परेश रावल

1 min


सतरंगी परेश रावल

परेश रावल उन एक्टर्स में से हैं जिन्हें कुदरत ने उस फन से नवाज़ा है जिसे देख सब दंग रह जाएं। ये ऐसे एक्टर हैं जो जिस किरदार को निभाते हैं, उसी के हो जाते हैं और ऐसा करना सबके बस की बात नहीं ये सिर्फ एक उच्च कोटि का कलाकार ही कर सकता है और इस सतरंगी कलाकार का जन्म 30 मई, 1950 को मुम्बई, भारत में हुआ था। इनका विवाह 1979 में मिस इंडिया बनी स्वरूप सम्पत के साथ हुआ व इनके दो बच्चे आदित्य और अनिरुद्ध हैं।

रावल ने अभिनय की शुरूआत 1984 में की थी। तब इन्होंने ‘होली’ नामक फिल्म में एक सहायक किरदार निभाया था। इसके बाद 1986 में “नाम” नामक फिल्म से उनके अभिनय के गुण के बारे में लोगों को पता चला। इसके बाद वह 1980 से 1990 के मध्य 100 से अधिक फिल्मों में खलनायक की भूमिका में नजर आए जिनमें कब्जा, किंग अंकल, राम लखन,  दौड़, बाज़ी और कई फिल्में शामिल हैं। यह एक हास्य फिल्म ‘अंदाज़ अपना अपना’ में पहली बार दो किरदार में नजर आए। इसके बाद वर्ष 2000 में फिल्म “हेरा फेरी” में अपने अभिनय और किरदार के कारण काफी लोकप्रियता हासिल की, वह इसके बाद कई फिल्मों में मुख्य किरदार भी निभा चूके हैं। हेरा फेरी फिल्म में राजू (अक्षय कुमार) और श्याम (सुनील शेट्टी) उनके घर में किराए पर रहते हैं। जबकि रावल फिल्म में मकान मालिक का किरदार निभाते हैं। इस किरदार को हेरा फेरी की सफलता का श्रेय दिया गया है। परेश रावल को उनके कार्य के लिए फिल्मफेयर पुरस्कार (सर्वश्रेष्ठ हास्यकार) भी दिया जा चुका है। उनका बाबुराव का किरदार फिल्म के दूसरे भाग ‘फिर हेरा फेरी’ (2006) में भी देखने को मिला, यह फिल्म भी सफल रही।

इनकी प्रतिभा और फिल्म जगत में इनके बहुमुखी योगदान को देख कर 2014 में उन्हें पद्म श्री से सम्मानित किया गया। परेश रावल को 1994 में राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार के सहायक कलाकार के अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया। इसके बाद इन्हें सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता का फिल्मफेयर पुरस्कार भी मिल चुका है। यह केतन मेहता की फिल्म ‘सरदार’ में स्वतंत्रता सैनानी वल्लभ भाई पटेल की मुख्य किरदार में नजर आए थे। परेश रावल जैसा कलाकार जो विभिन्न प्रकार के किरदारों को इतनी संजीदगी से अदा करता है उनके जज्बे को वाकई सलाम है।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये