अर्जुन कपूर की भरपूर मर्दानगी वाली अदा ही उनके काम आ गयी

1 min


Arjun-kapoor.gif?fit=650%2C450&ssl=1

फ़िल्म ‘की एंड का’ में दर्शकों ने माचो हैंडसम अर्जुन कपूर को घरगुती कामों को चाव से करते देखा तो उन्हें एक सीख मिली की हट्टे कट्टे मर्दों को भी घर गृहस्थी के काम करने से बिल्कुल शर्माना नहीं चाहिए, और यही सीख दुनिया भर के मर्दों को देने के लिये ही इस फिल्म के मेकर आर बाल्की ने इस फ़िल्म के हीरो के रूप मे एक ऐसे हट्टे कट्टे, रफ एंड टफ हीरो को साइन करने का मन बनाया था जिसमे किसी भी एंगल से स्त्रियोचित्त कोई हाव भाव या गुण ना हो।

बाल्की के इस ख्याल में सिर्फ और सिर्फ अर्जुन कपूर ही फिट बैठा था। उन्होंने अर्जुन को मिलने के लिये बुलवाया और मुलाकात होने पर जो पहला प्रश्न उन्होंने अर्जुन से पूछा वो यह था “क्या तुमने कभी घर में झाड़ू लगाया ? कभी घर मे पोछा लगाया ? कभी खाना बनाया ? ” अर्जुन ने सर खुजाते हुए कहा, ” कभी नहीं”। यह सुनते ही बाल्की साहब ने तुरन्त उन्हें, ‘ की एंड का’ के लिये साइन कर लिया। दरअसल बाल्की साहब दुनिया के सामने यही मैसेज देना चाहते थे कि चाहे मर्द कितना भी मर्दाना क्यों ना हो, चाहे जिंदगी मे घर गृहस्थी के कामों में कभी हाथ ना लगाया हो लेकिन वक्त पड़ने पर उसे घर के काम करने में ना शर्माना चाहिये ना पीछे हटना चाहिये। तो अब हम स्त्रियां मिलकर आर बाल्की जी को इस खूबसूरत मैसज वाली फ़िल्म बनाने के लिये दिल से दुआएं और धन्यवाद देते हुए अपने अपने पतिदेव या ब्वॉयफ्रेंड को सरप्राइज़ गिफ्ट के तौर पर इस फ़िल्म की टिकटें दें ???

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये