क्या किस्मत या खुदा परवीन बॉबी से नाराज थे? – अली पीटर जॉन

1 min


परवीन बॉबी

अगर कोई ऐसा था जो यह साबित करता है कि नियति नामक एक बड़ी शक्ति थी जिसने फिल्मों में आने वाले लोगों के जीवन और करियर में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, तो यह निस्संदेह परवीन बाॅबी है। – Ali Peter John

उनके साथ काम करने वाले कलाकारों में राजेश खन्ना भी शामिल थे

परवीन बॉबी

परवीन ने तब फिल्मों की दुनिया में कदम रखा जब वह पूरी तरह से जानती थीं कि उनके अंदर इसका हिस्सा बनने के लिए कोई योग्यता नहीं है और तब भी उन्होंने अभिनेत्री बनने का कोई मौका नहीं छोड़ा। वह बहुत सुंदर लड़की थी और इंग्लिश लिटरेचर में पोस्ट ग्रेजुएट थी। हालाँकि, शहर में बसने से पहले ही भाग्य ने उसके जीवन में अपनी भूमिका निभाने का फैसला किया। परवीन को फिल्मों में लाने वाले बी.आर. इशारा थे वह शख्स जिसने नए अभिनेताओं की कास्टिंग करके और कुछ ऐसी विवादास्पद फिल्में बनाईं, जो उन विषयों पर आधारित थीं, जिन्हें बनाने की किसी निर्देशक ने कोशिश नहीं की थी। उनके साथ काम करने वाले कलाकारों में रीना रॉय, डैनी डेन्जोंगपा, अनिल धवन, रेहाना सुल्तान, आशा सचदेव, विजय अरोरा और यहां तक कि संघर्षरत अभिनेता जैसे अमिताभ बच्चन और जया भादुड़ी और देव आनंद और जीनत अमान जैसे दिग्गज कलाकार और बाद में तत्कालीन सुपरस्टार, राजेश खन्ना भी शामिल थे।

परवीन उनकी डिस्कवर लिस्ट में शामिल एक कलाकार थीं और उन्होंने उन्हें एक मॉडल के रूप में कास्ट किया, जिन्हें ‘चरित्रहीन’ नामक फिल्म में एक अभिनेत्री के रूप में खुद को साबित करने से ज्यादा अपने शरीर को दिखाना था। कोई भी बड़ा मेल स्टार बी. आर. इशारा या परवीन के साथ काम करने के लिए तैयार नहीं था, लेकिन इशारा हार मानने के लिए बिल्कुल तैयार नहीं थे। उन्होंने क्रिकेट के सबसे हैण्डसम ऑलराउंडर सलीम दुरानी को अपना हीरो चुना था। सलीम को एक ‘वुडेन एक्टर’ के रूप में खारिज कर दिया गया था, लेकिन यह परवीन थी जिन्होंने उन सभी के भावना को पकड़ा, जिन्होंने फिल्म देखी और लगभग हर ग्लैमर पत्रिका ने उन्हें अपने कवर पर लिया, जो मुंबई में सभी फिल्म निर्माताओं की जिज्ञासा को बढाता हैं।

परवीन ने खुद ही इस खेल को खेलने का फैसला किया

 ‘चरित्रहीन’ की रिलीज के बाद जो कुछ हुआ वह बहुत कम अभिनेत्रियों के साथ हुआ। परवीन ने खुद को तब रोक लिया था जब कुछ सबसे बड़े फिल्म निर्माता उनकी तलाश में आए थे और चाहते थे कि वे उन बड़ी फिल्मों में प्रमुख महिला की भूमिका निभाएं जो वे सभी बड़े मेल स्टार्स के साथ बनाई जा रही थी। वह नहीं जानती थी कि उनके लिए क्या अच्छा था और क्या बुरा। उनके पास ऐसे दोस्त या सलाहकार भी नहीं थे, जो उनका साथ दे और उनका सही तरीके से मार्गदर्शन कर सकें। उन्होंने खुद ही इस खेल को खेलने का फैसला किया और कई फिल्मों में से कुछ को साईन किया जो उन्हें ऑफर की गई थीं। कुछ ही समय में, वह मुंबई और दक्षिण दोनों में हिंदी में बनी फिल्मों में प्रमुख महिला की भूमिका निभा रही थीं। अमिताभ बच्चन के साथ उन्होंने जो सफल फिल्में कीं, वह किसी भी नायिका के लिए एक विशेषाधिकार की बात थी, विशेष रूप से तब जब परवीन बाॅबी एक नई अभिनेत्री थी जिन्होंने अमिताभ के साथ, ‘अमर अकबर एंथोनी’, ‘खुद्दार’, ‘कालिया’, ‘महान’ (जिसमें अमिताभ ने अपनी पहली और एकमात्र तिहरी भूमिका निभाई थी) और ‘शान’ जैसी फिल्में की थीं। अमिताभ और परवीन को सबसे सफल टीम माना जाता था और एक ऐसी टीम थी जिसने बॉक्स-ऑफिस के रिजल्ट में बहुत बड़ा बदलाव लाया था। उन्होंने जितनी भी फिल्में साथ कीं, वे हिट या सुपर हिट थीं।

वह तीन सबसे सफल अभिनेत्रियों में से एक थी। उन्होंने धर्मेन्द्र, जीतेन्द्र और सुपर स्टार राजेश खन्ना और अन्य प्रमुख अभिनेताओं के साथ फिल्में कीं, लेकिन यह केवल अमिताभ के साथ की गई फिल्में थीं, जिन्होंने बॉक्स ऑफिस पर अपना जादू दिखाया था। एक ऐसी भी स्टेज आई जब वह अपनी ग्लैमर छवि से बहुत खुश नहीं थी और कुछ बहुत अच्छे निर्देशकों द्वारा निर्देशित फिल्मे करना चाहती थी जो उनसे वास्तव में अभिनय करवा सकें। उन्होंने ऋषिकेश मुखर्जी में उस निर्देशक को पाया, जिसने उन्हें अमोल पालेकर और दीप्ति नवल के साथ उनकी सह-कलाकारों के रूप में अपनी एक टिपिकल फिल्म ‘रंग बिरंगी’ में कास्ट किया था।

मैं कल्पना नहीं कर सकती थी कि मैं स्वाभाविक रूप से अभिनय कर सकती हूं

परवीन ने कहा था, “यह मेरे लिए बहुत फ्रेश और उत्साहवर्धक अनुभव था। मैं कल्पना नहीं कर सकती थी कि मैं स्वाभाविक रूप से अभिनय कर सकती हूं, लेकिन यह ऋषिदा जैसे महान निर्देशक की निरंतर प्रेरणा थी और जिसने मुझे एक बहुत ही अलग अभिनेत्री, लगभग एक न्यूली बोर्न एक्ट्रेस बना दिया था। मैं ऋषिदा और उनके जैसे अन्य निर्देशकों के साथ काम करने की उम्मीद करती रही लेकिन नियति ने तो मेरे लिए कुछ और ही प्लान किया हुआ था।”

वह एक ऐसी स्टेज पर थी जहां पर उनकी एकमात्र कम्पेटिटर जीनत अमान थी जो रूलिंग ग्लैमर गर्ल थी जिसने राज कपूर, राज खोसला, रमेश सिप्पी, प्रकाश मेहरा और मनमोहन देसाई जैसे सभी बड़े निर्देशकों के साथ काम किया था। लेकिन एक समय था जब परवीन ने उसे पैसे के लिए एक रन दिया और उनमे असुरक्षा की भावना भी थी। जब तक परवीन मैदान में आईं, तब तक अमिताभ के साथ फिल्म बनाने वाले सभी फिल्मकार केवल जीनत को ही अपनी नायिका मान सकते थे, लेकिन परवीन ने इक्वेशन को बदल दिया। और वह अब भी इंडस्ट्री की लीडिंग ग्लैमर गर्ल मानी जाती है और जीनत और अन्य सभी एक्ट्रेस को उनके पीछे की सीट दी गई हैं।

उन्होंने भगवान रजनीश की ट्रिप्स में महेश को फॉलो किया

परवीन बॉबी

लेकिन नियति ने एक बार फिर उसके रास्ते में आकर उस तरह के खेल खेले जिनकी उन्होंने कभी उम्मीद तक नहीं की थी। उन्होंने प्रसिद्ध पुरुषों के लिए अपनी कमजोरी को दिखाना शुरू कर दिया था और अफेयर्स की उनकी एक लम्बी लिस्ट थी। यह सब कबीर बेदी के साथ शुरू हुआ था जो एक शादीशुदा आदमी थे लेकिन कबीर के सभी अफेयर्स की तरह उनका यह रिश्ता भी लंबे समय तक नहीं चला था। उसके बाद डैनी के साथ उनका रोमांटिक अफेयर चला था। उन्होंने लगभग फिल्मों को छोड़ने और डैनी से शादी करने का निर्णय ले लिया था लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उसके बाद वह एक अन्य मैरिड मैन महेश भट्ट के प्यार में पड़ गई थी और इस बार उसने माना कि उसने अपने जीवन के परम पुरुष को पा लिया है लेकिन एक बार फिर यह धीरे-धीरे साबित हो गया कि यह कहानी भी वैसी नहीं थी जैसी वह चाहती थी। उन्होंने भगवान रजनीश की ट्रिप्स में महेश को फॉलो किया और जब भगवान से उनका मोहभंग हुआ तो उन्होंने अपनी ‘भक्ति’ को एक अन्य स्पिरिचुअल लीडर और सेल्फ प्रोक्लेम फिलाॅसफर, यू.जी.कृष्णमूर्ति कि ओर शिफ्ट कर दिया था और उस समय के दौरान वह निडर हो गई थी और उन्होंने रमेश सिप्पी की फिल्म ‘शान’ की शूटिंग छोड़ दी थी जिसका एक विशाल सेट था और जिसमे सुनील दत्त, शशि कपूर, अमिताभ बच्चन, बिंदिया गोस्वामी और दो नए कलाकारों, कुलभूषण खरबंदा (जो एक खलनायक शाकाल के रूप में अपनी शुरुआत कर रहे थे) और मजहर (जो जीनत अमान से शादी करने वाले थे, जो उनसे कई साल बड़ी थी) जैसे कलाकारों की डेट्स थीं।

 परवीन गायब हो गईं और निर्माताओं को सेट पर खड़े रहने और शूटिंग को स्थगित करने के कारण भारी नुकसान का सामना करना पड़ा, जिसका मतलब था कि फिल्म के लिए ‘हत्या’ करना एक लंबा विलंब था।

परवीन बॉबी

परवीन गायब हो गईं और निर्माताओं को सेट पर खड़े रहने और शूटिंग को पोस्टपपौंड करने के कारण भारी नुकसान का सामना करना पड़ा था, जिसका मतलब था कि एक लॉन्ग डिले जो फिल्म के बंद होने की तरह था। वह आखिरकार महेश के साथ अमेरिका में कहीं देखी गई थी। परवीन के इस नए वर्शन को देखकर निर्माता चैंक गए थे। वह ड्रग्स, सिगरेट, शराब ज्यादा लेने लगी थी, लेकिन ‘शान’ के निर्माता को उनकी जरुरत थी क्योंकि उन्हें फिल्म के टाइटल सोंग को उनके साथ शूट करना था। उन्हें वापस लाना बहुत मुश्किल था और यहां तक कि जब वह वापस आई, तब भी वह कैमरे का सामना करने की स्थिति में नहीं थी क्योंकि उसके शरीर ने उनका साथ देने से इंकार कर दिया था। साॅग, ‘प्यार करने वाले जीते हैं शान से, मरते हैं शान से’ का चित्रण बड़ी मुश्किल से और कई दिनों में किया गया था। परवीन के बारे में खबरें इंडस्ट्री में तेजी से फैलती गईं और किसी को भी उनसे कोई सहानुभूति नहीं हुई, इसके विपरीत, उन्हें उन सभी अन्य फिल्मों से हटा दिया गया, जिनमे उन्हें साईन किया गया था। वे उस महिला के साथ कोई भी रिस्क नहीं लेना चाहते थे जिसने खुद को पूरी तरह से नष्ट कर लिया था।

हालांकि नियति ने उनके जीवन में तबाही मचाना जारी रखा। वह वैरागी बन गई थी। वह बदसूरत हो गई थी और उन्होंने अपनी पहचान खो दी थी। यहां तक कि जब उन्होंने मीडिया को फोन किया तो उनको पहचानने तक से इंकार कर दिया गया था। और उन्होंने जल्द यह एक्सेप्ट किया था कि वह अपनी इस हालत कि खुद जिम्मेदार थीं।

जुहू में कलुमल एस्टेट में उनका विशाल अपार्टमेंट एक बुरी हालत में था। वह दिनों तक अपने घर से बाहर नहीं निकली और न कुछ खाया न पिया। यह कई दिनों के बाद था कि उनके अपार्टमेंट से बहुत गन्दी बदबू आ रही थी। पुलिस और फायर ब्रिगेड को बुलाया गया था। उनका दरवाजा तोडा गया और वह एक भयानक स्थिति में पाई गई थी एक ऐसी अवस्था जिसमें वह तीन दिन तक पड़ी रही थी और उन्हें मृत घोषित कर दिया गया था। यह एक अभिनेत्री के लिए आया सबसे अधिक खतरनाक अंत था।

परवीन बाबी के बारे में और अधिक बाते!

परवीन बॉबी

उनके पास कुछ सर्वश्रेष्ठ पुस्तकों का एक बड़ा कलेक्शन था जिसके बारे में उन्होंने हमेशा कहा था कि वह उन्हें सच में पढ़ती हैं न कि उन्हें उन्होंने अपनी लाइब्रेरी में शो के लिए रखा है जैसे इंडस्ट्री में कई लोग करते हैं, पुस्तकों का सजावट के रूप में उपयोग करते हैं।

वह गुजरात के जूनागढ़ के शाही परिवार से ताल्लुक रखती थी और यहां तक कि पूर्व राज्य के राजकुमारों की इमीडीअट लाइन में थी

उन्होंने शोर्ट स्टोरीज और कविताएँ लिखने में अपना हाथ आजमाया था लेकिन उनमें से ज्यादातर सिर्फ उनके अकेलेपन और उनके अविश्वास के प्रति उनके भाव थे।

वह यात्रा करना पसंद करती थी और अपनी कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण शूटिंग के बीच भी दूर और अज्ञात स्थानों के लिए रवाना हो जाया करती थी

उनके पास जुहू में कलुमल एस्टेट में एक विशाल अपार्टमेंट था जहाँ डैनी उसके पड़ोसी थे और एक छोटा लड़का अजय देवगन था, जिसके साथ वह खेलती थी

जब वह अपने करियर की शुरूआत कर रही थीं, तब वह इतनी खूबसूरत थीं कि उन्होंने ‘टाइम’ मैगजीन के प्रतिष्ठित कवर में अपनी जगह बनाई थी। यह अनूठी उपलब्धि हासिल करने वाली वह पहली भारतीय अभिनेत्री थीं

वह शुरूआत में अकेले रहना पसंद करती थी लेकिन जल्द ही उसे बुजुर्ग पुरुषों की संगति में मिल गई थी

उन्हें चित्रकारी और अन्य प्रकार के सजावट की चीजे बहुत पसंद थी, जिससे उनका घर अच्छा लगता था

उनके पास वेद शर्मा नाम का एक सेक्रेटरी था जो उनके व्यवसाय और यहां तक कि उनके विशाल अपार्टमेंट की देखभाल करता था।

वह हमेशा एक अच्छी अभिनेत्री के रूप में जानी जाती थी और शबाना, स्मिता और दीप्ति नवल जैसी अन्य अभिनेत्रियों की प्रशंसा करती थी। और उन्होंने हमेशा पूछा था, मुझे उनके जैसी भूमिकाएँ कब मिलेंगी और कब एक अच्छी अभिनेत्री के रूप में पहचान मिलेगी? जब महेश भट्ट ने उनसे नाता तोड़ लिया था तो वह बहुत परेशान थी और महेश ने उनकी पर्सनल स्टोरी का फायदा उठाया था और ‘अर्थ’ नामक फिल्म बनाई थी जिसमे शबाना ने पत्नी का किरदार निभाया और स्मिता ने हिरोइन का और दूसरी महिला जो महेश के साथ बिताए जीवन का प्रतिबिंब थी, उनका मानना था कि महेश के साथ फिर कभी उनका कोई लेना-देना नहीं रहा था।

उनके पास मुंबई में एक बड़ी प्रॉपर्टी थी और उन्हें जूनागढ़ की प्रॉपर्टी से भी एक बड़ा हिस्सा मिलना था

उनकी मौत के पीछे के रहस्य की अभी भी जांच की जा रही है और विभिन्न लोगों द्वारा दायर किए गए मामले हैं, जो उनसे संबंधित होने का दावा करते हैं और मुंबई और जूनागढ़ में विभिन्न अदालतों से अपील करते है कि वह उनकी मौजूदा धन और संपत्ति को उन्हें सौंप दें।

जुहू के उस मुस्लिम कब्रिस्तान में तब सिर्फ तीन या चार लोग थे जब उन्हें दफनाया गया था। केवल उनका पूर्व ‘प्रेमी’ वहा मौजूद था जिसका नाम डैनी था। अन्य सभी प्रेमियों और पूरे उद्योग ने उन्हें सबसे लोकप्रिय सितारों में से एक के रूप में माना है। एक पुरुष या एक महिला सिर्फ तब तक मेटर करते है जब तक वह जिंदा है और अच्छा काम कर रहे है या लाभदायक है और दूसरों के लिए एक व्यावसायिक प्रस्ताव है, और व्यापार दे रहे है।

अनु- छवि शर्मा 

Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये