प्रेम नाम है मेरा-प्रेम चोपड़ा

1 min


0

Untitled-1

भारतीय फिल्म उद्योग एक ऐसी मायानगरी, जहां लोग सपने लेकर आते है। उनकी मुट्ठी में सपनों की वो थैली होती है, जिसमें हीरो, हीरोइन, डायरेक्टर, गायक और ना जाने क्या-क्या बनने के सपने भरे होते है। ऐसा ही एक खूबसूरत बांका जवान प्रेम चोपड़ा, जब मुंबई की इस मायानगरी में आया तो उसके भी कई अरमान थे। ख्यालों के पंखो पर भारतीय रजत पट का सुनहरा पर्दा था।

पहले दिन होटल नोवोटल में वो मेरे साथ थे। खूब अतरंग बातों बातों में उन्होंने अपने कुछ पुराने लम्हों को मेरे साथ सांझा किया। उम्र जब पीछे मुड़कर देखती है तो उसे हर वो बात याद आ जाती है, जो उसके साथ जुड़ी होती है।

हरविन्द्र जी वो जमाना कुछ और ही था। नई जवानी के रंग साथ में थे। और हीरो बनने की एक चाह, हमेशा से हावी रहती थी। एक खास वाक्या, जो मुझे आज तक नही भूला, वो मैं आज आपके व मायापुरी फिल्म पत्रिका के पाठकों के साथ साझां करना चाहूंगा।

बात है ‘सपनी फिल्म के समय का। पंजाबी फिल्म थी और मैं उसमें हीरो का रोल निभा रहा था। उस जमाने में आज जैसी टैक्नोलॉजी नही थी। फिल्मों का रॉ-स्टाक काफी मंहगा हुआ करता था। सो ज्यादा रिटेक देने पर अक्सर डायरेक्टर व प्रोड्यूसर भड़क जाया करते थे।

फिल्म की 12 या 13 रील बन चुकी थी। एक दिन जब मैं सेट पर आया तो मुझे बताया गया कि आप मैंने पिटारी में से सांप निकालने का शॉट देना है। एक बात मैं आपको बता दूं कि सांप के नाम से मैं आज तक कांपता हूं। और जिंदा सांप को हाथ में पकड़ना सवाल ही पैदा नही होता। पर जनाब, क्या करें, सीन की डिमांड है करना पड़ेगा डायरेक्टर चिल्ला रहा है वो एक्शन बोले, मेरा हाथ पिटारी की तरफ बढ़े पर आधे रास्ते तक जाते जाते रुक जाये मालूम था कि अंदर जिंदा सांप है फिर रिटेक फिर रिटेक आखिरकार मेरी हिम्मत का रहा हां दम उस समय निकल गया। जब मैंने देखा कि सामने वाले विलेन ने जो सांप हाथ में पकड़ा था, उसने उसे काट लिया। फिर क्या था मैं भाग खड़ा हुआ मैं आगे आगे डायरेक्टर पीछे पीछे प्रोड्यूसर उसके पीछे मैंने कहा कि मुझे फिल्म ही नही करनी है। पर12-13 रील बन चुकी फिल्म का हीरो बदलना इतना आसान नही था। खैर बात तब बनी, जब वो मेरे हाथ में नकली सांप देने को राजी हुए।

जिंदगी के ऐसे कई खूबसूरत व यादगार लम्हों की उस रात में हम सुनते रहें और वो कहते रहे। यादों के खजाने से और मोती लेकर हम आपसे रूबरू होते रहेंगे यह मेरा वादा है।


Mayapuri