दो भाइयों को प्रिया मिलने नही देती

1 min


Chetan_Anand_(director)

 

मायापुरी अंक 01.1974

लेखक निर्माता-निर्देशक चेतन आनंद देवानंद का बड़ा भाई है और चेतन और देव ने मिलकर 1946 में ‘नवकेतन की स्थापना की थी। इसके झण्डे तले चेतन ने ‘अफसर’ फिल्म बनाई थी जिसमें देवानंद और सुरैया की मुख्य जोड़ी थी (याद रहे उस जमाने में सुरैया और देवानन्द में जबरदस्त रोमांस चल रहा था) इसके बाद 1956 में चेतन ने देवानंद की फिल्म ‘फंटूश’ बनाई थी। उसके बाद से ही दोनों भाई अलग-अलग व्यस्त हो गए थे। अब फ्लॉप फिल्मों की भरमार के बाद दोनों भाई एक दूसरे के लिए काम करने को तैयार हो गए थे किन्तु पता चला है कि चेतन को प्रिया राजवंश के कारण दोनों भाइयों में मेल होने से से रह गया है, चेतनआनन्द अपनी फिल्म में आदत से मजबूर होकर देव के साथ प्रिया को ही हीरोइन लेता है और देवानंद प्रिया के साथ काम नही करता अब दो भाइयों का मिलन हो भी तो कैसे?


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये