दर्शकों का धैर्य टूटा

1 min


TheGodfather-MoviePoster

 

मायापुरी अंक 20,1975

फिल्म फेस्टिवल के लिए आई फिल्मों का स्तर कैसा है, इसका जायजा लेने के लिए दो मजेदार घटनाएं हुईं।

दस जनवरी को ओडियन सिनेमा में दोपहर के शो में एक विदेशी फिल्म देखने से इंकार कर दिया। फिल्म के बीच में ही दर्शकों ने हो हल्ला मचाना शुरू कर दिया। इस पर मैनेजर ने घबरा कर एक ‘ए’ फिल्म का प्रिंट मंगाया। मैटिनी शो में दोपहर के शो वाले दर्शकों को भी फिल्म देखने दी गई। हाल में आधे दर्शक खड़े थे, आधे बैठे

इसी भांति ग्यारह जनवरी को दर्शकों ने प्लाजा में क्यूबा की फिल्म ‘गिरोन’ देखने से इंकार कर दिया। फिल्म के बीच में ही दर्शक बाहर निकल गये और पथराव पर उतारू हो गये। सिनेमा मैनेजर ने फेस्टिवल अधिकारियों को फोन किया। उनका सौभाग्य ही कहिये कि उन्हें ‘गॉडफादर’ का प्रिंट मिल गया। फिर नाइट शो में इवनिंग शो के दर्शकों को फिल्म दिखाई गई और नाइट शो सुबह (आधी रात को) बारह से तीन बजे तक दिखाया गया।

SHARE

Mayapuri