Skater Girl Review: स्केटिंग से प्रेरणा को मिली जीने की प्रेरणा

1 min


Skater Girl

हाल ही में नेटफ्लिक्स पर रिलीज हुई फिल्म स्केटर गर्ल देखी। फिल्म में एमी मघेरा, रेचल संचिता गुप्ता, जोनाथन रेअड्विन मुख्य किरदार में नजर आएं। और वाहिदा रहमान का स्पेशन एपियरेंस रहा।

फिल्म की कहानी है राजस्थान के खेमपूर गांव की, जहां पर आज भी नीची और ऊंची जातियों में भेदभाव है, कोई कहता नहीं है लेकिन एक अनसेड रूल है कि जैसे उनका हैंडपंप अलग रंगों का है। आज भी वहां लड़कियों की शादी जल्दी कर दी जाती है। इसी माहौल में पली बड़ी थी एक 16-17 साल की लड़की प्रेरणा(रेचल संचिता गुप्ता) जो पढ़ना चाहती थी, कंप्यूटर सीखना चाहती थी, बेसिकली कुछ करना चाहती थी, जब भी कुछ नया देखती तो उसके आंखों में चमक आ जाती।

इसी गांव में अपने अतीत की यादें लिए जेसिका(एमी मघेरा) नाम की लड़की आई। यहां इसकी मुलाकात हुई प्रेरणा से और उसके छोटे भाई अंकूश से। कहानी ने कुछ और मोड़ लिया और प्ररेणा को स्केटर बॉर्ड से जिंदगी जीने की प्ररेणा मिल गई। कहानी इसी पर आधारित है।

एक्टिंग की बात करें तो अपने रोल में सभी कलाकार अच्छे रहे। अपने किरदार के साथ इंसाफ करते हुए कही भी ओवर एक्टिंग नहीं लगी।

फिल्म को मंजरी मकिजन्य ने डायरेक्ट किया, जो बेहतरीन रहा। डायलॉग्स और म्यूजिक भी अच्छा था।

फिल्म में एक तरफ दिखाया गया कि जहां आज भी अगर औरत घर से बाहर जाकर काम करें तो इससे घर के मर्दों की शान कम होती है तो वहीं के बच्चों को शिक्षा के लिए जागरूक करते भी दिखाया गया। न केवल लड़को को बल्कि लड़कियों को भी। कहानी में काफी अच्छा बेलेंस कर थोड़ी कॉमेडी, थोड़ा इमोशन, थोड़ा ड्रामा, बहुत सारी सीख का मिश्रन है।

  • कहानी अलग और सच्ची घटनाओं पर आधारित है, जिसे बड़ी ही खुबशूरती और स्मूथली दिखाया गया।
  • एक्टिंग बेहतरीन थी।
  • डायरेक्शन, डायलॉग्स और म्यूजिक अच्छा था।
  • फिल्म छोटी थी लेकिन पूरी लगी, स्क्रीन से एक पल के लिए नजर हटाने का मन नहीं करेगा।
  • फिल्म विमन सेंट्रिक थी लेकिन बिना एक्स्ट्रा एर्फ्ट और औरतों को मर्दों से अधिक बताने की कहीं भी कोशिश नहीं की गई जो बहुत अच्छी लगी।

Rating- 4/5

 


Like it? Share with your friends!

Pragati Raj

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये