उनकी आँखों में थी जान और सारा जहां, नाम था नवाब जो बन गया निम्मी

1 min


निम्मी

मैं कभी-कभी इस पर विश्वास नहीं कर पता कि कैसे मैंने अपने जीवन में कुछ सबसे अच्छे और प्रतिभाशाली पुरुषों और महिलाओं से मुलाकात की है और किन परिस्थितियों में मैं उनसे मिला हूं, जिसे अब मैं सोचता हूँ तो मुझे खुद पर हैरत होती हैं!

मैंने अली रजा नाम के एक लेखक के बारे में काफी सुना था, जैसे कि वह महान हिंदी फिल्मों ‘आन’, ‘अंदाज’, ‘मदर इंडिया’, ‘रेशमा और शेरा’, ‘राजा जानी’ और ‘दस नंबरी’ आदि फिल्मों के लेखकों में से एक थे! मेरे अंदर एक दिन उनसे मिलने की एक मौन और गुप्त महत्वाकांक्षा थी, जो की जितना संभव हो उतने अच्छे लेखकों से मिलने के लिए मेरा मेरे अंदर कि आत्मा को सैटिस्फाइ करने का एक जरिया था!

“आप अली है, मैं आपका हर आर्टिकल और आपके कॉलम्स पढ़ता हूँ”

मैं बांद्रा में स्थित महबूब स्टूडियो की एक बड़ी फिल्म के मुहूर्त पर पहुंचा था! सैकड़ों सेलिब्रिटीज थे जो मुहूर्त के लिए कंपाउंड में इकट्ठे हुए थे और जैसा की मेरी इच्छा थी तो किसी ने मुझे बताया कि वो सफेद रंग के कपड़े पहने हुए वो दूर खड़ा आदमी अली रजा थे, जो ‘मुगल ई आजम’ के लेखकों में से एक थे! उस पल कुछ भी और कोई भी मेरे लिए कोई मायने नहीं रखता था, और मैं सिर्फ अली रजा से मिलना चाहता था। मैं उनके पास गया और अपना परिचय दिया और फिर वह तुरंत बोले, “आप अली है, मैं आपका हर आर्टिकल और आपके कॉलम्स पढ़ता हूँ” और मैं उनके मुह से यह सुन इतना खुश था की मानो मैं आसमान में उड़ रहा हूँ। और जो ज्यादा दिलचस्प बात थी, वह यह थी कि उन्होंने मुझे वर्ली में स्थित उनके घर पर दोपहर के भोजन पर इनवाइट किया था!

लोनली हिल पर स्थित उनके घर को ‘समिट’ कहा जाता था और जब मैं अंदर गया तो मुझे यह देखकर बहुत खुशी हुई कि जो महिला हमें बिरयानी परोस रही थी वह जानी-मानी अभिनेत्री निम्मी थी और तब मैं उन्हें लगातार देखता रहा और सोचता रहा कि क्या यह साधारण महिला वही स्टार एक्ट्रेस निम्मी थी जिसे कई सालों से लाखों लोगों से प्यार और प्रशंसा मिलती आई थी। मैंने उनसे पूछा कि, क्या मैं उनसे कुछ मिनट बात कर सकता हूं और उन्होंने कहा, “पहले आप बिरयानी का मजा लीजिये, फिर मैं आपको चाय पिलाती हूँ, फिर बाते करते है” मेरा दिन जो अली रजा से मिलने के बाद एक ब्राइट नोट पर शुरू हुआ था, अब उन दोनों के साथ एक उत्सव में बदल गया था क्योंकि निम्मी ने मुझे उनसे बात करने के लिए सहमति दे दी थी!

अली रजा अपने कमरे में चले गए और जब तक हमने अपनी बातचीत पूरी नहीं की

और अगले 45 मिनट में, उन्होंने मुझे अपने जीवन की पूरी कहानी उर्दू में बताई और मैं उनसे इससे ज्यादा क्या पूछ सकता था? मुझे किसी भी तरह कि असुविधा को महसूस न कराने के लिए, अली रजा अपने कमरे में चले गए और जब तक हमने अपनी बातचीत पूरी नहीं की, तब तक वह वहीं रहे!
निम्मी का जन्म इलाहाबाद में एक मध्यम वर्गीय मुस्लिम परिवार में हुआ था और उनका असली नाम ‘नवाब बानो’ था, वह शायद ही कभी किसी स्कूल में गई होगी! उनके एक रिश्तेदार थे जिन्हें मेहबूब खान के नाम से जाना जाता था, जो उन दिनों दिलीप कुमार, राज कपूर और नरगिस के साथ फिल्म ‘अंदाज’ की शूटिंग कर रहे थे! मेहबूब के एक दोस्त ने नवाब और उनकी दोस्तों को ‘अंदाज’ की शूटिंग देखने के लिए आमंत्रित किया था, नवाब जो पहली बार मुंबई आई थी, शोबिज की दुनिया से चकाचैंध थी! उनकी उत्तेजना को बढ़ाने के लिए, राज कपूर, जिनके पास प्रतिभा की पैनी नजर थी, ने उनसे पूछा कि क्या वह उनकी फिल्म ‘बरसात’ में काम करेंगी! नवाब को निम्मी में तब्दील कर दिया गया और फिल्म ‘बरसात’ में उन्हें दूसरी हीरोइन के रूप में प्रेमनाथ के साथ कास्ट किया गया, प्रेमनाथ जिन्होंने फिल्म में एक धोकेबाज प्रेमी कि भूमिका निभाई थी! उनके पास फिल्म में कुछ बेहतरीन गाने भी थे और उन्होंने एक साधारण गाँव की लड़की की भूमिका निभाई थी। फिल्म और इसका संगीत मेजर हिट रहा और नई अभिनेत्री निम्मी टॉप पर पहुँच गई थी!

अगले कुछ सालों में, वह दिलीप कुमार के साथ एक लीडिंग लेडी का किरदार निभा रही थीं, जिनके साथ उन्होंने पाँच फिल्में की थीं, देव आनंद और उस समय के अन्य सभी प्रमुख नायकों के साथ काम कर रही थी और वे पूरे देश और यहाँ तक कि पाकिस्तान में भी सबकी पसंद बन गई थी, लेकिन वह फिर भी वही इलाहाबाद की रहने वाली सीधी-सादी सी लड़की नवाब ही थी। यह उनकी सादगी ही थी जिसने अली रजा को उनकी ओर आकर्षित किया था और कुछ ही समय बाद निम्मी और अली रजा ने शादी कर ली और वर्ली में उस लोनली हिल पर अली रजा के घर ‘समिट’ में शिफ्ट हो गई थी।

निम्मी ने हालांकि काम करना बंद नहीं किया और ‘अंगुलिमाल’ और ‘मेरे मेहबूब’ जैसी विभिन्न प्रकार की फिल्मों में उन्हें कई तरह की भूमिकाओं में देखा गया, जिसमें उनके साथ राजेंद्र कुमार, साधना और अशोक कुमार अन्य महत्वपूर्ण भूमिकाओं में थे! उसकी खूबसूरत आंखें अभी भी चमत्कार कर सकती हैं और यहां तक कि पहाड़ों, राक्षसों को भी हिला सकती हैं। और वह अपने तरीके से जीवन की लहरों पर राज करती रही!

निम्मी उन मूल कलाकारों में से केवल अकेली ही बची थी

इसके बाद उनके करियर में सबसे ज्यादा मनहूस फिल्म तब आई। जब के.आसिफ ने उन्हें अपनी फिल्म ‘लव एंड गॉड’ की प्रमुख महिला के रूप में गुरु दत्त के साथ साइन किया था। जब गुरु दत्त ने अचानक फिल्म को छोड़ दिया और आत्महत्या कर ली, तब तक आसिफ ने मुश्किल से इस फिल्म के कुछ दृश्यों की शूटिंग की थी! और फिर आसिफ ने संजीव कुमार को कास्ट किया और इसके बाद आसिफ की खुद दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी। आसिफ की बहन ने जाने-माने निर्माता के.सी.बोकाडिया की मदद से फिल्म पूरी करने की कोशिश की और इससे पहले कि फिल्म आगे बढ़ पाती संजीव कुमार की भी मृत्यु हो गई थी। और निम्मी उन मूल कलाकारों में से केवल अकेली ही बची थी और फिल्म को इसके काटे-पिटे वर्शन में ही रिलीज किया गया था और उम्मीद के मुताबिक, यह बुरी तरह से फ्लॉप हुई और इसने एक अभिनेत्री के रूप में निम्मी के करियर के सकारात्मक अंत को चिह्नित किया।

अली रजा की साल 2007 में ही मृत्यु हो गई और निम्मी पहाड़ी पर स्थित उस बंगले में अकेले रहने के बारे में कभी नहीं सोच सकती थी और उन्होंने आखिरकार उसे बेच दिया और जुहू बीच का सामने वाली ‘नेहा’ नामक इमारत के एक अपार्टमेंट में शिफ्ट हो गई थी। वह 15 साल से अधिक समय से वह वहा रह रही थी और वह उस दौरान एक बार, वह मेरे दोस्त डॉ.त्रिनेत्र बाजपेयी द्वारा आयोजित एक समारोह में शामिल हुई थी, डॉ.त्रिनेत्र बाजपेयी जो उच्चतम श्रेणी का एक केमिकल इंजीनियर थे, जिसे फिल्मों, संगीत और पुस्तकों से बेहद प्यार था। डॉ। बाजपेयी की ‘कॉफी टेबल बुक’ का शुभारंभ वह आखिरी सार्वजनिक समारोह था जिसमें उन्होंने धर्मेंद्र और दिलीप कुमार और उनकी बहन की तरह कुछ पुराने दोस्तों से निम्मी ने मुलाकात की थी!

उनकी नाजुक सेहत फिर से पहले जैसी नहीं हुई थी! और एक सुबह उन्होंने सांस न ले पाने की शिकायत की और उन्हें स्थानीय अस्पताल में ले जाया गया जहां उन्होंने शाम को अपनी अंतिम सांस ली! लॉकडाउन के दौरान उनका अंतिम संस्कार उस कबीरस्तान में किया गया था जहाँ उनकी सहेली मीना कुमारी को दफनाया गया था!

आज हमारे पास कई हीरोइने हैं, लेकिन हमारे पास निम्मी जैसी आइकॉनिक अभिनेत्रियाँ हैं?

मुझे पता है कि, कुछ लड़कियां और उनके गॉडफादर मुझसे अलग होने को कह सकते हैं और मैं केवल उन्हें यही बता सकता हूं कि वे आपके टीवी सेट या आपके स्मार्ट फोन पर स्विच कर रहे हैं और कुछ फिल्में देख रहे हैं या फिर कम से कम निम्मी के कुछ गाने हैं और आपको पता चल जाएगा कि मैं क्या कह रहा हूं और क्यों कह रहा हूं!

अनु-छवि शर्मा

Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये