कवि अमिताभ

1 min


जिस तरह इंसान के ‘जेन’ में मां-बाप के गुण स्वत: आ जाते हैं कुछ ही उसी तरह अमिताभ के अंदर कवि रूप जन्मगत है। पिता हरिवंशराय बच्चन उच्चश्रेणी के कवि थे। पिता के गुण अमिताभ में भी हैं।

remote_image_1326198859

अगर वह बड़े स्टार न बन गये होते तो बहुत संभव है वह आज उच्च स्तर के कवि होते और उनकी कविताएं स्कूल कॉलेजों में पढ़ाई जाती। फुर्सत के पलों में यह महान कलाकार कविताएं लिखकर मन के भाव व्यक्त किया करता है। वह गाते भी हैं जो सब जानते हैं मगर लिखते भी हैं, यह कम लोग जानते हैं। सो, आप भी जान लीजिये कि प्रतिभा भी विरासत में आती है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये