प्रेम किशन एक मेहनती कलाकार

1 min


2003101600300201

 

मायापुरी अंक 47,1975

इधर प्रेमनाथ का तो यह हाल है, उधर उनका बेटा प्रेम किशन मेहनत करके जल्दी ही स्टार बनने वाला है। ‘जान हाजिर है’ भले ही फ्लॉप हो गई हो लेकिन प्रेम किशन को काम मिलना शुरू हो गया है। प्रेम किशन ने किसी से ट्रेनिंग नहीं ली है। हां, घर पर प्रोजेक्टर रखा हुआ है और पुरानी फिल्में देख-देख कर काम सीखा है। इसलिए दिलीप कुमार, राज कपूर, शम्मी कपूर वगैरह को उनका गुरू कहा जाये तो गलत न होगा। उस दिन एक बड़ी दिलचस्प घटना हुई।

शम्मी कपूर और प्रेम किशन एक ही बिल्डिंग में रहते हैं। प्रेम किशन घर में बैठा थे कि किसी ने घंटी बजाई प्रेम किशन ने उठकर दरवाजा़ खोला तो सामने शम्मी कपूर खड़े थे। प्रेम किशन ने झट से झुक कर पांव को हाथ लगाया। लेकिन शम्मी कपूर ने खुश होने की बजाये जोर से उन्हें धक्का दिया। प्रेम किशन गिरते-गिरते बचे अभी वह संभल भी न पाये थे कि एक और धक्का पड़ा बेचारे बहुत हैरान थे, उससे भला क्या कसूर हुआ है?और शम्मी कपूर थे कि उन्हें धक्का देते-देते बीच कमरे में ले आये और जब देखा कि वह बहुत ही घबरा गये हैं तो वह ‘जान हाजिर’ है का यह गाना गाते-गाते नाचने लगे, मेरी छमक छल्लो ठुमक ठुमक यूं न चलो ले.. ले.. जान हाजिर है।

अब प्रेम किशन समझे, यह सब मजाक था। उन्होंने सुख की सांस ली। थोड़ी देर बाद शम्मी कपूर ने नाचना बंद किया और खुशी से बोले,बच्चे! अभी अभी तुम्हारी पिक्चर देखकर आ रहा हूं। अच्छा काम किया है तूने.. मुझे बड़ी खुशी है।

इस तरह शम्मी कपूर ने अपने निराले ढंग से मुबारक बाद दी। प्रेम किशन को ऐसी खुशी बहुत कम ही मिली होगी?


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये