राज ठाकरे ने गुजराती फिल्मों को ना लगाने की धमकी देकर अपना साम्प्रदायिक जहर फिर उगला

1 min


कुछ लोग कभी नही सुधरते और उनमे से एक हैं राज ठाकरे। राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) ने सिनेमाघरों को धम‍की दी है कि गुजराती और अन्य क्षेत्रीय फिल्मों को प्राइम स्लॉट में जगह नहीं दी जाए, यह समय केवल मराठी फिल्मों के लिए रखा जाए। एमएनएस महिला विंग की सचिव सिदिद्धा मोरे ने कहा, ‘हम गुजराती और अन्य क्षेत्रीय फिल्मों की प्राइम टाइम में स्क्र‍ीनिंग के खि‍लाफ जमकर प्रदर्शन करेंगे। यह विरोध प्रदर्शन केवल कुछ इलाकों में ही नहीं बल्कि शहरों में और पूरे राज्यों में किया जाएगा। अगर थि‍एटर और मल्टीप्लेक्स ने हमारी मांगों को नहीं माना तो इसके बाद हम नए ढंग से प्रदर्शन करेंगे।’

पिछले हफ्ते गुजराती बहुलता वाले इलाके बोरीवली में गज्जुभाई की स्क्र‍ीनिंग के खिलाफ एमएनएस कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया। अब इनको कौन समझाए की कब तक भाषा के नाम पर हिंदुस्तान में जहर बीजते रहेंगे। फिल्में सबकी सांझी होती हैं, सबको अपनी मर्जी की फिल्म देखने का अधिकार है।

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये