शायद एक नाटकीय फिल्म जैसी किसी चीज के लिए इंतजार नहीं करना चाहते, उनके लिए टीवी एक ही समय में स्थिरता और लोकप्रियता पाने का सबसे अच्छा तरीका है। मैंने ‘दिव्य दृष्टि’ के साथ टीवी पर अपनी शुरूआत की, जो एक अद्भुत सीरियल है। यह युवा पीढ़ी के साथ जुड़ा हुआ है और मैं हर किसी के लिए एक फैशन आइकन बन गयी हूं।इससे मुझे बहुत प्यार और सराहना मिली है।

पर आपने पहली बार कॉमेडी में हाथ आजमाया। कैसा रहा अनुभव?

सच कहूँ, तो पहले मुझे लगता था कि कॉमेडी बहुत अलग है। मगर काॅमेडी तो वास्तव में एक अभिनेता के रूप में खुद को जानने और समझने का सही जाॅनर है। मेरे लिए कॉमेडी शैली में काम करना एक अद्भुत अनुभव रहा। मैं फिर से कॉमेडी करना चाहूंगी। अब मुझे लगता है कि मैं काॅमेडी ज्यादा अच्छे ढंग से कर सकती हूँ।

लेकिन यह टीवी सीरियल अचानक ही बंद हो गया था?

जी हाॅ! पर इसका मुझ पर कोई खास असर नही हुआ। इस टीवी सीरियल के चलते मैं माह के पूरे तीस दिन व्यस्त हो गयी थी। जिसकी वजह से इस दौरान मुझे कुछ अच्छी वेब सीरीज के ऑफर मिल रहे थे, पर मुझे उन्हे ठुकराना पड़ रहा था। हकीकत में इस सीरियल की वजह से मैं तीन वेब सीरीज नही कर सकी। जबकि मैं हर माह इस सीरियल मंे केवल 15 दिनों के लिए शूटिंग कर रही थी। पर इसके बंद होते ही मुझे वेब सीरीज ‘‘हैलो जी’’मिल गया।यह मेरे लिए काफी सकारात्मक बात रही।

यदि इस सीरियल को करने में आपको मजा आ रहा था, तो फिर इस सीरियल के असफल होने की वजह क्या रही?

इसकी मूल वजह यह रही कि यह उन लोगों या दर्षकों तक नहीं पहुँच पाया, जिन तक इसे पहुँचना चाहिए था। जनता तक पहुंच बनाने के लिए प्रचार बहुत जरूरी है। अन्यथा, बहुत सारे नए चैनल हैं, इसलिए हर दूसरे दिन कई नए शो लॉन्च किए जा रहे हैं, कुछ नया आ रहा है, यह एक व्यस्त उद्योग है। लोग अब भी मुझसे पूछते हैं कि यह बंद क्यों हुआ!

आपने वेब सीरीज ‘हैलो जी’ में सेक्स ऑपरेटर का किरदार निभाने के लिए कैसे हामी भरी?

आपने इस सीरीज को देखा? इसमें अनावश्यक बोल्ड सीन्स नहीं हैं। मंैने इस वेब सीरीज को करने के लिए हामी भरी, क्योंकि इसमें बोल्ड सीन्स की बनिस्बत और भी बहुत कुछ है। ‘हेलो जी’ एक अनोखी वेब सीरीज है। आप भी इस बात से सहमत होंगे कि टीवी सीरियल्स और फिल्मों से अलग होने के लिए वेब सीरीज में कथानक के स्तर पर काफी कुछ होना आवष्यक है। दर्शकों को बांध कर रखने तथा उनके अंदर दूसरे सीजन के आगमन को लेकर रूचि बरकरार रखना हर वेब सीरीज के लिए काफी बड़ी चुनौती होती है। इसके लिए कुछ बहुत ही अलग तरह के नुकीले कंटेट का होना भी बहुत जरूरी है। नुकीलेपन से मेरा मतलब यह है कि इसे यौन या अंतरंग होने की आवश्यकता नहीं है। मैंने बहुत सी वेब सीरीज देखी हैं जिनमें अनावश्यक अंतरंग दृश्य हैं।

मैं बहुत स्पष्ट थी कि यह वेब श्रृंखला केवल सेक्स के बारे में नहीं होनी चाहिए और ऐसे दृश्य केवल तभी होने चाहिए जब वह स्क्रिप्ट की जरुरत हो।मेरा मानना है कि एक दर्शक और एक अभिनेता के रूप में अगर कहानी न्यायोचित नहीं है, तो अभिनेता उसे बेहतर ढंग से परदे पर निभा नहीं सकता।इस वेब सीरीज की सबसे अच्छी बात यह है कि मेरा चरित्र बोल्ड या नुकीला है, लेकिन यह अश्लील नहीं है। इस वेब सीरीज में अश्लील संवाद नहीं है और न ही कोई अनावश्यक सेक्स सीन है। वास्तव में सेक्स दृश्य की बनिस्बत सिर्फ अंतरंगता है। इस वेब सीरीज का मकसद एक अच्छी कहानी दिखाना है न कि सेक्स परोसना।

अपने किरदार को लेकर क्या कहेंगी?

मैंने इसमें लीड किरदार एंजेलिना की भूमिका में नजर आ रही हॅू। मैं एक फोन सेक्स ऑपरेटर नजर आ रही हॅूं,लेकिन मंैने एक भी अनावश्यक अंतरंग दृश्य नहीं किया है। इसमें मैं महिलाओं को पैसे कमाने के तरीके दिखाकर उन्हें वित्तीय स्थिरता देकर सशक्त बना रही हूं।जी हाॅ!यह कहानी अनुषीला तेंडुलकर उर्फ एंजीलीना की है,जो एक घटना के कारण बहुत कम उम्र में अपने घर से भागती है। इस वजह से वह अच्छी पढ़ाई नहीं कर सकी और अपना ना अच्छा कैरियर बना सकी। मेरे लिए पैसे कमाने का सबसे अच्छा तरीका फोन सेक्स ऑपरेटर बनना है। जीवन में संघर्षों के कारण, मैं एक बहुत ही सिरफिरी लड़की, एक सामान-मुक्त व्यक्ति बन गयी हूं। मुझे पता है कि हर स्थिति को सहजता और सरसता से कैसे संभालना है। यह मेरे व्यक्तित्व को दर्शाता है। इसलिए, जब मैं शहर में आती हूं और लड़कियों के इस समूह से मिलती हूं, तो वह मेेरे अंदर इतना आत्मविश्वास और मजबूत पाते हैं कि सभी मेरे जैसा बनना चाहती हैं।

आरोप है कि यह वेब सीरीज ‘तुम्हारी सुल्लु’ की तरह हैं?

जी नही… मेरी राय में दोेनों में कोई समानता नही है। ‘तुम्हारी सुलु’ की नायिका रेडियो जॉकी है, जबकि ‘हेलो जी’ की नायिका फोन सेक्स ऑपरेटर है। मैं सिर्फ फोन पर बात करके सामने वाले का मन हलकाकर उससे पैसे ऐठने का काम कर रही हूं।

अब आप किस तरह के टीवी सीरियलों में काम करना चाहेंगी?

मैं महिला सशक्तीकरण जैसे विषयों वाले टीवी सीरियल करना चाहती हॅू।मैं रोमांचक व रहस्य प्रधान सीरियल भी करना चाहँूगी। लेकिन मुझे ‘सास बहू मार्का सीरियल नहीं करना है। मैं बहुत ही खुले विचारों वाली इंसान हूं और मैं अपने आसपास के खुले विचारों वाले लोगों की सराहना करती हूं। मैं बहुत ही घरेलू इंसान हूं।आपने मुझे कभी भी पार्टी वगैरह में नही देखा होगा। मैं कोई सामाजिक तितली नहीं हूं। मैं कुछ ऐसा करना चाहूंगी, जिससे मेरी मानसिकता को व्यापक आकर मिले और मुझे एक बेहतरीन क्षितिज नसीब हो।

क्या आप नेगेटिव किरदार निभाना चाहेंगी?

जी नहीं! मुझे पता है कि इस उद्योग में कलाकार को बहुत जल्द किसी न किसी एक खास ईमेज में बांध दिया जाता है। इसी वजह से इतनी जल्दी मैं नेगेटिव किरदार नहीं निभाना चाहती।एकता कपूर ने मुझे सीरियल ‘नागिन’ में नेगेटिब किरदार मे लीड भूमिका निभाने का आफर दिया था, जिसे मैं बड़ी विनम्रता के साथ ठुकरा दिया था। मैं ऐसा करने के लिए बहुत आश्वस्त नहीं थी। क्योंकि यह मेरे दिल से नहीं जुड़ा था। मैंने अपने जीवन में हमेषा अपने दिल से जुड़ी हुई कहानियों को ही चुना है। मैं कुछ अधिक सकारात्मक और सशक्त किरदार निभाना चाहती

 


Mayapuri