पद्मिनी कपिला – छोटा मुंह बड़ी बात

1 min


mqdefault

मायापुरी अंक 51,1975

डाची फिल्म्स के कार्यालय में पद्मिनी कपिला से भेंट हो गई। हमने ऑफिस में बात न करते हुए समय मांगा तो बोली,

मैं कल दिल्ली जा रही हूं रिश्तेदारी में शादी है। वह अटैंड करके शायद 18 तक वापस आऊंगी।

आपकी कई फिल्में शुरू हुई थी, लेकिन किसी की कोई खबर ही नहीं मिल रही क्या बात है? हमने पूछा।

राजेश खन्ना एज 007 के लिए मैंने रिस्क लिया और कई फिल्में छोड़ दी। इसलिए इस समय ‘चोरों की बारात’ और ‘राजेश खन्ना एज 007’ के अतिरिक्त कोई फिल्म नहीं कर रही हूं पद्मिनी ने बताया। एक फिल्म ‘आखिरी डाकू’ भी है शायद जिसमें रेखा हीरोइन है। क्या वह भी छोड़ दी? हमने पूछा।

नहीं, उसमें मेरा काम काफी हो चुका था। और वह बहुत पहले साइन की थी। इसलिए कर रही हूं। हालांकि बहन का बड़ा घिसापिटा रोल है, जिसमें राखी बांधना, रेप होना जैसी सारी घटिया बातें हैं। पद्मिनी कपिला ने बताया।

लेकिन यह कोई बात न हुई कि अपने-अपने ज़रा से स्वार्थ के लिए निर्माताओं को बलि का बकरा बना डाला यह तो ऐसा ही है कि किसी जान गई आपकी अदा ठहरी हमने कहा।

शंकर बी.सी. फिल्म के साथ यह शर्त थी कि मैं सी क्लास फिल्में साइन नहीं करूंगी। वह फिल्म हासिल करने के लिए मुझे यह फैसला करना पड़ा। अगर करूंगी तो ए क्लास फिल्में ही करूंगी वरना फिर काम छोड़ दूंगी। दरअसल ‘सी क्लास’ फिल्मों में काम करने के बाद मिलता कुछ नहीं है। पद्मिनी कपिल ने कहा।

किसी फिल्म की शूटिंग करने के बाद फिल्म छोड़ना तो एक तरह से अपराध है। आपने किस प्रकार अपना पिंड छुड़ाया? हमने पूछा।

सुचित्रा छ: रीलें बनी थी किंतु बड़ी ही सुंदर फिल्म बनाई थी। उसका निर्देशक बदला तो मैं भी निकल गई। बाद में रमण खन्ना ने मुझसे वह फिल्म करने के लिए कहा तो मैंने कह दिया करूंगी। किंतु निर्देशक अच्छा और मेरी पसंद का होना चाहिये। ‘मृग तृष्णा’ छोड़ने में बड़ी तकलीफ हुई। क्योंकि वे लोग ड्रैस आदि सिलवा चुके थे। लेकिन समय पर शूटिंग नहीं कर सके थे। मेरे करियर का सवाल था, इसलिए हमारी एसोसिएशन में जब बात हो गई तो नरेन्द्र सिंह बेदी और करण दीवान की सहायता से पिंड छूटा मुझे इन फिल्मों के छूटने का दुख नहीं है। जो फिल्में हाथ मैं हैं अगर वे अच्छी तरह निभा गई तो लाइफ जरूर बन जाएगी। हर कोई जीवन में कुछ करके दिखाना चाहता है। मैं भी यही चाहती हूं पद्मिनी कपिला ने कहा।

सुना है राजेश खन्ना आप पर बड़े मेहरबान है। उन्होंने 007 में आपका रोल बढ़वा दिया है। जिसकी वजह से केटी मिर्जा और कोमिला विर्क के रोल बराय नाम रह गए हैं। क्या यह सच है? हमने पूछा। नहीं, ऐसी कोई बात नहीं है। राजेश जी ने मुझे सहयोग जरूर दिया है लेकिन किसी के रोल में कांट छांट नहीं हुई है। मेरा ऑरिजनल रोल जैसा था आप चाहें तो स्क्रिप्ट देख सकते हैं। पद्मिनी कपिला ने बताया।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये