केबीसी के शानदार शुक्रवार में javelin throw को एक खेल के रूप में चुनने पर ये बोले ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट नीरज चोपड़ा

1 min


सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन का पॉपुलर शो कौन बनेगा करोड़पति इस हफ्ते शानदार शुक्रवार के स्पेशल एपिसोड में ओलंपियन नीरज चोपड़ा और पीआर श्रीजेश का स्वागत करने के लिए तैयार है। वे एथलीट्स के रूप में अपने व्यक्तिगत किस्सों और करियर के उतार-चढ़ाव के अनुभवों को साझा करते नजर आएंगे। इतना ही नहीं, इस एपिसोड में नीरज चोपड़ा, जो 2021 में विश्व एथलेटिक्स रैंकिंग में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर दूसरे स्थान पर रहे, ने बताया कि उन्होंने एक खेल के रूप में भाला फेंक को क्यों और कैसे शुरू किया।

इस के बारे में बात करते हुए, नीरज चोपड़ा ने कहा, “ईमानदारी से कहूं तो जब मैं 13-14 साल का था, तब मेरा वजन ज्यादा था। मेरे चाचा जी ने जोर देकर कहा कि मैं खेल-कूद में लग जाऊं। उन्होंने  मुझे खेल और पढ़ाई के बीच किसी एक को चुनने के लिए भी कहा। मैंने यह सोचकर उन्हें अपनी पसंद पढ़ाई बताई कि वो मुझ पर गर्व करेंगे। हालांकि इस पर उन्होंने कहा कि वो जानते हैं कि मैं कितना पढ़ता हूं और मुझे खेलों में शामिल होने के लिए कहा। इसलिए जब उन्होंने मुझे स्टेडियम भेजा, तो मुझे पता नहीं था कि मैं कोई खेल खेलूंगा। मैं बस वजन कम करने के लिए वहां गया था। स्टेडियम मेरे गांव से 15-16 किलोमीटर दूर था और मैं बस से यात्रा करता था। यह बस स्टेडियम से 2 किमी पहले रुकती थी और फिर मुझे इसे पूरे रास्ते चलना पड़ता था। एक-दो महीने बाद मेरी फिटनेस में सुधार हुआ। स्टेडियम में बहुत सारे खेल थे, लेकिन मैंने अपने सीनियर्स को भाला फेंकते देखा और मुझे इसे बहुत दूर जाकर जमीन पर अटकते हुए देखना अच्छा लगा और मुझे ऐसा लगा कि मैं यह करना चाहता हूं। मैंने इसे आजमाया और इसका भरपूर मजा लिया।”

उन्होंने आगे बताया, “मेरे सीनियर जय को लगा कि मेरा थ्रो अच्छा है और उन्होंने मुझे अपने साथ शामिल होने के लिए कहा। मुझे नहीं पता कि क्या हुआ या मुझे इसके बारे में क्या पसंद है, लेकिन मुझे लगा कि यह एक ऐसा खेल है जिसे मैं खेलना चाहता हूं। मैंने कभी ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने के बारे में नहीं सोचा था (जब मैंने इस खेल को अपनाया था)। मैंने बस अपनी पूरी ताकत और मेहनत इसमें लगा दी। मैं भाग्यशाली हूं कि मुझे अपने परिवार और सीनियर्स से बहुत समर्थन और मार्गदर्शन मिला और आज, मैंने अपने देश के लिए गोल्ड मेडल जीता है।”

दोनों एथलीट्स उन कारणों के लिए भी खेलेंगे, जिनका वे समर्थन करते हैं। इस गेम शो में जीती हुई रकम पीआर श्रीजेश द्वारा केरल सरकार के अभियान – विद्याकिरणम को और नीरज चोपड़ा द्वारा इंस्पायर इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स ऑफ बेल्लारी, कर्नाटक को दान की जाएगी।

देखना ना भूलें केबीसी 13 का शानदार शुक्रवार एपिसोड, इस शुक्रवार 17 सितंबर को रात 9 बजे, सिर्फ सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन पर।

SHARE

Mayapuri