2007 के कश्मीर से रूबरू कराएगी फिल्म ‘नोटबुक’   

1 min


कश्मीर की पृष्ठभूमि में स्थापित “नोटबुक ” दर्शकों को एक रोमांटिक सफ़र पर ले जाएगी, जिसे देख कर आपके जहन में सवाल उमड़ पड़ेगा कि, क्या आप किसी ऐसे व्यक्ति के साथ प्यार में पड़ सकते हैं जिससे आप कभी मिले नहीं है।

फिल्म ‘नोटबुक’ की कहानी साल 2007 में कश्मीर के भीतर जो हालत थे उस समय की है। उस समय कई बार इंटरनेट, फ़ोन और सोशल मीडिया इस्तेमाल करना मना था, इसीलिए लोग अपने संदेश पहुंचाने के लिए लेटर या आदि संसाधनों का इस्तेमाल किया करते थे। कई लोग सोशल मीडिया की जगह अपनी भावनाएं ‘नोटबुक’ में लिखा करते थे  तथा आज भी लोग नोटबुक इस्तेमाल करते है ।

फिल्म की कहानी में यह दिखाया गया है की एक नोटबुक के जरिये दो अजनबियों  को प्यार हो जाता है, और खूब प्रयास के बाद वे कैसे मिलते है।

फिल्म ‘नोटबुक’ को कश्मीर की खूबसूरत घाटियों में फ़िल्माया गया है, जिसमें दो प्रेमी फिरदौस और कबीर की प्रामाणिक प्रेम कहानी के साथ-साथ बाल कलाकारों की दमदार कास्टिंग देखने मिलेगी जो कहानी में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

नितिन कक्कड़ द्वारा निर्देशित यह फ़िल्म सलमान खान, मुराद खेतानी और अश्विन वर्दे द्वारा निर्मित है। फ़िल्म “नोटबुक” 29 मार्च, 2019 को रिलीज होने के लिए तैयार है।

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज FacebookTwitter और Instagram पर जा सकते हैं.

SHARE

Mayapuri