मूवी रिव्यू: लिव इन रिलेशनशिप का भारतीय संस्करण है ‘ओके जानू’

1 min


रेटिंग***

हम कितने भी मॉर्डन क्यों न हो जाये लेकिन भारतीय परपंराओं की अवेहलना नहीं कर सकते। इन दिनों ढेर सारी आधुनिक लव स्टोरीज बन रही हैं लेकिन भारतीय संस्कारों और परपंराओं में लपेट कर। साउथ इंडियन फिल्म ‘ओ काधाल कनंमनी’ पर आधारित शाद अली द्धारा निर्देशित फिल्म ‘ओके जानू’ में बेशक लीव इन रिलेशनशिप की बात कही है बावजूद इसके कितनी ही बार उसे अपनो से लीविंग को छुपाने की कोशिशें भी दिखाई गई हैं।ok-jaanu-movie review

आदित्य रॉय कपूर एक प्रोग्रामर है जो एक नया गेम बनाने के लिये मुबंई आता है और एक रिटायर जज नसीरूद्दीन शाह के यहां पेइंग गेस्ट बन कर रहता है। नसीर की शास्त्रीय संगीत की गायिका पत्नि अलमाइजर जैसी बीमारी से पीड़ित है लिहाजा वो अक्सर भूल जाती है। उनकी कोई औलाद नहीं है इसलिये नसीर अपनी पत्नि का पूरा ख्याल रखते हैं। एक दिन आदित्य की मुलाकात श्रद्धा कपूर से होती है। श्रद्धा भी किसी जॉब में है जिसके लिये वो पेरिस जाने की ख्वाहिशमंद है। इसी तरह आदित्य भी अपने काम के तहत अमेरिका में जाना चाहता है। दोनों जल्द ही  करीब आ जाते हैं और तब तक लीव इन रिलेशनशिप में रहना चाहते हैं जब तक दोनो का पेरिस और अमेरिका जाने का प्रोग्राम न बन जाये। लेकिन छह महीने बाद जब दोनो का एक दूसरे को अलविदा कहने का वक्त आता है तो एक दूसरे से अलग होने के नाम से ही विचलित हो उठते हैं इसलिये आदित्य का मशवरा हैं कि श्रद्धा को पेरिस जाने से पहले सगाई कर ली जाये उसके बाद दोनों बेशक अपने अपने काम पर निकल जायें। कभी शादी न करने का निश्चय कर चुकी श्रद्धा भी आदित्य की बात को स्वीकार कर लेती है।ok-jaanu-story-review

मणी रत्नम द्धारा लिखित व निर्देशित साउथ की फिल्म ओ कधाला कनंमनी एक सफल फिल्म थी। बाद में जब इसे डायरेक्टर शाद अली ने हिन्दी में बनाने का निश्चय किया तो हिन्दी भी मणी रत्नम द्धारा ही लिखी गई। फिल्म हिन्दी में भी साउथ की फिल्म का फ्रेमदर फ्रेम है बस माहौल और भाषा अलग है बल्कि दूसरी फिल्म का एक गीत हम्मा हम्मा….. भी फिल्म में है। कहानी लिव इन रिलेशनशिप पर आधारित है लेकिन देशी टच के साथ। इसलिये फिल्म लिविंग में रहने की वजह बताई गई है। फिल्म की पटकथा और संवाद तो अच्छे हैं ही। इसके अलावा ए आर अमीन के गीत मौला ए सालिम के अलावा हम्मा हम्मा, एन्ना सोणा, ओके जानू, जी ले जरा, साजन आयो रे, कारा फंकारा तथा सुन भवरा जैसे गीतों को बादशाह, जुबीन, साशा त्रिपाठी और ए आर रहमान इत्यादि गायक गायिकाओं ने गाया है। सभी गीत मधुर हैं। इन्हें ए आर रहमान, बादशाह तथा  तनिष्क बागची के संगीत से सजाया गया है।ok jaanu

आदित्य रॉय कपूर और श्रद्धा कपूर आशिकी टू में एक साथ आये थे बाद में श्रद्धा लगातार हिट फिल्में देती रही जबकि आदित्य ऐसा नहीं कर पाये। एक बार फिर ये खूबसूरत जोड़ी इस फिल्म में नजर आ रही है। आदित्य ने जंहा एक मस्तमौला लेकिन आज के युवा की भूमिका को बहुत बढ़िया तरह से निभाया है, वहीं श्रद्धा कपूर फिल्म में जितनी खूबसूरत लगी है उतना ही सुंदर उसने अभिनय भी किया है। इस जोड़ी के अलावा रिटायर जज और अपनी पत्नि को बेहद प्यार करने वाले शख्स के तौर पर नसीरूद्दीन ने बहुत ही सहज अभिनय किया है।

ओके जानू आज के युवाओं को लिव इन रिलेशनशिप के भारतीय संस्करण से रूबरू कराती है। फिल्म में युवा वर्ग की पसंद की सारी चीजें मौजूद हैं।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये